Home   »   मुंबई, सूरत, वाराणसी और विजाग के...

मुंबई, सूरत, वाराणसी और विजाग के लिए नीति आयोग की आर्थिक परिवर्तन योजनाएं

मुंबई, सूरत, वाराणसी और विजाग के लिए नीति आयोग की आर्थिक परिवर्तन योजनाएं |_30.1

सीईओ बीवीआर सुब्रमण्यम के नेतृत्व में, नीति आयोग का लक्ष्य 2047 तक 30 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने के भारत के दृष्टिकोण के अनुरूप मुंबई, सूरत, वाराणसी और विजाग को आर्थिक रूप से बदलना है।

सीईओ बीवीआर सुब्रमण्यम के नेतृत्व में नीति आयोग चार प्रमुख शहरों- मुंबई, सूरत, वाराणसी और विजाग में आर्थिक परिवर्तन लाने के लिए एक महत्वाकांक्षी पहल का नेतृत्व कर रहा है। इस पहल का लक्ष्य 2047 तक भारत को एक विकसित अर्थव्यवस्था बनने की दिशा में आगे बढ़ाना है।

प्रमुख शहरों के लिए आर्थिक योजना

  • नीति आयोग ने मुंबई, सूरत, वाराणसी और विजाग के आर्थिक परिवर्तन पर ध्यान केंद्रित करते हुए उनके लिए व्यापक आर्थिक योजनाएँ विकसित की हैं।
  • ये योजनाएं पारंपरिक शहरी नियोजन से हटकर हैं, जो शहर के विकास के एक महत्वपूर्ण पहलू के रूप में आर्थिक विकास पर जोर देती हैं।

भारत के आर्थिक भविष्य के लिए दृष्टिकोण

  • एक विजन डॉक्यूमेंट पर काम चल रहा है, जिसका लक्ष्य भारत को 2047 तक 30 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर की जीडीपी के साथ एक विकसित अर्थव्यवस्था का दर्जा हासिल करना है।
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आर्थिक समृद्धि की राह को रेखांकित करने वाले इस विजन डॉक्यूमेंट का अनावरण करेंगे।

युवा जुड़ाव और एआई एकीकरण

  • नीति आयोग ने सक्रिय रूप से भारत के युवाओं से इनपुट मांगा है और उन्हें 10 लाख से अधिक विस्तृत सुझाव प्राप्त हुए हैं।
  • इन सुझावों को संसाधित करने, आर्थिक नियोजन ढांचे में व्यापक विश्लेषण और एकीकरण सुनिश्चित करने के लिए कृत्रिम बुद्धिमत्ता (एआई) का उपयोग किया जा रहा है।

क्षेत्रीय दृष्टिकोण का समेकन

  • नीति आयोग को विकसित भारत @2047 के लिए एक एकीकृत योजना में क्षेत्रीय विषयगत दृष्टिकोण को समेकित करने का काम सौंपा गया है।
  • यह योजना आर्थिक विकास, सामाजिक प्रगति, पर्यावरणीय स्थिरता और प्रभावी शासन सहित बहुआयामी विकास लक्ष्यों को शामिल करती है।

मुंबई, सूरत, वाराणसी और विजाग के लिए नीति आयोग की आर्थिक परिवर्तन योजनाएं |_40.1

FAQs

हाल ही में विदेश मंत्रालय ने किन देशों में यूपीआई सर्विस (Unified Payment Interface) सेवा शुरू करने की घोषणा की है?

श्रीलंका और मॉरीशस।