Home   »   पीएम मोदी ने वाराणसी में ‘वन...

पीएम मोदी ने वाराणसी में ‘वन वर्ल्ड टीबी समिट’ को संबोधित किया

पीएम मोदी ने वाराणसी में ‘वन वर्ल्ड टीबी समिट’ को संबोधित किया_3.1

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने वाराणसी के रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर में वन वर्ल्ड टीबी शिखर सम्मेलन को संबोधित किया। उन्होंने लघु टीबी निवारक उपचार (टीपीटी), टीबी-मुक्त पंचायत की आधिकारिक अखिल भारतीय शुरुआत, टीबी के लिए परिवार पर केन्‍द्रित देखभाल मॉडल और भारत की वार्षिक टीबी रिपोर्ट 2023 जारी करने सहित विभिन्न पहलों की भी शुरुआत की। उन्होंने यह भी उल्लेख किया कि भारत ने वर्ष 2025 तक टीबी उन्मूलन का लक्ष्य रखा है।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

‘वन वर्ल्ड टीबी समिट’ के बारे में अधिक जानकारी

 

अपने लोकसभा क्षेत्र में, प्रधान मंत्री ने दर्शकों को संबोधित किया और इस बात पर जोर दिया कि टीबी के खिलाफ वैश्विक लड़ाई में भारत का मजबूत दवा उद्योग एक महत्वपूर्ण संपत्ति है। उन्होंने अपनी इच्छा व्यक्त की कि भारत के अभियानों, नवाचारों और प्रयासों से पूरी दुनिया लाभान्वित हो, क्योंकि भारत वैश्विक भलाई हासिल करने के लिए समर्पित है। प्रधान मंत्री ने यह भी कहा कि भारत ने 2025 तक टीबी उन्मूलन का एक महत्वाकांक्षी लक्ष्य निर्धारित किया है, जो 2030 के वैश्विक लक्ष्य से पांच साल आगे है।

 

वन वर्ल्ड टीबी समिट के बारे में:

 

यह कार्यक्रम स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा स्टॉप टीबी पार्टनरशिप संगठन के साथ मिलकर आयोजित किया जाता है। 2001 में स्थापित, स्टॉप टीबी पार्टनरशिप एक संयुक्त राष्ट्र द्वारा होस्ट किया गया संगठन है जो प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) द्वारा एक बयान में टीबी से प्रभावित लोगों, समुदायों और देशों की आवाज़ को बढ़ाता है।

 

वन वर्ल्ड टीबी समिट के दौरान शुरू की गई अन्य पहलें:

 

कार्यक्रम के दौरान, प्रधान मंत्री ने टीबी-मुक्त पंचायत पहल, छोटे टीबी निवारक उपचार (टीपीटी), टीबी के लिए परिवार-केंद्रित देखभाल मॉडल, और भारत की वार्षिक टीबी रिपोर्ट 2023 जारी करने सहित कई पहलों की शुरुआत की। उन्होंने टीबी को समाप्त करने की दिशा में उनकी प्रगति के लिए चुनिंदा राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों और जिलों को भी सम्मानित किया। मार्च 2018 में, नई दिल्ली में आयोजित एंड टीबी शिखर सम्मेलन के दौरान, प्रधान मंत्री मोदी ने निर्धारित समय से पांच साल पहले, 2025 तक टीबी से संबंधित एसडीजी लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए भारत का आह्वान किया था।

 

मार्च 2018 में, टीबी खत्‍म करने के संबंध में नई दिल्ली में आयोजित शिखर सम्मेलन के दौरान, प्रधानमंत्री ने वन वर्ल्ड टीबी शिखर सम्‍मेलन का आह्वान करते हुए कहा था कि यह लक्ष्यों पर आगे विचार-विमर्श करने का अवसर प्रदान करेगा क्योंकि देश अपने टीबी उन्मूलन उद्देश्यों को पूरा करने के लिए आगे बढ़ रहा है। यह राष्ट्रीय टीबी उन्मूलन कार्यक्रमों से मिली सीख को प्रदर्शित करने का अवसर भी होगा। शिखर सम्मेलन में 30 से अधिक देशों के अंतर्राष्ट्रीय प्रतिनिधि उपस्थित होने वाले हैं।

 

Find More News related to Summits and Conferences

 

Dehradun to host 3-day "Akash for Life" Space Conference in November_80.1

FAQs

टीबी की बीमारी कैसे होती है?

क्षय रोग यानि टीबी माइकोबैक्टीरियम ट्यूबरकुलोसिस (Mycobacterium tuberculosis) जीवाणु के कारण होता है। रोगाणु हवा के माध्यम से फैलते हैं और आमतौर पर फेफड़ों को संक्रमित करते हैं, लेकिन शरीर के अन्य भागों को भी संक्रमित कर सकते हैं। हालांकि टीबी संक्रामक है, लेकिन यह आसानी से नहीं फैलता है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *