Home   »   ओएनजीसी ने की कृष्णा गोदावरी बेसिन...

ओएनजीसी ने की कृष्णा गोदावरी बेसिन में तेल उत्पादन की शुरुआत

ओएनजीसी ने की कृष्णा गोदावरी बेसिन में तेल उत्पादन की शुरुआत |_30.1

ओएनजीसी ने कृष्णा गोदावरी बेसिन में तेल उत्पादन की शुरुआत करके एक महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल की है, जिससे ऊर्जा अन्वेषण और उत्पादन में इसकी प्रमुखता बढ़ गई।

भारत की अग्रणी ऊर्जा अन्वेषण और उत्पादन कंपनियों में से एक, तेल और प्राकृतिक गैस निगम (ओएनजीसी) ने 7 जनवरी को डीपवाटर केजी-डीडब्ल्यूएन 98/2 ब्लॉक से पहला तेल उत्पादन शुरू करके एक महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल की। काकीनाडा तट पर बंगाल की खाड़ी से कृष्णा गोदावरी (केजी) बेसिन में स्थित, यह विकास भारत के ऊर्जा परिदृश्य में एक महत्वपूर्ण कदम है।

मुख्य परियोजना विवरण

केजी-डीडब्ल्यूएन 98/2 ब्लॉक समुद्र तट से लगभग 25 किमी दूर स्थित है। 98/2 क्षेत्र से अनुमानित चरम उत्पादन उल्लेखनीय है, प्रति दिन लगभग 45,000 बैरल तेल और 10 मिलियन मीट्रिक मानक घन मीटर प्रति दिन (एमएमएससीएमडी) से अधिक गैस की उम्मीद है। यह उपलब्धि सावधानीपूर्वक योजना और अत्याधुनिक प्रौद्योगिकियों के अनुप्रयोग की पराकाष्ठा को दर्शाती है।

आत्मनिर्भर भारत को बढ़ावा देना

मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने एक्स को संबोधित करते हुए इस उपलब्धि की सराहना करते हुए इसे मोदी सरकार के “आत्मनिर्भर भारत” अभियान को एक बड़ा बढ़ावा बताया। उन्होंने राष्ट्रीय ऊर्जा लक्ष्य में परियोजना के योगदान पर जोर देते हुए कहा कि प्रति दिन 45,000 बैरल तेल और प्रति दिन 10 मिलियन क्यूबिक मीटर गैस का उत्पादन होने की उम्मीद है। यह विकास ऊर्जा क्षेत्र में आत्मनिर्भरता हासिल करने के भारत के दृष्टिकोण के अनुरूप है।

ओएनजीसी के उत्पादन पर प्रभाव

कार्यकारी निदेशक और परिसंपत्ति प्रबंधक (ओएनजीसी-काकीनाडा) रत्नेश कुमार ने ओएनजीसी के समग्र उत्पादन पर 98/2 ब्लॉक के परिवर्तनकारी प्रभाव पर जोर दिया। उन्होंने कहा, “98/2 ब्लॉक से ओएनजीसी के कुल तेल उत्पादन को 11% और प्राकृतिक गैस उत्पादन को 15% बढ़ाने में मदद मिलने की संभावना है।” उत्पादन में यह बढ़ोतरी ओएनजीसी के लिए एक महत्वपूर्ण बढ़ावा है, जो भारत की ऊर्जा आवश्यकताओं को पूरा करने में आत्मनिर्भरता में योगदान दे रही है।

तकनीकी चुनौतियाँ और समाधान

2020 में, ओएनजीसी ने 98/2 ब्लॉक से तेल उत्पादन शुरू करने के लिए एक व्यापक अभ्यास शुरू किया। कच्चे तेल की मोमी प्रकृति के कारण परियोजना को तकनीकी चुनौतियों का सामना करना पड़ा। हालाँकि, ओएनजीसी ने नवीन पाइप-इन-पाइप तकनीक को अपनाकर इन चुनौतियों का डटकर मुकाबला किया। इस दृष्टिकोण ने गहरे पानी के जलाशयों से कच्चे तेल के कुशल निष्कर्षण की अनुमति दी, जो तकनीकी बाधाओं पर काबू पाने के लिए ओएनजीसी की प्रतिबद्धता को प्रदर्शित करता है।

वैश्विक सहयोग और ‘मेक इन इंडिया’ पहल

विशिष्ट तकनीकी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए, ओएनजीसी ने विदेशों से समुद्र के अंदर हार्डवेयर मंगवाया। निर्माण कार्य, परियोजना का एक महत्वपूर्ण पहलू, मुख्य रूप से तमिलनाडु के कट्टुपल्ली में मॉड्यूलर फैब्रिकेशन सुविधा में किया गया था। यह ‘मेक इन इंडिया’ पहल के अनुरूप है, जो घरेलू उत्पादन क्षमताओं और तेल और गैस क्षेत्र में आत्मनिर्भरता पर जोर देता है।

भविष्य का दृष्टिकोण

जैसे-जैसे परियोजना आगे बढ़ रही है, ओएनजीसी 98/2 ब्लॉक के अंतिम चरण की दिशा में सक्रिय रूप से काम कर रही है, 2024 के मध्य तक शेष तेल और प्राकृतिक गैस का उत्पादन शुरू करने के प्रयास चल रहे हैं। यह सतत ऊर्जा विकास के प्रति ओएनजीसी की प्रतिबद्धता और भारत के ऊर्जा परिदृश्य के भविष्य को आकार देने में इसकी महत्वपूर्ण भूमिका को रेखांकित करता है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

1. ओएनजीसी के हालिया तेल उत्पादन उपलब्धि का प्राथमिक स्थान क्या है?
a) अरब सागर
b) बंगाल की खाड़ी
c) हिंद महासागर

2. कच्चे तेल को निकालने में तकनीकी चुनौतियों से निपटने के लिए ओएनजीसी ने कौन सी तकनीक अपनाई?
a) फ्रैकिंग
b) पाइप-इन-पाइप
c) हाइड्रोलिक पम्पिंग

3. ओएनजीसी-काकीनाडा के कार्यकारी निदेशक और संपत्ति प्रबंधक कौन हैं?
a) रत्नेश कुमार
b) दीपक सिंह
c) नेहा शर्मा

कृपया अपनी प्रतिक्रियाएँ टिप्पणी अनुभाग में साझा करें।

 

ओएनजीसी ने की कृष्णा गोदावरी बेसिन में तेल उत्पादन की शुरुआत |_40.1

FAQs

परमाणु बम किस सिद्दांत पर कार्य करता है?

परमाणु बम नाभिकीय विखंडन के सिद्दांत पर कार्य करता है।

TOPICS: