Home   »   वैश्विक प्रदूषण रैंकिंग में लाहौर अग्रणी

वैश्विक प्रदूषण रैंकिंग में लाहौर अग्रणी

वैश्विक प्रदूषण रैंकिंग में लाहौर अग्रणी_3.1

आईक्यू के अनुसार, पाकिस्तान के दूसरे सबसे बड़े शहर लाहौर ने हाल ही में दुनिया की सबसे खराब वायु गुणवत्ता होने का गौरव हासिल किया है।

लाहौर, पाकिस्तान का दूसरा सबसे बड़ा शहर, गंभीर धुंध संकट से जूझ रहा है जो इसके निवासियों के स्वास्थ्य और कल्याण के लिए महत्वपूर्ण खतरा पैदा करता है। वैश्विक वायु गुणवत्ता पर नज़र रखने वाली संस्था आईक्यू एयर के अनुसार, लाहौर ने हाल ही में सुबह 400 के खतरनाक वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) के साथ दुनिया में सबसे खराब वायु गुणवत्ता होने का गौरव हासिल किया है। यह चिंताजनक रहस्योद्घाटन शहर की बिगड़ती वायु गुणवत्ता के अंतर्निहित कारणों को संबोधित करने की तत्काल आवश्यकता को रेखांकित करता है।

वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) को समझ

वायु में प्रदूषण के स्तर का आकलन करने के लिए एक्यूआई एक महत्वपूर्ण मीट्रिक के रूप में कार्य करता है। इसकी गणना प्रदूषकों की पांच श्रेणियों: जमीनी स्तर का ओजोन, पार्टिकुलेट मैटर, कार्बन मोनोऑक्साइड, सल्फर डाइऑक्साइड और नाइट्रोजन डाइऑक्साइड के आधार पर की जाती है। इनमें से प्रत्येक प्रदूषक के अलग-अलग स्रोत हैं, जिनमें औद्योगिक उत्सर्जन से लेकर वाहनों के धुएं और कृषि गतिविधियों तक शामिल हैं।

लाहौर की वायु गुणवत्ता की गंभीरता

एक्यूआई स्तर वायु प्रदूषण की गंभीरता के बारे में जानकारी प्रदान करते हैं। 151 और 200 के बीच एक एक्यूआई को अस्वस्थ माना जाता है, जबकि 201 और 300 के बीच की रेटिंग अधिक हानिकारक होती है। जब एक्यूआई 300 से अधिक हो जाता है, तो हवा की गुणवत्ता बेहद खतरनाक मानी जाती है। लाहौर के मामले में, 400 का एक्यूआई प्रदूषण के खतरनाक स्तर को दर्शाता है, जो शहर के निवासियों के स्वास्थ्य के लिए गंभीर खतरा उत्पन्न करता है।

यहां सारणीबद्ध प्रारूप में जानकारी दी गई है:

क्रमांक एक्यूआई स्तर वायु गुणवत्ता
1 0-50 अच्छी
2 51-100 मध्यम
3 101-150 संवेदनशील समूहों के लिए अस्वास्थ्यकर
4 151-200 अस्वास्थ्यकर
5 201-300 अत्याधिक अस्वास्थ्यकर
6 301 और अधिक खतरनाक

मौसमी परिवर्तन और योगदान देने वाले कारक

विशेषज्ञों का कहना है कि लाहौर में सर्दियों के माह के दौरान वायु प्रदूषण बढ़ जाता है। हवा की गति, हवा की दिशा में परिवर्तन और न्यूनतम तापमान में गिरावट हवा की गुणवत्ता में गिरावट में योगदान करती है। ठंडे मौसम के कारण हवा भारी हो जाती है, जिससे वातावरण में जहरीले कण नीचे की ओर बढ़ने लगते हैं। इस घटना के परिणामस्वरूप प्रभावित क्षेत्र को कवर करने वाली महत्वपूर्ण मात्रा में कार्बन और धुएं सहित प्रदूषित कणों की एक परत बन जाती है।

स्वास्थ्य और आजीविका पर प्रभाव

लाहौर के वायु गुणवत्ता संकट के परिणाम महज़ असुविधा से कहीं आगे तक फैले हुए हैं। वायु प्रदूषण के उच्च स्तर के लंबे समय तक संपर्क में रहने से श्वसन संबंधी समस्याएं, हृदय संबंधी रोग और अन्य श्वसन संबंधी बीमारियों सहित गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। इसके अतिरिक्त, खतरनाक वायु गुणवत्ता शहर के निवासियों की आजीविका के लिए खतरा पैदा करती है, जिससे बाहरी गतिविधियाँ, कार्य उत्पादकता और जीवन की समग्र गुणवत्ता प्रभावित होती है।

तत्काल उपायों की आवश्यकता

लाहौर के स्मॉग संकट से निपटने के लिए बहुआयामी दृष्टिकोण की आवश्यकता है। औद्योगिक उत्सर्जन को नियंत्रित करने, वाहन प्रदूषण को कम करने और जलाने की प्रथाओं पर सख्त नियम लागू करने के लिए तत्काल उपाय किए जाने चाहिए। इसके अलावा, जन जागरूकता अभियान वायु गुणवत्ता में सुधार के सामूहिक प्रयास में योगदान देने के लिए नागरिकों के बीच जिम्मेदारी की भावना को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

Q. आईक्यू एयर के अनुसार लाहौर में वर्तमान वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) क्या है?

A: सुबह लाहौर का एक्यूआई 400 बताया गया, इसे “खतरनाक” श्रेणी में रखा गया।

Q. एक्यूआई की गणना किस प्रकार से की जाती है, और प्रदूषकों की पांच श्रेणियां क्या मानी जाती हैं?

A: एक्यूआई की गणना जमीनी स्तर के ओजोन, पार्टिकुलेट मैटर, कार्बन मोनोऑक्साइड, सल्फर डाइऑक्साइड और नाइट्रोजन डाइऑक्साइड के आधार पर की जाती है।

Q: लाहौर की वायु गुणवत्ता संकट को दूर करने के लिए क्या उपाय किए जा सकते हैं?

A: तत्काल उपायों में औद्योगिक उत्सर्जन को नियंत्रित करना, वाहन प्रदूषण को कम करना और जलाने की प्रथाओं पर सख्त नियम लागू करना शामिल है।

Find More International News Here

वैश्विक प्रदूषण रैंकिंग में लाहौर अग्रणी_4.1

FAQs

स्विगी का नया अध्यक्ष और स्वतंत्र निदेशक किसे नियुक्त किया गया है?

आनंद कृपालु स्विगी के नए अध्यक्ष और स्वतंत्र निदेशक नियुक्त किए गए हैं।