gdfgerwgt34t24tfdv
Home   »   अन्तर्राष्ट्रीय सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम...

अन्तर्राष्ट्रीय सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम दिवस : 27 जून

अन्तर्राष्ट्रीय सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम दिवस : 27 जून |_3.1

हर साल 27 जून को दुनिया अन्तर्राष्ट्रीय सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम दिवस मनाती है। ये दिन हमारी अर्थव्यवस्थाओं और समुदायों में इन व्यवसायों की महत्वपूर्ण भूमिका पर प्रकाश डालता है।

2024 थीम: MSMEs और SDGs

2024 की थीम “कई संकटों के समय में सूक्ष्म, लघु और मध्यम आकार के उद्यमों (MSMEs) की शक्ति और लचीलापन का उपयोग करके सतत विकास को तेज करना और गरीबी का उन्मूलन करना” पर केंद्रित है। यह थीम संयुक्त राष्ट्र के सतत विकास लक्ष्यों (SDGs) की ओर प्रगति को बढ़ावा देने के लिए MSMEs की क्षमता को मान्यता देती है।

MSMEs क्यों मायने रखता है

MSMEs दुनिया भर की अर्थव्यवस्थाओं की रीढ़ हैं:

  • वे विश्व स्तर पर 90% व्यवसाय बनाते हैं
  • वे 60-70% रोजगार प्रदान करते हैं
  • वे अधिकांश देशों में सकल घरेलू उत्पाद का 50% योगदान करते हैं

ये व्यवसाय इसमें महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं:

  • स्थानीय अर्थव्यवस्थाओं का समर्थन करना
  • नौकरियां पैदा करना
  • नवाचार को बढ़ावा देना
  • समावेशी विकास को बढ़ावा देना

चुनौतियां और अवसर

जैसे-जैसे हम SDGs प्राप्त करने के लिए 2030 की समय सीमा के करीब पहुंच रहे हैं, प्रगति धीमी हो गई है। कई देशों को परस्पर जुड़ी चुनौतियों का सामना करना पड़ता है:

  • जीवन यापन संकट
  • सीमित वित्तीय संसाधन
  • विकास और जलवायु वित्तपोषण तक पहुँचने में कठिनाई
    चल रहे संघर्ष

ये मुद्दे वैश्विक रूप से बढ़ती गरीबी और भूख के कारक हैं। हालांकि, एमएसएमई ने प्रतिकूल परिस्थितियों का सामना करने में उल्लेखनीय लचीलापन दिखाया है। उचित समर्थन के साथ, वे सतत विकास के शक्तिशाली चालक हो सकते हैं।

बेहतर भविष्य के लिए MSMEs का समर्थन करना

प्रमुख हितधारक

MSMEs की पूरी क्षमता का उपयोग करने के लिए, विभिन्न समूहों को एक साथ काम करना चाहिए:

  • नीतिनिर्माता: सहायक विनियमन और नीतियाँ बनाएं
  • बड़ी कंपनियाँ: साझेदारी बनाना और एमएसएमई को आपूर्ति श्रृंखलाओं में एकीकृत करना
  • वित्तीय संस्थाएँ: क्रेडिट और वित्तीय सेवाओं तक पहुंच में सुधार
  • अंतर्राष्ट्रीय समुदाय: संसाधन प्रदान करें और सर्वोत्तम प्रथाओं को साझा करें

MSME सहायता के लिए फोकस क्षेत्र

  1. वित्तीय पहुंच: MSME की आवश्यकताओं के अनुकूल नवाचारी वित्त परिधान विकसित करें
  2. डिजिटल परिवर्तन: व्यवसायों को नई प्रौद्योगिकियों को अपनाने में सहायता प्रदान करें ताकि कार्यक्षमता बढ़ाई जा सके और नए बाजारों तक पहुंच सके
  3. कौशल विकास: व्यावसायिक प्रबंधन, वित्तीय साक्षरता, और तकनीकी कौशल में प्रशिक्षण प्रदान करें
  4. सतत अभ्यास: पर्यावरण में अनुकूल और सामाजिक दायित्वपूर्ण व्यावसायिक मॉडल के अवगत कराने को प्रोत्साहित करें
  5. बाजार पहुंच: MSMEs को बड़े बाजारों और वैश्विक मूल्य श्रृंखलाओं से जोड़ने में सहायता प्रदान करें

अन्तर्राष्ट्रीय सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम दिवस : 27 जून |_4.1

FAQs

भारतीय थल सेना का मुख्यालय कहां है?

भारतीय थल सेना का मुख्‍यालय नई दिल्‍ली में स्थित है.

TOPICS: