Home   »   जुपिटर को मिला एनबीएफसी लाइसेंस: नए...

जुपिटर को मिला एनबीएफसी लाइसेंस: नए दौर की शुरुआत

जुपिटर को मिला एनबीएफसी लाइसेंस: नए दौर की शुरुआत_3.1

ज्यूपिटर, एक नयोबैंकिंग स्टार्टअप, ने भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) से एक गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी (NBFC) लाइसेंस प्राप्त किया है, जो कंपनी को अपनी स्वयं की संसाधनों से क्रेडिट प्रदान करने की अनुमति देता है। अमिका फाइनेंशियल टेक्नोलॉजीज लिमिटेड द्वारा संचालित ज्यूपिटर के संस्थापक जितेंद्र गुप्ता के अनुसार, कंपनी एक पेशेवर मुख्य कार्यकारी अधिकारी की नियुक्ति करेगी जो NBFC ऑपरेशन का प्रबंधन करेगा।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

एनबीएफसी लाइसेंस का महत्व:

जुपिटर के लिए यह एक महत्वपूर्ण विकास है क्योंकि कंपनी एनबीएफसी के साथ साझेदारियों के माध्यम से अपने ऋण देने के ऑपरेशन को बढ़ा रही थी। NBFC लाइसेंस के साथ, जुपिटर के पास अपनी ऋण देने के ऑपरेशन पर अधिक नियंत्रण होगा और वह अपनी खुद की बुक से सीधे क्रेडिट प्रदान कर सकेगी, जिससे ऋण प्रक्रिया में अधिक लचीलापन और नियंत्रण होगा।

बृहस्पति के बारे में: एक नियोबैंक:

jupiter licence: Neobank Jupiter secures NBFC licence; will raise debt to push lending business - The Economic Times

जुपिटर एक नियोबैंक है, जो पूर्णतया ऑनलाइन ऑपरेट होता है और किसी भी फिजिकल ब्रांच के बिना काम करता है। यह 2019 में जितेंद्र गुप्ता द्वारा स्थापित किया गया था, जो पहले सिट्रस पे के सह-संस्थापक थे, जो 2016 में पेयू द्वारा अधिग्रहण किया गया था।

NBFC के बारे में:

गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियां या एनबीएफसी, वित्तीय संस्थाएं होती हैं जो विभिन्न वित्तीय सेवाएं प्रदान करती हैं, लेकिन उनके पास बैंकिंग लाइसेंस नहीं होता है। वे भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा विनियमित होते हैं और कुछ विनियमों और पाबंदियों के अधीन होते हैं, लेकिन वे मांग जमा नहीं कर सकते और चेक भी जारी नहीं कर सकते हैं।

FAQs

ज्यूपिटर के संस्थापक कौन हैं ?

ज्यूपिटर के संस्थापक जितेन्द्र गुप्ता हैं। उन्होंने 2019 में ज्यूपिटर की स्थापना की थी।