Home   »   NCERT आने वाली किताबों में ‘इंडिया’...

NCERT आने वाली किताबों में ‘इंडिया’ की जगह ‘भारत’ करेगी

NCERT आने वाली किताबों में 'इंडिया' की जगह 'भारत' करेगी |_30.1

राष्ट्रीय शैक्षणिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (NCERT) की पुस्‍तकों में संशोधन किए जाने को लेकर हाईलेवल कमेटी की ओर से स‍िफार‍िशें की गईं हैं। इसमें स्कूली पाठ्यपुस्तकों में ‘इंडिया’ की जगह ‘भारत’ शब्‍द को इस्‍तेमाल करने का सुझाव द‍िया गया है। मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया कि एनसीईआरटी कमेटी ने सभी स्कूल की किताबों में ‘इंडिया’ की जगह ‘भारत’ करने की सिफारिश की है।

 

NCERT ने क्या कहा?

इस मामले पर NCERT का आधिकारिक बयान भी सामने आ गया। उसने स्पष्ट रूप से कहा है कि चूंकि नए सिलेबस और किताबों का विकास प्रक्रिया में है और उस उद्देश्य के लिए NCERT द्वारा डोमेन विशेषज्ञों के विभिन्न करिकुलर एरिया ग्रुप्स को नोटीफाई किया जा रहा है। इसलिए, संबंधित मुद्दे पर मीडिया में चल रही खबरों पर टिप्पणी करना जल्दबाजी होगी।

 

INDIA और भारत की चर्चा कैसे शुरू हुई?

भारत नाम पहली बार आधिकारिक तौर पर तब सामने आया जब सरकार ने INDIA के राष्ट्रपति की बजाय भारत के राष्ट्रपति के नाम पर जी20 निमंत्रण भेजा। बाद में, नई दिल्ली में शिखर सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नेमप्लेट पर भी INDIA की बजाय भारत लिखा गया।

 

शास्त्रीय इतिहास बनाम प्राचीन इतिहास

समिति ने पाठ्यक्रम में ‘प्राचीन इतिहास’ से शास्त्रीय इतिहास’ में बदलाव का भी सुझाव दिया है। इस परिवर्तन का उद्देश्य भारत के ऐतिहासिक विकास की अधिक सूक्ष्म और व्यापक समझ प्रदान करना है। इसमें भारत के इतिहास के विशिष्ट कालखंडों या पहलुओं पर ध्यान केंद्रित किया जा सकता है, जिन्हें शास्त्रीय माना जाता है, जो देश के अतीत की गहन खोज की पेशकश करते हैं।

 

‘हिन्दू विजय’ पर जोर

समिति की एक और उल्लेखनीय सिफारिश पाठ्यपुस्तकों में ‘हिंदू जीत’ पर जोर देना है। हालांकि इसे कैसे लागू किया जाएगा, इसका विवरण अभी तक अंतिम रूप नहीं दिया गया है, विचार उन प्रमुख ऐतिहासिक घटनाओं को उजागर करना है जहां राजवंशों या शासकों ने महत्वपूर्ण जीत हासिल की थी।

 

भारतीय ज्ञान प्रणाली (आईकेएस)

भारत की समृद्ध बौद्धिक विरासत के साथ गहरे संबंध को बढ़ावा देने के लिए, समिति ने सभी विषयों के पाठ्यक्रम में भारतीय ज्ञान प्रणाली (आईकेएस) को शामिल करने का प्रस्ताव दिया है। इसका मतलब विभिन्न शैक्षणिक विषयों में पारंपरिक भारतीय ज्ञान और ज्ञान को शामिल करना होगा, जिससे एक अधिक समग्र और सांस्कृतिक रूप से निहित शैक्षिक अनुभव तैयार होगा।

 

Find More National News Here

 

NCERT आने वाली किताबों में 'इंडिया' की जगह 'भारत' करेगी |_40.1

FAQs

भारतीय ज्ञान प्रणाली की स्थापना कब हुई थी?

शिक्षा मंत्रालय (एमओई) का भारतीय ज्ञान परंपरा विभाग या भारतीय ज्ञान प्रणाली (आईकेएस) प्रभाग एआईसीटीई मुख्यालय में स्थित है, जिसे अक्टूबर 2020 में स्थापित किया गया था।