Home   »   MoD ने SPARSH सेवा केंद्रों के...

MoD ने SPARSH सेवा केंद्रों के विस्तार के लिए समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए

MoD ने SPARSH सेवा केंद्रों के विस्तार के लिए समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए_3.1

रक्षा मंत्रालय (MoD) ने पेंशनभोगी सेवाओं को बेहतर बनाने की दिशा में महत्वपूर्ण कदम उठाया है, जिसमें चार प्रमुख बैंकों के साथ साझेदारी की है। इन समझौता ज्ञापनों (MoUs) का उद्देश्य पूरे देश में 1,128 शाखाओं में SPARSH सेवा केंद्र स्थापित करना है, जो सिस्टम फॉर पेंशन एडमिनिस्ट्रेशन (RAKSHA) का लाभ उठाते हैं। SPARSH, एक वेब-आधारित प्रणाली है, जो पेंशन प्रसंस्करण को सुव्यवस्थित करती है और रक्षा पेंशनभोगियों के बैंक खातों में सीधे क्रेडिटिंग की सुविधा प्रदान करती है।

पेंशनभोगियों की पहुँच को बढ़ाना

बैंक ऑफ इंडिया, केनरा बैंक, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया और उत्कर्ष स्मॉल फाइनेंस बैंक के साथ समझौता ज्ञापनों (MoUs) के माध्यम से रक्षा मंत्रालय ने एक रणनीतिक कदम उठाया है, जिसका उद्देश्य पेंशनभोगियों को अंतिम छोर तक कनेक्टिविटी प्रदान करना है, विशेष रूप से उन क्षेत्रों में जहाँ तकनीकी बुनियादी ढाँचे की कमी है। ये SPARSH सेवा केंद्र पेंशनभोगियों के लिए महत्वपूर्ण बिंदु होंगे, जो प्रोफाइल अपडेट, शिकायत पंजीकरण, डिजिटल वार्षिक पहचान, डेटा सत्यापन और विस्तृत पेंशन जानकारी तक पहुँच जैसी सेवाएं प्रदान करेंगे।

मुफ्त पहुंच

पेंशनभोगी इन सेवा केंद्रों का निःशुल्क उपयोग कर सकते हैं, जिसमें मामूली सेवा शुल्क रक्षा लेखा विभाग (DAD) द्वारा वहन किया जाएगा। इस पहल का उद्देश्य SPARSH सेवाओं तक सहज और किफायती पहुँच सुनिश्चित करना है, जिससे रक्षा पेंशनों के प्रबंधन में दक्षता और पारदर्शिता को बढ़ावा मिले।

व्यापक पहुँच

इन साझेदारियों के साथ, SPARSH सेवाएँ अब पूरे देश में 15 बैंकों की 26,000 से अधिक शाखाओं के माध्यम से उपलब्ध होंगी। यह व्यापक नेटवर्क मौजूदा बुनियादी ढांचे को पूरा करता है, जिसमें 199 समर्पित DAD सेवा केंद्र और 3.75 लाख से अधिक सामान्य सेवा केंद्र शामिल हैं, जो पेंशनभोगियों के समर्थन के लिए रक्षा मंत्रालय की प्रतिबद्धता को मजबूत करते हैं।

MoD ने SPARSH सेवा केंद्रों के विस्तार के लिए समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए_4.1

FAQs

विश्व विकलांग दिवस कब मनाया जाता है?

हर वर्ष 3 दिसंबर को अंतर्राष्ट्रीय विकलांगता दिवस मनाया जाता है।

TOPICS: