Home   »   केन्या के राष्ट्रपति करेंगे भारत की...

केन्या के राष्ट्रपति करेंगे भारत की तीन दिवसीय राजकीय यात्रा

केन्या के राष्ट्रपति करेंगे भारत की तीन दिवसीय राजकीय यात्रा |_30.1

केन्याई राष्ट्रपति रुतो की भारत यात्रा राजनयिक संबंधों और ग्रामीण विकास, कृषि और प्रौद्योगिकी में सहयोग को मजबूत करने पर केंद्रित थी।

केन्या के राष्ट्रपति विलियम सामोई रुतो ने हाल ही में भारत की तीन दिवसीय राजकीय यात्रा शुरू की, जिसमें दोनों देशों के बीच 1948 से चली आ रही स्थायी दोस्ती पर बल दिया गया। इस यात्रा का उद्देश्य राजनयिक संबंधों को मजबूत करना और विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग के अवसरों का पता लगाना है।

डिजिटल प्रगति और कूटनीति

एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान, राष्ट्रपति रुतो ने भारत की डिजिटल प्रगति की सराहना की और डिजिटल क्षेत्र में समझौतों पर हस्ताक्षर करने के केन्या के इरादे को व्यक्त किया। उन्होंने डिजिटल आईडी और सरकारी सेवा डिजिटलीकरण के बारे में जानने के लिए केन्या के सूचना और संचार प्रौद्योगिकी मंत्री की भारत यात्रा पर प्रकाश डाला, और शासन में प्रौद्योगिकी के भारत के प्रभावी उपयोग की प्रशंसा की।

सहयोग के प्रमुख क्षेत्र

राष्ट्रपति रुतो ने ग्रामीण विकास, कृषि, वैक्सीन निर्माण और जीनोमिक्स सहित सहयोग के प्रमुख क्षेत्रों की रूपरेखा तैयार की। इन क्षेत्रों में सहयोग को बढ़ावा देने के लिए समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए जाने की उम्मीद है। भारत और केन्या के बीच आर्थिक संबंधों को मजबूत करने के लिए व्यापारिक संबंधों को बढ़ाने पर भी बल दिया जा रहा है।

साझा दृष्टिकोण और वैश्विक सहयोग

राष्ट्रपति रुतो ने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के साथ अपने साझा दृष्टिकोण पर जोर दिया, विशेष रूप से ग्लोबल साउथ और अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय संरचना के सुधार से संबंधित मामलों पर। इस यात्रा में महात्मा गांधी को सम्मान देना और विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर के साथ चर्चा शामिल थी, जिन्होंने वैश्विक मुद्दों पर राष्ट्रपति रुतो के दृष्टिकोण की सराहना की।

आर्थिक सहयोग और ऋण व्यवस्था

प्रधान मंत्री मोदी के साथ एक संयुक्त प्रेस वार्ता के दौरान, यह घोषणा की गई कि भारत केन्या को अपने कृषि क्षेत्र के आधुनिकीकरण के लिए 250 मिलियन अमरीकी डालर की ऋण सुविधा प्रदान करेगा। दोनों नेताओं ने आर्थिक सहयोग के लिए नए अवसर तलाशने की प्रतिबद्धता व्यक्त की, प्रधान मंत्री मोदी ने केन्या के लिए एक विश्वसनीय विकास भागीदार के रूप में भारत की भूमिका का उल्लेख किया।

रणनीतिक पहल और समझौता ज्ञापन

नेताओं ने खेल, सूचना प्रौद्योगिकी और शिक्षा जैसे क्षेत्रों में पांच समझौता ज्ञापनों का आदान-प्रदान किया। चर्चाओं में तकनीकी आदान-प्रदान, आर्थिक सहयोग और वैश्विक मुद्दों पर आपसी समझ के महत्व पर प्रकाश डाला गया।

राजनयिक संबंधों और भविष्य के सहयोग का जश्न मनाना

प्रधान मंत्री मोदी ने भारत और केन्या के बीच राजनयिक संबंधों की 60वीं वर्षगांठ पर प्रकाश डाला, उनके सामान्य अतीत और भविष्य पर बल दिया। दोनों देश प्रौद्योगिकी और नवाचार में सहयोग बढ़ाने पर सहमत हुए, साथ ही भारत ने अपनी डिजिटल बुनियादी ढांचे की उपलब्धियों को साझा करने की पेशकश की। दोनों देशों के लिए स्वच्छ ऊर्जा को प्राथमिकता के रूप में पहचाना गया।

वैश्विक चुनौतियाँ और क्षेत्रीय सुरक्षा

नेताओं ने नए वैश्विक और क्षेत्रीय मुद्दों पर चर्चा की, जिसमें समुद्री सुरक्षा, समुद्री डकैती और आतंकवाद विरोधी जैसी सामान्य प्राथमिकताओं पर जोर दिया गया। समुद्री सहयोग पर एक संयुक्त दृष्टि वक्तव्य जारी किया गया, जो साझा चुनौतियों से निपटने में आपसी सहयोग की प्रतिबद्धता को दर्शाता है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

प्रश्न: केन्या के राष्ट्रपति रुतो की भारत की तीन दिवसीय राजकीय यात्रा का फोकस क्या था?

उत्तर: राष्ट्रपति रूटो की यात्रा ने भारत और केन्या के बीच राजनयिक संबंधों, आर्थिक सहयोग और तकनीकी आदान-प्रदान को मजबूत करने पर जोर दिया।

प्रश्न: यात्रा के दौरान सहयोग के किन प्रमुख क्षेत्रों पर प्रकाश डाला गया?

उत्तर: सहयोग के प्रमुख क्षेत्रों में ग्रामीण विकास, कृषि, वैक्सीन निर्माण और जीनोमिक्स शामिल हैं। इन डोमेन में समझौता ज्ञापनों (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए जाने की तैयारी थी।

प्रश्न: राष्ट्रपति रुतो ने अपनी यात्रा के दौरान किन डिजिटल पहलों की सराहना की?

उत्तर: राष्ट्रपति रुतो ने भारत की डिजिटल प्रगति की प्रशंसा की और डिजिटल क्षेत्र में समझौतों पर हस्ताक्षर करने के केन्या के इरादे की घोषणा की। केन्या के सूचना और संचार प्रौद्योगिकी मंत्री ने डिजिटल आईडी और सरकारी सेवा डिजिटलीकरण का पता लगाने के लिए भारत का दौरा किया।

प्रश्न: संयुक्त प्रेस वार्ता के दौरान प्रधान मंत्री मोदी ने क्या आर्थिक घोषणा की?

उत्तर: प्रधानमंत्री मोदी ने एक विश्वसनीय विकास भागीदार के रूप में भारत की प्रतिबद्धता पर जोर देते हुए केन्या के कृषि क्षेत्र को आधुनिक बनाने के लिए 250 मिलियन अमेरिकी डॉलर की ऋण सुविधा की घोषणा की।

Find More International News Here

केन्या के राष्ट्रपति करेंगे भारत की तीन दिवसीय राजकीय यात्रा |_40.1

 

FAQs

भारत ने केन्या को 250 मिलियन डॉलर की ऋण सुविधा क्यों दी?

भारत ने केन्या के कृषि क्षेत्र के आधुनिकीकरण का समर्थन करने के लिए नियंत्रण रेखा का विस्तार किया।