Home   »   दिल्ली के लाल किले में प्रथम...

दिल्ली के लाल किले में प्रथम भारतीय कला, वास्तुकला और डिजाइन द्विवार्षिक 2023 का उद्घाटन

दिल्ली के लाल किले में प्रथम भारतीय कला, वास्तुकला और डिजाइन द्विवार्षिक 2023 का उद्घाटन |_30.1

श्री नरेंद्र मोदी ने लाल किले में पहले भारतीय कला, वास्तुकला और डिजाइन द्विवार्षिक (आईएएडीबी) 2023 का उद्घाटन किया, जिससे सांस्कृतिक संवाद की शुरुआत हुई और उभरती अर्थव्यवस्था के लिए सहयोग को बढ़ावा मिला।

भारत के प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने प्रतिष्ठित लाल किले में पहले भारतीय कला, वास्तुकला और डिजाइन द्विवार्षिक (आईएएडीबी) 2023 का उद्घाटन किया। इस कार्यक्रम में ‘आत्मनिर्भर भारत सेंटर फॉर डिज़ाइन’ और छात्र द्विवार्षिक, समुन्नति का शुभारंभ भी हुआ।

लाल किले में सांस्कृतिक स्थलों का अनावरण

उद्घाटन समारोह के दौरान, श्री मोदी ने ‘आत्मनिर्भर भारत सेंटर फॉर डिज़ाइन’ का अनावरण किया और लाल किले के ऐतिहासिक महत्व पर जोर देते हुए प्रदर्शनी का अवलोकन किया। पांच प्रमुख शहरों अर्थात् दिल्ली, कोलकाता, मुंबई, अहमदाबाद और वाराणसी में सांस्कृतिक स्थलों की स्थापना को इन शहरों को सांस्कृतिक रूप से समृद्ध करने के लिए एक ऐतिहासिक कदम के रूप में रेखांकित किया गया।

प्रधान मंत्री का संबोधन

सभा को संबोधित करते हुए, प्रधान मंत्री ने विश्व धरोहर स्थल पर उपस्थित लोगों का स्वागत किया और राष्ट्रों को उनके अतीत से जोड़ने में प्रतीकों की भूमिका को रेखांकित किया। उन्होंने आईएएडीबी में प्रदर्शित विविध कार्यों की प्रशंसा की और इसे रंगों, रचनात्मकता, संस्कृति और सामुदायिक जुड़ाव का मिश्रण बताया। प्रधानमंत्री ने आईएएडीबी के सफल आयोजन के लिए संस्कृति मंत्रालय, भाग लेने वाले देशों और इसमें शामिल सभी लोगों को बधाई दी।

कला, संस्कृति और भारत की विरासत

श्री मोदी ने भारत के गौरवशाली अतीत को याद किया, इसकी आर्थिक समृद्धि और इसकी संस्कृति और विरासत की स्थायी अपील पर जोर दिया। उन्होंने राष्ट्रीय विरासत और संस्कृति के संरक्षण में नए आयाम बनाने के लिए केदारनाथ और काशी में सांस्कृतिक केंद्रों के विकास और महाकाल लोक के पुनर्विकास जैसे सरकारी प्रयासों पर प्रकाश डाला।

आईएएडीबी का वैश्विक प्रभाव

प्रधान मंत्री ने आईएएडीबी को भारत में वैश्विक सांस्कृतिक पहल को संस्थागत बनाने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम के रूप में स्थान दिया। उन्होंने 2023 में अंतर्राष्ट्रीय संग्रहालय एक्सपो और पुस्तकालय महोत्सव जैसे आगामी कार्यक्रमों का उल्लेख किया, जिनका उद्देश्य प्रसिद्ध वैश्विक पहलों के साथ भारत की उपस्थिति स्थापित करना है।

आत्मनिर्भर भारत सेंटर फॉर डिज़ाइन

श्री मोदी ने नव उद्घाटन किए गए ‘आत्मनिर्भर भारत सेंटर फॉर डिज़ाइन’ के महत्व पर जोर देते हुए कहा कि यह कारीगरों और डिजाइनरों को भारत के अद्वितीय शिल्प को नया करने और बढ़ावा देने के लिए एक मंच प्रदान करेगा। उन्होंने आधुनिक ज्ञान और संसाधनों से दुनिया पर अपनी छाप छोड़ने वाले भारतीय शिल्पकारों पर भरोसा जताया।

स्थानीय कला और विषयों को समृद्ध करना

प्रधान मंत्री ने पांच शहरों में सांस्कृतिक स्थलों के निर्माण को एक ऐतिहासिक कदम के रूप में रेखांकित किया और सभी से ‘देशज भारत डिजाइन: स्वदेशी डिजाइन’ और ‘समत्व: शेपिंग द बिल्ट’ जैसे विषयों को एक मिशन के रूप में आगे बढ़ाने का आग्रह किया। उन्होंने स्वदेशी डिजाइन को युवा अध्ययन और अनुसंधान का हिस्सा बनाने के महत्व पर जोर दिया।

भारत की जड़ों से जुड़ना

श्री मोदी ने मानव मन को आंतरिक स्व से जोड़ने और उसकी क्षमता को पहचानने में कला, संस्कृति और वास्तुकला की महत्वपूर्ण भूमिका को दोहराया। उन्होंने चतुष्टय कला में समाहित विविध कलाओं के बारे में बात की और मानव सभ्यता में उनके महत्व पर जोर दिया।

भारत का सांस्कृतिक योगदान

प्रधानमंत्री ने काशी की अविनाशी संस्कृति और साहित्य, संगीत और कला में इसके योगदान पर प्रकाश डाला। उन्होंने हाल ही में लॉन्च किए गए गंगा विलास क्रूज की सराहना की, जो काशी को असम से जोड़ता है और गंगा के किनारे सांस्कृतिक समृद्धि का प्रदर्शन करता है।

कला, प्रकृति और स्थिरता

श्री मोदी ने इस बात पर बल दिया कि कला प्रकृति के निकट उत्पन्न होती है, और भारत की वास्तुकला लंबे समय तक चलने वाली और पर्यावरण की दृष्टि से टिकाऊ रही है। उन्होंने भारत में नदी तट की संस्कृति और घाटों, कुओं, तालाबों और बावड़ियों जैसी परंपराओं के बीच समानताएं खींचीं।

भारत की आर्थिक और सांस्कृतिक दृष्टि

प्रधान मंत्री ने दुनिया की प्रगति में योगदान देने वाले भारत के आर्थिक विकास पर जोर दिया और नए अवसर लाने वाले ‘आत्मनिर्भर भारत’ के दृष्टिकोण पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि कला और वास्तुकला में भारत का पुनरुद्धार देश के सांस्कृतिक उत्थान में योगदान देगा।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

प्रश्न: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2023 में लाल किले पर किस कार्यक्रम का उद्घाटन किया?

उत्तर: प्रधान मंत्री ने भारतीय कला, वास्तुकला और डिजाइन द्विवार्षिक (आईएएडीबी) 2023 का उद्घाटन किया।

प्रश्न: प्रधान मंत्री द्वारा उद्घाटन किए गए ‘आत्मनिर्भर भारत सेंटर फॉर डिज़ाइन’ का क्या महत्व है?

उत्तर: यह अद्वितीय भारतीय शिल्प को बढ़ावा देने के लिए एक मंच प्रदान करता है और कारीगरों और डिजाइनरों के बीच नवाचार की सुविधा प्रदान करता है।

प्रश्न: ‘आत्मनिर्भर भारत सेंटर फॉर डिज़ाइन’ का उद्देश्य किस प्रकार से भारतीय कारीगरों को सशक्त बनाना है?

उत्तर: यह कारीगरों को डिजाइन विकास और डिजिटल मार्केटिंग में दक्षता के बारे में ज्ञान प्रदान करता है।

दिल्ली के लाल किले में प्रथम भारतीय कला, वास्तुकला और डिजाइन द्विवार्षिक 2023 का उद्घाटन |_40.1

 

FAQs

जलवायु परिवर्तन प्रदर्शन सूचकांक (सीसीपीआई) में भारत की वर्तमान रैंक क्या है?

भारत ने नवीनतम सीसीपीआई में 7वां स्थान हासिल किया है, जो एक महत्वपूर्ण सुधार दर्शाता है और लगातार पांचवें वर्ष अपनी शीर्ष-प्रदर्शन स्थिति की पुष्टि करता है।

TOPICS: