Home   »   कोच्चि में 4,000 करोड़ रुपये से...

कोच्चि में 4,000 करोड़ रुपये से अधिक की परियोजनाओं का उद्घाटन

कोच्चि में 4,000 करोड़ रुपये से अधिक की परियोजनाओं का उद्घाटन |_30.1

प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने कोच्चि, केरल में तीन महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचा परियोजनाओं का उद्घाटन किया, जो भारत के बंदरगाहों, शिपिंग और जलमार्ग क्षेत्र को बदलने की दिशा में एक महत्वपूर्ण प्रगति का संकेत है। कुल मिलाकर 4,000 करोड़ रुपये से अधिक की ये परियोजनाएं देश की समुद्री क्षमताओं को बढ़ाने और आत्मनिर्भरता को बढ़ावा देने के प्रधान मंत्री के दृष्टिकोण के अनुरूप हैं।

 

कोचीन शिपयार्ड लिमिटेड (सीएसएल) में नया ड्राई डॉक (एनडीडी)

उद्घाटन में कोचीन शिपयार्ड लिमिटेड में न्यू ड्राई डॉक (एनडीडी) का अनावरण शामिल था, जो एक राष्ट्रीय गौरव और एक इंजीनियरिंग चमत्कार है। 310 मीटर की लंबाई और ₹1799 करोड़ के निवेश से निर्मित, एनडीडी विमान वाहक और अन्य महत्वपूर्ण जहाजों सहित बड़े जहाजों को समायोजित करने के लिए तैयार है। यह रणनीतिक संपत्ति आपातकालीन स्थितियों के लिए महत्वपूर्ण क्षमताओं से सुसज्जित है, जो भारत की इंजीनियरिंग कौशल और तकनीकी नवाचार के प्रति प्रतिबद्धता को दर्शाती है।

 

सीएसएल की अंतर्राष्ट्रीय जहाज मरम्मत सुविधा (आईएसआरएफ)

भारत के पहले पूर्ण रूप से विकसित शुद्ध जहाज मरम्मत पारिस्थितिकी तंत्र, अंतर्राष्ट्रीय जहाज मरम्मत सुविधा (आईएसआरएफ) का भी उद्घाटन किया गया। ₹970 करोड़ के निवेश का प्रतिनिधित्व करते हुए, ISRF देश के जहाज मरम्मत उद्योग में 25% क्षमता जोड़ेगा। विलिंग्डन द्वीप, कोच्चि में स्थित, आईएसआरएफ का लक्ष्य सीएसएल की मौजूदा जहाज मरम्मत क्षमताओं का आधुनिकीकरण और विस्तार करना है, जिससे खुद को वैश्विक जहाज मरम्मत केंद्र के रूप में स्थापित किया जा सके। यह सुविधा आपात स्थिति के दौरान भारत के नौसेना और तटरक्षक जहाजों की योजनाबद्ध मरम्मत के लिए महत्वपूर्ण है, जिससे भारत की समुद्री तैयारी बढ़ती है।

 

इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड का एलपीजी आयात टर्मिनल

उद्घाटन की गई तीसरी परियोजना कोच्चि के पुथुवाइपीन में इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (IOCL) का एलपीजी आयात टर्मिनल था। अत्याधुनिक बुनियादी ढांचे और 15,400 मीट्रिक टन की भंडारण क्षमता वाले इस टर्मिनल का लक्ष्य 1.2 एमएमटीपीए का कारोबार हासिल करना है। यह एलपीजी की निरंतर आपूर्ति सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा, जिससे क्षेत्र के लाखों परिवारों और व्यवसायों को लाभ होगा। 3.5 किमी क्रॉस कंट्री पाइपलाइन के माध्यम से टर्मिनल की कनेक्टिविटी इसके रणनीतिक महत्व पर और जोर देती है।

 

‘विकसित भारत’ और समुद्री विकास का विज़न

प्रधान मंत्री मोदी ने ‘विकसित भारत’ (विकसित भारत) के दृष्टिकोण को साकार करने में इन परियोजनाओं की भूमिका को रेखांकित किया। उन्होंने पिछले दशक में बंदरगाहों, शिपिंग और जलमार्ग क्षेत्र में सुधारों और प्रगति पर प्रकाश डाला, जिसके परिणामस्वरूप निवेश, रोजगार के अवसर और विकास में वृद्धि हुई है। प्रधानमंत्री ने मध्य पूर्व-यूरोप आर्थिक गलियारे जैसे समझौतों का जिक्र करते हुए वैश्विक व्यापार में भारत की समुद्री ताकत के महत्व पर जोर दिया।

 

समुद्री अमृत काल विजन 2047 और भविष्य की पहल

प्रधान मंत्री ने हाल ही में लॉन्च किए गए समुद्री अमृत काल विजन 2047 पर चर्चा की, जो भारत की समुद्री शक्ति को मजबूत करने का एक रोडमैप है। उन्होंने मेगा बंदरगाहों, जहाज निर्माण और जहाज-मरम्मत बुनियादी ढांचे के निर्माण के लिए सरकार की प्रतिबद्धता दोहराई। इन पहलों के महत्व को रेखांकित करते हुए, केंद्रीय बंदरगाह, जहाजरानी और जलमार्ग मंत्री, श्री सर्बानंद सोनोवाल ने साझा किया कि इनसे लगभग ₹45,000 करोड़ का निवेश आने की उम्मीद है।

 

कोच्चि में 4,000 करोड़ रुपये से अधिक की परियोजनाओं का उद्घाटन |_40.1

FAQs

केरल की राजधानी कहां है?

तिरुवनन्तपुरम (तिरु-अनन्तपुरम) या त्रिवेंद्रम भारत के केरल राज्य का सबसे बड़ा नगर और राजधानी है।