Home   »   पाकिस्तान: डॉलर की कमी से घिरा...

पाकिस्तान: डॉलर की कमी से घिरा आर्थिक संकट

पाकिस्तान: डॉलर की कमी से घिरा आर्थिक संकट_3.1

पाकिस्तान वर्तमान में डॉलर की कमी की विशेषता वाले गंभीर आर्थिक संकट का सामना कर रहा है, जिससे आवश्यक खाद्य और पेय पदार्थों के आयात पर पूरी तरह से रोक लग गई है। इस स्थिति के परिणामस्वरूप बंदरगाहों पर हजारों कंटेनर फंसे हुए हैं, व्यापारियों के लिए जुर्माना और अतिरिक्त शुल्क लगाया जा रहा है। पर्याप्त विदेशी मुद्रा की कमी, जो पाकिस्तान स्टेट बैंक (पीएसबी) प्रदान करने में असमर्थ रहा है, ने देश की आर्थिक चुनौतियों को और बढ़ा दिया है।

डॉलर की अनुपलब्धता के कारण, देश भर के वाणिज्यिक डीलरों को आयात निलंबित करने के लिए मजबूर होना पड़ा है। कराची होलसेल ग्रॉसर्स एसोसिएशन सोसाइटी ने बताया कि बैंकों ने आवश्यक विदेशी मुद्रा प्रदान करने से इनकार कर दिया है, जिससे आयातकों के पास शिपमेंट को रोकने के अलावा कोई विकल्प नहीं है। एसोसिएशन द्वारा आयोजित एक बैठक में निष्कर्ष निकाला गया कि 25 जून के बाद कोई शिपमेंट नहीं भेजा जाना चाहिए।

पाकिस्तान के डॉलर संकट को मुख्य रूप से पिछले एक साल में देश के विदेशी भंडार में कमी के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सकता है। उत्तर-पश्चिमी पाकिस्तान में विनाशकारी बाढ़ के कारण अर्थव्यवस्था को एक महत्वपूर्ण झटका लगा, इसके बाद रूस-यूक्रेन युद्ध के दौरान तेल की आपूर्ति में व्यवधान आया। इन घटनाओं ने आयातित तेल पर उच्च टैरिफ का भुगतान करना चुनौतीपूर्ण बना दिया, जिससे वर्तमान संकट में योगदान हुआ।

अप्रैल 2022 में इमरान खान के सत्ता से बाहर होने के बाद पैदा हुए राजनीतिक संकट के बीच आर्थिक स्थिति खराब हो गई। नए प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ को ऋण की व्यवस्था करने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ा, जिससे बेलआउट पैकेज की तलाश में सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) की लगातार यात्राएं हुईं। राजनीतिक और आर्थिक अस्थिरता ने डॉलर संकट को प्रभावी ढंग से संबोधित करने की पाकिस्तान की क्षमता को और तनावपूर्ण बना दिया है।

पाकिस्तान वर्तमान में 50 साल की उच्च मुद्रास्फीति दर से जूझ रहा है, जो इसकी आबादी के एक महत्वपूर्ण हिस्से को गरीबी की ओर धकेल रहा है। आसमान छूती कीमतों के बीच लोगों पर बोझ को कम करने के लिए, सरकार ने अप्रैल में मुफ्त गेहूं के आटे के वितरण के लिए केंद्रों की स्थापना की। दुर्भाग्य से, इन केंद्रों पर भगदड़ मच गई, जिसके परिणामस्वरूप योजना के लिए कई मौतें और असफलताएं हुईं। पाकिस्तान की उच्च मुद्रास्फीति, बेरोजगारी और कम जीडीपी विकास दर ने देश को अपने पड़ोसी देशों की तुलना में नुकसान में डाल दिया है।

पाकिस्तान का आर्थिक मॉडल बहुत हद तक विदेशी ऋणों पर निर्भर करता है, जिससे सरकार बाहरी सहायता पर निर्भर हो जाती है और देश को दिवालियापन के जोखिम में डाल दिया जाता है। आने वाले वर्षों में, पाकिस्तान के सामने लगभग 80 मिलियन डॉलर का कर्ज चुकाने की चुनौती है, जिसमें एक महत्वपूर्ण हिस्सा चीन का बकाया है, जो लगातार समर्थक है। जबकि हालिया रिपोर्टों में चीन से $ 1 बिलियन के ऋण का संकेत मिलता है, इस तरह की सहायता की स्थिरता अनिश्चित बनी हुई है।

Find More International News Here

Nusrat Chowdhary confirmed the first Muslim woman federal judge in US history_110.1

FAQs

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री कौन हैं ?

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ हैं।