Home   »   शहीद दिवस 2024: इतिहास और महत्व

शहीद दिवस 2024: इतिहास और महत्व

शहीद दिवस 2024: इतिहास और महत्व |_30.1

भारत प्रत्येक वर्ष 30 जनवरी को शहीद दिवस मनाता है, जिसे शहीद दिवस भी कहा जाता है। यह दिन दोहरा महत्व रखता है क्योंकि यह “राष्ट्रपिता” महात्मा गांधी की हत्या का प्रतीक है और यह उन सभी बहादुर आत्माओं को सम्मानित करने का भी काम करता है जिन्होंने देश की स्वतंत्रता और संप्रभुता के लिए अपने जीवन का बलिदान दिया।

 

शहीद दिवस का इतिहास और महत्व

शहीद दिवस प्रतिवर्ष 30 जनवरी को मनाया जाता है, जिस दिन 1948 में महात्मा गांधी की हत्या की गई थी। विश्व स्तर पर सम्मानित नेता गांधी ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन के खिलाफ संघर्ष में अपने शांतिपूर्ण और अहिंसक तरीकों के लिए जाने जाते थे। एक हिंदू राष्ट्रवादी नाथूराम गोडसे द्वारा उनकी हत्या से पूरे देश और दुनिया में व्यापक शोक फैल गया। 1949 में गोडसे को उसके अपराध के लिए मौत की सज़ा सुनाई गई।

जबकि शहीद दिवस मुख्य रूप से गांधी की मृत्यु की याद दिलाता है, यह उन सभी शहीदों को याद करने और श्रद्धांजलि देने का एक गंभीर अवसर भी है जिन्होंने भारत के लिए अपने प्राण न्यौछावर कर दिए। यह दिन देश की आजादी के लिए किए गए बलिदान और न्याय और समानता के लिए जारी संघर्ष की याद दिलाता है।

 

पूरे भारत में शहीद दिवस का पालन

शहीद दिवस, जिसे महात्मा गांधी की पुण्य तिथि भी कहा जाता है, देश भर में विभिन्न गतिविधियों द्वारा मनाया जाता है। गांधीजी के स्मारकों और अन्य स्वतंत्रता सेनानियों की प्रतिमाओं पर प्रार्थना सभाएँ और श्रद्धांजलि समारोह आयोजित किए जाते हैं। सरकारी अधिकारी, राजनीतिक नेता और नागरिक अपना सम्मान देने के लिए इन आयोजनों में भाग लेते हैं।

 

कैसे मनाया जाता है शहीद दिवस?

30 जनवरी को शहीद दिवस के मौके पर देश के राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, रक्षा मंत्री और तीनों सेना प्रमुख राजघाट स्थित महात्मा गांधी की समाधि पर उन्हें श्रद्धांजलि देते हैं। सेना के जवान भी इस मौके पर राष्ट्रपिता को श्रद्धांजलि देते हुए हथियार नीचे झुकाते हैं।

 

 

FAQs

विश्व हिंदी दिवस कब मनाया जाता है?

विश्व हिन्दी दिवस प्रति वर्ष 10 जनवरी को मनाया जाता है।