Home   »   नवीनीकरणीय ऊर्जा में NLCIL की बड़ी...

नवीनीकरणीय ऊर्जा में NLCIL की बड़ी उपलब्धि: 810 MW सौर बिजली परियोजना का आयात

नवीनीकरणीय ऊर्जा में NLCIL की बड़ी उपलब्धि: 810 MW सौर बिजली परियोजना का आयात_3.1

कोयला मंत्रालय के तहत एक नवरत्न केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र उद्यम (CPSE) NLC इंडिया लिमिटेड (NLCIL) ने हाल ही में 810 मेगावाट सौर फोटोवोल्टिक बिजली परियोजना हासिल करके नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्र में उल्लेखनीय उपलब्धि हासिल की है। यह परियोजना राजस्थान राज्य विद्युत उत्पादन निगम लिमिटेड (RRVUNL) द्वारा प्रदान की गई है और स्वच्छ और टिकाऊ ऊर्जा समाधानों के लिए NLCIL की प्रतिबद्धता में एक महत्वपूर्ण कदम है।

इस उपलब्धि की दिशा में यात्रा तब शुरू हुई जब RRVUNL ने 21 दिसंबर, 2022 को 810 मेगावाट सौर फोटोवोल्टिक बिजली परियोजना के लिए टेंडर जारी किया। यह परियोजना रणनीतिक रूप से राजस्थान के बीकानेर जिले में स्थित है, जो एक ऐसा क्षेत्र है जो अपनी प्रचुर मात्रा में सौर विकिरण क्षमता के लिए जाना जाता है। NLCIL ने अक्षय ऊर्जा के प्रति अपनी विशेषज्ञता और समर्पण के साथ, राज्य के नवीकरणीय ऊर्जा परिदृश्य में खुद को एक प्रमुख खिलाड़ी के रूप में स्थापित करते हुए पूरी क्षमता को सफलतापूर्वक सुरक्षित कर लिया।

प्रोजेक्ट के विकास में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर राजस्थान राज्य विद्युत उत्पादन निगम लिमिटेड (RRVUNL) द्वारा पत्रिका के जारी होना है। यह पत्र इस उत्साही सौर परियोजना के सफल कार्यान्वयन के लिए नेवली इंडिया लिमिटेड (NLCIL) और RRVUNL दोनों के समर्पण को मजबूती देता है। इस सहयोग के तहत, RRVUNL प्रोजेक्ट के लिए आवश्यक भूमि और राज्य पार ट्रांसमिशन यूटिलिटी से जुड़े बिजली निकास प्रणाली प्रदान करेगा।

नवीनीकरणीय ऊर्जा में NLCIL की बड़ी उपलब्धि: 810 MW सौर बिजली परियोजना का आयात_4.1

 

बीकानेर में 810 मेगावाट सौर फोटोवोल्टिक बिजली परियोजना एनएलसीआईएल द्वारा शुरू की गई सबसे बड़ी नवीकरणीय ऊर्जा परियोजना है। इसके साथ, राजस्थान में कुल बिजली परियोजना क्षमता बढ़कर 1.36 गीगावॉट हो जाएगी, जिसमें से 1.1 गीगावॉट ग्रीन पावर है। नवीकरणीय ऊर्जा क्षमता में यह महत्वपूर्ण वृद्धि न केवल पैमाने की अर्थव्यवस्थाओं को बढ़ावा देगी, बल्कि निश्चित लागतों को भी अनुकूलित करेगी, जिससे अक्षय ऊर्जा अधिक सुलभ और लागत प्रभावी हो जाएगी।

इस परियोजना के प्रमुख लाभों में से एक राजस्थान में इसका स्थान है, जो पूरे वर्ष प्रचुर मात्रा में सौर विकिरण प्राप्त करता है। यह स्थिति परियोजना के क्षमता उपयोग कारक (सीयूएफ) को काफी बढ़ाने के लिए निर्धारित है। अपने जीवनकाल में, परियोजना से 50 बिलियन यूनिट से अधिक बिजली उत्पन्न होने की उम्मीद है। इसके अलावा, यह 50,000 टन से अधिक कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन की भरपाई करेगा, जो एक स्वच्छ और हरित राजस्थान में योगदान देगा।

NLCIL के चेयरमैन-कम-मैनेजिंग डायरेक्टर, प्रसन्न कुमार मोटुपल्ली, ने अपनी कंपनी के नवीनीकरण ऊर्जा के प्रति समर्पण का अभिव्यक्त किया। NLCIL ने पहले ही इतिहास रच दिया है क्योंकि यह पहला केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रम (CPSE) बन गया है जिसने 1 जीडब्ल्यू की नवीनीकरण ऊर्जा क्षमता की स्थापना की है। कंपनी वर्तमान में इस परियोजना सहित भारत भर में और 2 जीडब्ल्यू की नवीनीकरण ऊर्जा क्षमता का विकास कर रही है। उनका अंतिम लक्ष्य 2030 तक 6 जीडब्ल्यू से अधिक की नवीनीकरण ऊर्जा क्षमता तक पहुँचना है। यह संघ की सरकार की देश में नवीनीकरण ऊर्जा क्षमता को बढ़ाने के समर्पण के साथ सही मिलता है।

Find More State In News Here

नवीनीकरणीय ऊर्जा में NLCIL की बड़ी उपलब्धि: 810 MW सौर बिजली परियोजना का आयात_5.1

FAQs

NLCIL के चेयरमैन-कम-मैनेजिंग डायरेक्टर कौन हैं ?

NLCIL के चेयरमैन-कम-मैनेजिंग डायरेक्टर प्रसन्न कुमार मोटुपल्ली हैं।