Home   »   नासा ने की सुपर-अर्थ की खोज

नासा ने की सुपर-अर्थ की खोज

नासा ने की सुपर-अर्थ की खोज |_30.1

नासा के ट्रांजिटिंग एक्सोप्लैनेट सर्वे सैटेलाइट (टीईएसएस) ने रहने योग्य क्षेत्र में स्थित एक सुपर-अर्थ की एक महत्वपूर्ण खोज की है, जो जीवन के लिए अनुकूल स्थितियों के लिए आकर्षक संभावनाएं प्रदान करेगी।

नासा के ट्रांजिटिंग एक्सोप्लैनेट सर्वे सैटेलाइट (टीईएसएस) ने रहने योग्य क्षेत्र में स्थित एक सुपर-अर्थ की एक महत्वपूर्ण खोज की है, जो जीवन के लिए अनुकूल स्थितियों के लिए आकर्षक संभावनाएं प्रदान करती है। यह खोज हमारे ब्रह्मांड में ग्रहों की विविधता और हमारे सौर मंडल से परे रहने योग्य दुनिया की क्षमता पर प्रकाश डालती है।

TOI-715 b की खोज

पड़ोस की दूरी में एक चट्टानी दुनिया

नया खोजा गया एक्सोप्लैनेट, जिसका नाम TOI-715 b है, पृथ्वी से 137 प्रकाश वर्ष दूर सौर मंडल में स्थित है। लौकिक दृष्टि से, यह दूरी अपेक्षाकृत करीब है, जो खगोलविदों को विस्तृत अध्ययन के लिए एक मूल्यवान अवसर प्रदान करती है। TOI-715 b अपने आकार और संरचना के कारण अलग दिखता है; यह पृथ्वी के आकार का लगभग 1.5 गुना है और मुख्य रूप से चट्टानी है।

रहने योग्य कक्षा क्षेत्र

अपने तारे के चारों ओर TOI-715 b की कक्षा इसे पूरी तरह से रहने योग्य क्षेत्र के भीतर रखती है, जिसे अक्सर “गोल्डीलॉक्स” क्षेत्र के रूप में जाना जाता है, जहां तरल पानी और संभावित रूप से जीवन के अस्तित्व के लिए स्थितियां बिल्कुल सही हो सकती हैं। इसकी 19-दिवसीय कक्षा पृथ्वी के वर्ष की तुलना में काफी छोटी होने के बावजूद, ग्रह का लाल बौना तारा हमारे सूर्य की तुलना में ठंडा और छोटा है, जो सुझाव देता है कि टीओआई-715 बी अन्य निकट परिक्रमा करने वाले एक्सोप्लैनेट पर पाई जाने वाली झुलसा देने वाली स्थितियों से बचता है।

TESS की भूमिका और भविष्य की जाँच

TESS के साथ दुनिया की खोज

TESS, एक परिक्रमा करने वाला NASA टेलीस्कोप, विशेष रूप से एक्सोप्लैनेट का पता लगाने के लिए डिज़ाइन किया गया है जब वे पारगमन करते हैं, या अपने सितारों के सामने से गुजरते हैं। यह विधि वैज्ञानिकों को ग्रहों की उपस्थिति का अनुमान लगाने और उनके आकार, कक्षा और अन्य आवश्यक विशेषताओं पर डेटा इकट्ठा करने की अनुमति देती है। TOI-715 b की खोज आगे के अध्ययन के लिए आशाजनक उम्मीदवारों की पहचान करने की उपग्रह की क्षमता को प्रदर्शित करती है।

जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप की आगामी भूमिका

पृथ्वी से लगभग 1 मिलियन मील की दूरी पर स्थित जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप (JWST), TOI-715 b की जांच के अगले चरण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए तैयार है। अपनी उन्नत तकनीक के साथ, JWST दूर के एक्सोप्लैनेट के वायुमंडल का विश्लेषण कर सकता है, उनकी संरचना और स्थितियों में अंतर्दृष्टि प्रदान कर सकता है। खगोलविद उत्सुकता से TOI-715 b के वातावरण और रहने योग्य क्षमता का पता लगाने के लिए JWST का उपयोग करने की उम्मीद कर रहे हैं।

अलौकिक जीवन की खोज के लिए निहितार्थ

लाल बौने तारे के आसपास रहने योग्य क्षेत्र में TOI-715 b की खोज पृथ्वी से परे जीवन की खोज में लक्ष्य के रूप में इन तारों के महत्व को पुष्ट करती है। ऐसे क्षेत्रों में चट्टानी ग्रह जीवन-सहायक वातावरण की मेजबानी के लिए प्रमुख उम्मीदवार हैं, और TOI-715 b की अनूठी विशेषताएं इसे भविष्य के शोध के लिए एक दिलचस्प विषय बनाती हैं।

FAQs

अंडर-19 वर्ल्ड कप 2024 का फाइनल मैच किन दो टीम के बीच खेला जायेगा?

भारत और ऑस्ट्रेलिया।