Home   »   पीएम मोदी ने किया PRITHvi VIgyan...

पीएम मोदी ने किया PRITHvi VIgyan योजना का अनावरण

पीएम मोदी ने किया PRITHvi VIgyan योजना का अनावरण |_30.1

प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय की एक व्यापक योजना, PRITHVI (PRITHvi VIgyan) नामक एक महत्वाकांक्षी पहल शुरू की है।

PRITHVI योजना का परिचय

प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत सरकार ने पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय की एक व्यापक योजना, PRITHVI (PRITHvi VIgyan) नामक एक महत्वाकांक्षी पहल शुरू की है। 4,797 करोड़ रुपये के महत्वपूर्ण बजट के साथ, यह कार्यक्रम 2021-26 तक चलेगा, जो भारत में पृथ्वी विज्ञान के अध्ययन और समझ में एक नए युग का प्रतीक है।

PRITHVI योजना के उद्देश्य

PRITHVI योजना का उद्देश्य विभिन्न पृथ्वी प्रणालियों के साथ हमारी समझ और बातचीत में क्रांतिकारी परिवर्तन लाना है। इसके उद्देश्यों में शामिल हैं:

  • दीर्घकालिक अवलोकन: आवश्यक परिवर्तनों को ट्रैक करने और रिकॉर्ड करने के लिए पृथ्वी के वायुमंडल, महासागरों, भूमंडल, क्रायोस्फीयर और ठोस पृथ्वी की निरंतर निगरानी को मजबूत करना।
  • मॉडल विकास: मौसम, समुद्री और जलवायु संबंधी खतरों के बेहतर पूर्वानुमान के लिए उन्नत मॉडल बनाना और जलवायु परिवर्तन की समझ को गहरा करना।
  • ध्रुवीय और महासागरीय अन्वेषण: नई घटनाओं और संसाधनों की खोज के लिए अज्ञात ध्रुवीय क्षेत्रों और गहरे समुद्रों में उद्यम करना।
  • प्रौद्योगिकी उन्नति: समुद्री संसाधनों के सतत दोहन के लिए प्रौद्योगिकियों का आविष्कार करना, जिससे समाज को लाभ हो।
  • ज्ञान परिवर्तन: वैज्ञानिक अंतर्दृष्टि को सामाजिक, पर्यावरणीय और आर्थिक लाभों के लिए व्यावहारिक सेवाओं में परिवर्तित करना।

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय की भूमिका

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय (एमओईएस) इस पहल में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, जो वैज्ञानिक ज्ञान को समाज के लिए मूल्यवान सेवाओं में परिवर्तित करता है। इन सेवाओं में शामिल हैं:

  • मौसम के पूर्वानुमान और चेतावनियाँ।
  • चक्रवात, बाढ़ और सुनामी जैसी प्राकृतिक आपदाओं के लिए अलर्ट।
  • भूकंप की निगरानी और अन्य।

इस संबंध में एमओईएस का कार्य प्राकृतिक आपदाओं के दौरान जान बचाने और संपत्ति की क्षति को कम करने में सहायक रहा है।

पृथ्वी योजना: परिचालन और अनुसंधान ढांचा

एमओईएस दस प्रतिष्ठित संस्थानों के माध्यम से अपनी अनुसंधान और परिचालन गतिविधियाँ संचालित करता है, जिनमें शामिल हैं:

  • भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी)
  • राष्ट्रीय मध्यम अवधि मौसम पूर्वानुमान केंद्र (एनसीएमआरडब्ल्यूएफ)
  • समुद्री जीवन संसाधन और पारिस्थितिकी केंद्र (सीएमएलआरई) और अन्य

ये संस्थान अभूतपूर्व अनुसंधान करने और आवश्यक सेवाएं प्रदान करने के लिए, अनुसंधान जहाजों के एक बेड़े द्वारा समर्थित, मिलकर काम करते हैं।

PRITHVI प्रणाली विज्ञान: एक बहुविषयक दृष्टिकोण

PRITHVI प्रणाली विज्ञान में पृथ्वी के वायुमंडल, जलमंडल, भूमंडल, क्रायोस्फीयर और जीवमंडल का व्यापक अध्ययन शामिल है। एमओईएस की PRITHVI योजना इन विषयों के लिए एक समग्र दृष्टिकोण अपनाती है, PRITHVI विज्ञान की गहरी समझ के लिए उनकी जटिल अंतःक्रियाओं को एकीकृत करती है।

PRITHVI का प्रभाव

पृथ्वी विज्ञान के तहत विभिन्न विषयों को एकीकृत करने, एकीकृत, बहु-विषयक अनुसंधान को बढ़ावा देने का वादा करता है। इस सहयोगात्मक प्रयास का उद्देश्य मौसम, जलवायु, समुद्र विज्ञान, क्रायोस्फेरिक अध्ययन, भूकंप विज्ञान और टिकाऊ संसाधन उपयोग में महत्वपूर्ण चुनौतियों का समाधान करना है।

निष्कर्षतः, PRITHVI योजना भारत में पृथ्वी विज्ञान के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि का प्रतिनिधित्व करती है। यह न केवल पृथ्वी की जटिल प्रणालियों के बारे में हमारी समझ को बढ़ाता है बल्कि यह भी सुनिश्चित करता है कि यह ज्ञान सामाजिक लाभ के लिए व्यावहारिक अनुप्रयोगों में बदल जाए। अपने व्यापक दृष्टिकोण और मजबूत ढांचे के साथ, पृथ्वी हम अपने ग्रह के साथ कैसे बातचीत करते हैं और कैसे समझते हैं, इस पर स्थायी प्रभाव डालने के लिए तैयार है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

Q1. PRITHVI योजना का प्राथमिक उद्देश्य क्या है?
a. बाह्य अंतरिक्ष की खोज
b. चिकित्सा विज्ञान की उन्नति
c. पृथ्वी प्रणालियों के साथ समझ और बातचीत
d. सांस्कृतिक विरासत को बढ़ावा देना

Q2. PRITHVI कार्यक्रम कब तक चलने की उम्मीद है?
a. 2021-26
b. 2022-27
c. 2023-28
d. 2024-29

Q3. PRITHVI योजना के लिए कितना बजट आवंटित किया गया है?
a. 797 करोड़ रुपये
b. 2,345 करोड़ रुपये
c. 4,797 करोड़ रुपये
d. 10,000 करोड़ रुपये

Q4. पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय (एमओईएस) का PRITHVI योजना के माध्यम से क्या हासिल करने का लक्ष्य है?
a. अंतरिक्ष की खोज
b. स्थायी कृषि
c. सामाजिक लाभ के लिए वैज्ञानिक अंतर्दृष्टि को व्यावहारिक सेवाओं में परिवर्तित करना
d. सांस्कृतिक संरक्षण

Q5. निम्नलिखित में से कौन सा PRITHVI योजना के उद्देश्यों में से एक नहीं है?
a. दीर्घकालिक अवलोकन
b. अंतरिक्ष की खोज
c. प्रौद्योगिकी उन्नति
d. ध्रुवीय और महासागरीय अन्वेषण

Q6. पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय (एमओईएस) PRITHVI पहल में क्या भूमिका निभाता है?
a. वित्तीय सहायता प्रदान करना
b. वैज्ञानिक ज्ञान को समाज के लिए मूल्यवान सेवाओं में परिवर्तित करना
c. ध्रुवीय अन्वेषणों का संचालन करना
d. उन्नत मॉडल विकसित करना

Q7. PRITHVI योजना के अनुसंधान और परिचालन गतिविधियों में कितने संस्थान शामिल हैं?
a. पाँच
b. दस
c. पंद्रह
d. बीस

Q8. एमओईएस के तहत मौसम के पूर्वानुमान और चेतावनियों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए किस संस्थान का उल्लेख किया गया है?
a. भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी)
b. समुद्री जीवन संसाधन और पारिस्थितिकी केंद्र (सीएमएलआरई)
c. राष्ट्रीय मध्यम अवधि मौसम पूर्वानुमान केंद्र (एनसीएमआरडब्ल्यूएफ)
d. उपरोक्त सभी

Q9. PRITHVI योजना द्वारा अपनाया गया बहुविषयक दृष्टिकोण क्या है?
a. केवल वायुमंडलीय अध्ययन पर ध्यान केंद्रित करना
b. पृथ्वी प्रणाली विज्ञान के भीतर जटिल अंतःक्रियाओं का एकीकरण
c. अंतरिक्ष अन्वेषण पर जोर देना
d. क्रायोस्फीयर और जियोस्फीयर अध्ययन को नजरअंदाज करना

Q10. PRITHVI का लक्ष्य पृथ्वी विज्ञान के क्षेत्र में क्या प्रभाव डालना है?
a. जलवायु अध्ययन पर सीमित प्रभाव
b. एकीकृत अनुसंधान के माध्यम से विभिन्न पृथ्वी विज्ञान विषयों में चुनौतियों का समाधान करना
c. केवल सतत संसाधन उपयोग पर ध्यान केंद्रित करना
d. मौसम की भविष्यवाणी और चेतावनियों को नजरअंदाज करना

कृपया अपनी प्रतिक्रियाएँ टिप्पणी अनुभाग में साझा करें।

 

FAQs

श्रीरंगम – द रेस्पेंडेंट किंगडम ऑफ रंगराजा क्या है?

यह एक अनूठी कॉफी टेबल बुक है।

TOPICS: