Home   »   मानसिंह ने एशियाई मैराथन चैंपियनशिप 2024...

मानसिंह ने एशियाई मैराथन चैंपियनशिप 2024 में स्वर्ण पदक जीता

मानसिंह ने एशियाई मैराथन चैंपियनशिप 2024 में स्वर्ण पदक जीता_3.1

एशियाई मैराथन चैंपियनशिप 2024 भारतीय एथलेटिक्स के लिए एक ऐतिहासिक क्षण था क्योंकि भारत के 34 वर्षीय मैराथन धावक मान सिंह ने स्वर्ण पदक जीता। यह उपलब्धि मान सिंह और भारतीय खेलों के लिए महत्वपूर्ण है, जो लंबी दूरी की दौड़ में देश की बढ़ती ताकत को दर्शाती है।

 

मान सिंह की ऐतिहासिक जीत

हांगकांग में मान सिंह की जीत किसी शानदार से कम नहीं थी। उन्होंने मैराथन को 2 घंटे, 14 मिनट और 19 सेकंड के व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ समय के साथ पूरा किया, और उपविजेता चीन के हुआंग योंगझेंग को 65 सेकंड के बड़े अंतर से आसानी से हराया। इस प्रदर्शन ने 2023 में मुंबई मैराथन में दर्ज उनके पिछले व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ 2:16:58 को भी पीछे छोड़ दिया।

 

सिंह की उपलब्धि का महत्व

एशियाई मैराथन चैंपियनशिप में मान सिंह की जीत कई कारणों से महत्वपूर्ण है:

  • दूसरे भारतीय चैंपियन: 2017 में थोनाकल गोपी की उपलब्धि के बाद, वह एशियाई मैराथन चैंपियन का खिताब जीतने वाले केवल दूसरे भारतीय बन गए।
  • राष्ट्रीय रिकॉर्ड अपराजित: जबकि सिंह का प्रदर्शन सराहनीय था, पुरुषों की मैराथन में भारत का राष्ट्रीय रिकॉर्ड, जो 1978 से 2:12:00 बजे शिवनाथ सिंह के पास था, अजेय है।
  • अंतर्राष्ट्रीय मान्यता: एशियाई मैराथन चैंपियनशिप जैसे अंतर्राष्ट्रीय मंच पर उनकी जीत से लंबी दूरी की दौड़ में भारत की प्रतिष्ठा काफी बढ़ गई है।

 

चैंपियनशिप में भारत का प्रतिनिधित्व

मान सिंह इन चैंपियनशिप में भारत के एकमात्र प्रतिनिधि नहीं थे। बेलियप्पा अप्पाचांगडा बो, अश्विनी जाधव और ज्योति गावटे सहित अन्य भारतीय एथलीटों ने भी भाग लिया। अप्पाचांगडा बो छठे स्थान पर रहे, जबकि महिलाओं की स्पर्धा में जाधव और गावटे क्रमशः 8वें और 11वें स्थान पर रहे।

 

 

FAQs

मैराथन का मतलब क्या होता है?

मैराथन लंबी दूरी की दौड़ प्रतियोगिता है जिसकी आधिकारिक दूरी 42.195 किलोमीटर (26 मील और 385 गज) है, यह आमतौर पर सड़क दौड़ के तौर पर दौड़ी जाती है। यह दौड़ यूनानी सैनिक फ़िडिप्पिडिस की एक हरकारे के तौर पर मैराथन के युद्ध(इसी से दौड़ का नाम पड़ा) से एथेंस तक की दौड़ की याद में स्थापित की गई थी।