Home   »   जम्मू-कश्मीर के बाद अब राजस्थान में...

जम्मू-कश्मीर के बाद अब राजस्थान में मिला लिथियम का बड़ा भंडार

जम्मू-कश्मीर के बाद अब राजस्थान में मिला लिथियम का बड़ा भंडार |_30.1

जम्मू-कश्मीर के बादल अब राजस्थान में लिथियम का भंडार मिला है। इस खबर से ईवी इंडस्ट्री काफी खुश नजर आ रही है। क्योंकि लिथियम को विदेशों से इंपोर्ट किया जाता है, जिसके चलते इसकी कीमतें महंगी होती है। लिथियम का इस्तेमाल ईवी में लगने वाली बैटरी में होता है। वर्तमान में अधिकतर ईवी लिथियम आयन बैटरी का इस्तेमाल किया जाता है।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

राज्य सरकार के अधिकारियों ने कहा कि राजस्थान के डेगाना में लिथियम के भंडार का पता लगाया गया है। खनन के साथ-साथ भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण (जीएसआई) के अधिकारियों ने कहा कि भंडार हाल ही में जम्मू और कश्मीर में पाए गए भंडार से अधिक बड़ा है। अधिकारियों का मानना है कि यहां लीथियम की मात्रा देश की 80 फीसदी मांग को पूरा कर सकती है।

 

इससे क्या होगा फायदा?

भारत में EV सेक्टर की ग्रोथ तेजी से हो रही है। जिसके चलते लिथियम की डिमांड तेजी से बढ़ रही है। लिथियम की मंहगी कीमतों की वजह से ईवी में लगने वाली बैटरियों की कीमतें काफी अधिक हैं। यही वजह है कि इलेक्ट्रिक गाड़ियां डीजल-पेट्रोल की तुलना में महंगी होती हैं।

इस भंडारण के मिलने के बाद उम्मीद की जा सकती है कि आने वाले समय में राजस्थान और जम्मू-कश्मीर मिलकर देश लिथियम की जरूरतों को अकेला पूरा कर देगा और बैटरी की कीमतें पहले की तुलना में काफी सस्ती हो जाएंगी। जिससे ईवी खरीदना और भी किफायती हो जाएगा।

 

लिथियम के लिए चीन पर निर्भर भारत

भारत अब तक लिथियम के लिए चीन पर निर्भर है। हालांकि, राजस्थान में इस भंडार की खोज के साथ यह माना जाता सकता है कि चीन का एकाधिकार समाप्त हो जाएगा। लिथियम एक अलौह धातु है, जिसका उपयोग मोबाइल-लैपटॉप, इलेक्ट्रिक वाहन और अन्य चार्जेबल बैटरी बनाने में किया जाता है। लिथियम के लिए भारत पूरी तरह महंगी विदेशी आपूर्ति पर निर्भर है। अब जीएसआई को डेगाना के आसपास लिथियम का बड़ा भंडार मिलने के बाद से इसको खास उपलब्धि माना जा रहा है।

 

सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण टेकअवे:

 

  • राजस्थान के मुख्यमंत्री: अशोक गहलोत;
  • राजस्थान की राजधानी: जयपुर (कार्यकारी शाखा);
  • राजस्थान के राज्यपाल: कलराज मिश्र।

Find More State In News Here

जम्मू-कश्मीर के बाद अब राजस्थान में मिला लिथियम का बड़ा भंडार |_40.1

FAQs

राजस्थान की स्थापना दिवस कब मनाया जाता है?

हर वर्ष 30 मार्च को राजस्थान का स्थापना दिवस मनाया जाता है।