Home   »   प्रोजेक्ट टाइगर का हाथी प्रोजेक्ट में...

प्रोजेक्ट टाइगर का हाथी प्रोजेक्ट में विलय : जानिए मुख्य खबर

प्रोजेक्ट टाइगर का हाथी प्रोजेक्ट में विलय : जानिए मुख्य खबर |_30.1

भारत में वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय (MoEFCC) ने ‘प्रोजेक्ट टाइगर एंड एलिफैंट डिवीजन’ नामक नए डिवीजन के तहत प्रोजेक्ट टाइगर और प्रोजेक्ट एलिफैंट को मिला दिया गया है। हाल ही में प्रधानमंत्री ने प्रोजेक्ट टाइगर के 50वें वर्षगांठ पर इसकी सफलता की प्रशंसा भी की है।

इसी तरह का एक प्रस्ताव 2011 में प्रोजेक्ट टाइगर, प्रोजेक्ट एलीफेंट और इंटीग्रेटेड डेवलपमेंट को वाइल्डलाइफ हैबिटेट के तहत मिलाने के लिए किया गया था। हालांकि, राष्ट्रीय वन्यजीव स्थायी समिति के विशेषज्ञों की आपत्तियों के बाद इस योजना को छोड़ दिया गया था।

बाघ संरक्षण के लिए वास्तविक धन आवंटन 2018-19 से घट रहा है, और 2023-24 में प्रोजेक्ट टाइगर और प्रोजेक्ट एलीफेंट का समामेलित बजट पिछले वर्ष के संयुक्त बजट से कम है। जबकि विलय का उद्देश्य दोनों कार्यक्रमों के साथ क्षेत्रों में ओवरलैप को कम करके वित्त पोषण को तर्कसंगत बनाना और संरक्षण में सुधार करना है, धन की कमी और फंड डिवीजन के बारे में भ्रम ने विशेषज्ञों के बीच चिंता पैदा कर दी है।

प्रोजेक्ट एलीफेंट

प्रोजेक्ट टाइगर का हाथी प्रोजेक्ट में विलय : जानिए मुख्य खबर |_40.1

पर्यावरण और वन मंत्रालय ने 1992 में प्रोजेक्ट एलिफैंट की शुरुआत की, जिसका उद्देश्य वन्य एशियाई हाथियों के स्वतंत्र प्रचारी जनसंख्याओं के प्रबंधन के प्रयासों में राज्यों को वित्तीय और तकनीकी सहायता प्रदान करना था। इस परियोजना का प्राथमिक उद्देश्य है हाथियों के प्राकृतिक निवास स्थलों में उनके दीर्घकालिक अस्तित्व की सुरक्षा सुनिश्चित करके, जिसमें जानवरों और उनके निवास स्थलों, समांतर गतिविधियों सहित, की संरक्षण की गरन्टी हो। इसके अलावा, प्रोजेक्ट एलिफैंट का ध्यान वन्यजीवन एवं प्रबंधन से संबंधित अनुसंधान को समर्थन प्रदान करने, स्थानीय समुदायों के बीच संरक्षण के प्रति जागरूकता को बढ़ाने, और बंदी हुए हाथियों के लिए पशुचिकित्सा की देखभाल को बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित करता है।

प्रोजेक्ट टाइगर

प्रोजेक्ट टाइगर का हाथी प्रोजेक्ट में विलय : जानिए मुख्य खबर |_50.1

 

भारत सरकार ने 1 अप्रैल, 1973 को प्रोजेक्ट टाइगर की शुरुआत की। यह संरक्षण पहल बंगाल टाइगर और उसके प्राकृतिक आवासों की सुरक्षा पर केंद्रित है, जिसका उद्देश्य देश की प्राकृतिक विरासत के हिस्से के रूप में पारिस्थितिक रूप से महत्वपूर्ण क्षेत्रों को संरक्षित करते हुए प्रजातियों के विलुप्त होने को रोकना है। इस परियोजना के अंतर्गत निर्धारित बाघ अभयारण्य को मुख्य प्रजनन क्षेत्रों के रूप में विचार किया गया है, जो अतिरिक्त बाघ आसपास के जंगलों में स्थानांतरित हो सकते हैं। इस महत्वाकांक्षी कार्यक्रम के तहत योग्य वित्तीय सहायता और समर्पण को एकत्रित किया गया था ताकि इसके अधिक से अधिक संरक्षण और पुनर्वास की संभावना हो सके।

संरक्षण प्रयासों की चुनौतियाँ

वन्यजीवन विशेषज्ञों का कहना है कि दोनों प्रोजेक्ट्स के अलग-अलग चुनौतियाँ हैं, और उन्हें एक साथ मिला देने से दोनों प्रतीकात्मक प्रजातियों के संरक्षण को कमजोर किया जा सकता है। नेशनल टाइगर कंसर्वेशन अथॉरिटी, जो पहले से ही कुछ क्षेत्रों में तेंदुए और गैंडे का प्रबंधन करती है, विभिन्न प्रजातियों के साथ निपटने का अनुभव रखती है।

भारत की जैव विविधता के लिए बाघों और हाथियों दोनों का संरक्षण महत्वपूर्ण है, और वन्यजीव विशेषज्ञों को डर है कि धन आवंटन के बारे में स्पष्टता की कमी उनके संरक्षण कार्यक्रमों को काफी प्रभावित कर सकती है।

प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए मुख्य बातें

  • केंद्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के मंत्री: भूपेंद्र यादव
  • राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण के अध्यक्ष: प्रकाश जावड़ेकर

 Find More Miscellaneous News Here

 

प्रोजेक्ट टाइगर का हाथी प्रोजेक्ट में विलय : जानिए मुख्य खबर |_60.1

FAQs

राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण के अध्यक्ष कौन हैं ?

राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण के अध्यक्ष प्रकाश जावड़ेकर हैं।