Home   »   लेफ्टिनेंट जनरल उपेंद्र द्विवेदी बने सेना...

लेफ्टिनेंट जनरल उपेंद्र द्विवेदी बने सेना के वाइस चीफ

लेफ्टिनेंट जनरल उपेंद्र द्विवेदी बने सेना के वाइस चीफ |_30.1

भारतीय सेना के भीतर एक रणनीतिक कदम में, लेफ्टिनेंट जनरल उपेन्द्र द्विवेदी को 15 फरवरी से प्रभावी नए सेना उप प्रमुख के रूप में नियुक्त किया गया है। यह परिवर्तन एक निर्बाध उत्तराधिकार योजना का प्रतीक है क्योंकि लेफ्टिनेंट जनरल द्विवेदी इस भूमिका में कदम रख रहे हैं, लेफ्टिनेंट जनरल एमवी सुचिन्द्र कुमार का स्थान लेंगे। जो उधमपुर में उत्तरी सेना कमान में कमान संभालने के लिए तैयार हैं।

 

लेफ्टिनेंट जनरल उपेन्द्र द्विवेदी की पृष्ठभूमि

लेफ्टिनेंट जनरल द्विवेदी का भारतीय सेना में एक विशिष्ट करियर रहा है, वे पहले सेना मुख्यालय में उप प्रमुख और इन्फैंट्री के महानिदेशक सहित प्रमुख पदों पर कार्य कर चुके हैं। उत्तरी कमान में उनका परिचालन अनुभव, विशेष रूप से चल रहे भारत-चीन सैन्य गतिरोध के दौरान, उन्हें सेना उप प्रमुख के रूप में उनकी नई भूमिका के लिए उपयुक्त बनाता है। कमांड और रणनीतिक भूमिकाओं में विशेषज्ञता के साथ, लेफ्टिनेंट जनरल द्विवेदी अपनी नियुक्ति में अनुभव का खजाना लेकर आए हैं।

 

लेफ्टिनेंट जनरल एमवी सुचिन्द्र कुमार की विरासत

चूँकि लेफ्टिनेंट जनरल द्विवेदी सेना उपप्रमुख का पदभार ग्रहण कर रहे हैं, इसलिए उनके पूर्ववर्ती लेफ्टिनेंट जनरल एमवी सुचिन्द्र कुमार के योगदान को स्वीकार करना महत्वपूर्ण है। उप प्रमुख के रूप में लेफ्टिनेंट जनरल कुमार का कार्यकाल और सेना कमांडर के रूप में पिछली भूमिका अनुकरणीय नेतृत्व और रणनीतिक दूरदर्शिता द्वारा चिह्नित की गई है। 16 कोर कमांडर सहित कमान में उनके अनुभव ने भारतीय सेना की परिचालन तैयारी में महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

 

लेफ्टिनेंट जनरल उपेन्द्र द्विवेदी का दृष्टिकोण

सेना उपप्रमुख के रूप में लेफ्टिनेंट जनरल उपेन्द्र द्विवेदी की नियुक्ति भारतीय सेना के भीतर मजबूत नेतृत्व की निरंतरता का प्रतीक है। परिचालन प्रभावशीलता और रणनीतिक योजना पर ध्यान देने के साथ, लेफ्टिनेंट जनरल द्विवेदी सेना को नई ऊंचाइयों तक ले जाने के लिए तैयार हैं। इस बीच, लेफ्टिनेंट जनरल एमवी सुचिन्द्र कुमार का उत्तरी सेना कमान में स्थानांतरण सेना की निर्बाध उत्तराधिकार और परिचालन तत्परता के प्रति प्रतिबद्धता को रेखांकित करता है।

चूंकि ये परिवर्तन 15 फरवरी को प्रभावी होंगे, भारतीय सेना जटिल भू-राजनीतिक गतिशीलता के बीच राष्ट्रीय सुरक्षा हितों की रक्षा के अपने मिशन पर दृढ़ बनी हुई है।

FAQs

आर्मी का सबसे बड़ा अधिकारी कौन है?

इंडियन आर्मी में सबसे बड़ी रैंक या पद फील्ड मार्शल का होता है।