Home   »   केरल ने “कॉसमॉस मालाबारिकस” परियोजना के...

केरल ने “कॉसमॉस मालाबारिकस” परियोजना के लिए नीदरलैंड के साथ MoU पर हस्ताक्षर किए

केरल ने "कॉसमॉस मालाबारिकस" परियोजना के लिए नीदरलैंड के साथ MoU पर हस्ताक्षर किए |_50.1


केरल और नीदरलैंड ने ‘कॉसमॉस मालाबारिकस (Cosmos Malabaricus)’ परियोजना के लिए एक समझौता ज्ञापन (Memorandum of Understanding – MoU) पर हस्ताक्षर किए हैं। यह अध्ययन 18वीं शताब्दी में केरल के इतिहास की बेहतर समझ में योगदान देगा।


Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

प्रमुख बिंदु (Key Points):

  • मलप्पुरम और कोल्लम में पेंट अकादमियों की स्थापना के लिए केरल राज्य, नीदरलैंड के साथ भी सहयोग करेगा।
  • केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन और भारत में डच राजदूत मार्टन वैन डेन बर्ग की उपस्थिति में समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए।
  • केरल काउंसिल फॉर हिस्टोरिकल रिसर्च (Kerala Council for Historical Research – KCHR)  इस परियोजना को अंजाम दे रहा है। यह डिपार्टमेंट ऑफ़ हायर एजुकेशन, लीडेन विश्वविद्यालय और नीदरलैंड के राष्ट्रीय अभिलेखागार (National Archives of the Netherlands) का हिस्सा है,
  • इस परियोजना को पूरा करने में छह वर्ष का समय लगेगा।

परियोजना के बारे में (About the Project):

  • यह शोध मालाबार पर 18वीं सदी के डच दस्तावेज़ों पर केंद्रित होगा, जिन्हें अक्सर 1643 से 1852 की अवधि के बारे में ज़ानकारी का सबसे व्यापक स्रोत माना जाता है।
  • दस्तावेज़ तमिलनाडु, केरल और नीदरलैंड में उपलब्ध हैं, और प्राचीन डच भाषा में लिखे गए हैं।
  • केरल के छात्र इस परियोजना के हिस्से के रूप में लीडेन विश्वविद्यालय में मास्टर ऑफ आर्ट्स कार्यक्रमों का अध्ययन करने में सक्षम होंगे, जबकि नीदरलैंड के छात्र केसीएचआर में इंटर्नशिप पूरा करने में सक्षम होंगे।
  • इसके अलावा, प्रत्येक वर्ष लीडेन यूनिवर्सिटी और केसीएचआर केरल के इतिहास से जुड़े विषय पर दो सप्ताह के समर स्कूल की मेज़बानी करेंगे।

परियोजना का उद्देश्य (Aim of the Project):

  • इस परियोजना का लक्ष्य भारतीय और विदेशी विशेषज्ञों के साथ-साथ केरल के निवासियों सहित दर्शकों की एक विस्तृत श्रृंखला के लिए डिजिटल डच अभिलेखीय ज़ानकारी को सुलभ बनाना है।
  • सामग्री (Materials) का अनुवाद किया जाएगा, और अंग्रेजी सारांश उपलब्ध कराया जाएगा।
  • सामग्री (Materials) केरल के सामाजिक, राजनीतिक, सांस्कृतिक और आर्थिक इतिहास को समझने में मदद करेगी।

एक्ज़ोनोबेल इंडिया लिमिटेड, एक डच सहायक के साथ भारत में एक प्रसिद्ध रसायन और पेंट निर्माता, और ASAP (अतिरिक्त कौशल अधिग्रहण कार्यक्रम – Additional Skill Acquisition Program), भारतीय बुनियादी ढांचा और निर्माण संस्थान, कोल्लम; क्रेडाई (CREDAI), केरल ने पेंट स्कूल को विकसित करने के लिए एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं। कोल्लम के चावरा में IIICC परिसर में बनने वाली पेंट अकादमी, पेंटिंग संरचनाओं में प्रशिक्षण प्रदान करेगी। संस्थान, जो मलप्पुरम के थवानूर में ASAP स्किल स्काई पार्क (ASAP Skill Sky Park) में स्थित होगा, वाहन पेंटिंग में निर्देश प्रदान करेगा। पहले वर्ष में 380 व्यक्तियों को प्रशिक्षित किया जाएगा।

Find More News Related to Agreements

केरल ने "कॉसमॉस मालाबारिकस" परियोजना के लिए नीदरलैंड के साथ MoU पर हस्ताक्षर किए |_60.1

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *