Home   »   कंचन देवी आईसीएफआरई की पहली महिला...

कंचन देवी आईसीएफआरई की पहली महिला महानिदेशक बनीं

कंचन देवी आईसीएफआरई की पहली महिला महानिदेशक बनीं |_30.1

कंचन देवी केंद्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के तहत कार्यरत भारतीय वानिकी अनुसंधान और शिक्षा परिषद (आईसीएफआरई) की पहली महिला महानिदेशक बनीं।

मध्य प्रदेश कैडर की 1991 बैच की भारतीय वन सेवा अधिकारी कंचन देवी को भारतीय वानिकी अनुसंधान शिक्षा परिषद (आईसीएफआरई) का महानिदेशक (डीजी) नियुक्त किया गया है। यह एक ऐतिहासिक उपलब्धि है, जिसमें कंचन केंद्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के तहत संचालित प्रमुख परिषद के भीतर इस सम्मानित पद पर पहुंचने वाली पहली महिला अधिकारी बन गई हैं।

ट्रेलब्लेजर्स जर्नी: वानिकी में 30 वर्ष का अनुभव

कंचन देवी अपनी नई भूमिका में वानिकी के क्षेत्र में 30 वर्षों से अधिक का प्रभावशाली ट्रैक रिकॉर्ड लेकर आई हैं। उनकी व्यापक विशेषज्ञता वन प्रबंधन, प्रशासन, शिक्षा, मानव संसाधन विकास, अनुसंधान और विस्तार सहित असंख्य पहलुओं तक फैली हुई है। वानिकी परिदृश्य की जटिल टेपेस्ट्री को पार करने के बाद, कंचन ने न केवल अपनी दक्षता का प्रदर्शन किया है, बल्कि वानिकी में महिलाओं की भावी पीढ़ियों के लिए भी मार्ग प्रशस्त किया है।

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वन अकादमी में योगदान

अपनी हालिया नियुक्ति से पहले, कंचन ने देहरादून में इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वन अकादमी (आईजीएनएफए) में एक संकाय सदस्य के रूप में कार्य किया। वानिकी शिक्षा में उनका योगदान महत्वपूर्ण रहा है, जिसने महत्वाकांक्षी वनवासियों के दिमाग को आकार दिया है। शैक्षणिक क्षेत्र से परे, कंचन प्रचलित वन नीतियों को लागू करने, विश्लेषण करने और अद्यतनों की सिफारिश करके ग्रामीण समुदायों के उत्थान में सक्रिय रूप से लगी हुई है।

आईसीएफआरई के दिग्गज: उप निदेशक के रूप में कंचन की महत्वपूर्ण भूमिका

आईसीएफआरई में अपने कार्यकाल के दौरान, जहां उन्होंने पिछले चार वर्षों तक उप निदेशक के रूप में कार्य किया, कंचन ने वानिकी शिक्षा को आगे बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उनकी जिम्मेदारियों में पाठ्यक्रमों को मान्यता देना, वन नीतियों पर शोध अध्ययन करना और मानव संसाधन विकास को बढ़ाना शामिल था। उनके योगदान ने भारतीय वानिकी अनुसंधान और शिक्षा परिषद के कामकाज और प्रगति पर एक अमिट छाप छोड़ी है।

आईसीएफआरई: भारत के वानिकी परिदृश्य का पोषण

भारतीय वानिकी अनुसंधान और शिक्षा परिषद (आईसीएफआरई) भारत सरकार के पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के तहत एक स्वायत्त संगठन है। देहरादून में अपने मुख्यालय के साथ, आईसीएफआरई वानिकी अनुसंधान करने, विकसित प्रौद्योगिकियों को राज्यों और उपयोगकर्ता एजेंसियों को स्थानांतरित करने और वानिकी शिक्षा प्रदान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। केंद्रीय पर्यावरण और वन मंत्रालय के तहत 1986 में स्थापित, आईसीएफआरई भारत में वानिकी अनुसंधान के लिए जिम्मेदार सबसे बड़ा संगठन है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

Q. भारतीय वानिकी अनुसंधान शिक्षा परिषद (आईसीएफआरई) की पहली महिला महानिदेशक (डीजी) के रूप में किसे नियुक्त किया गया?

A: कंचन देवी को आईसीएफआरई की पहली महिला महानिदेशक (डीजी) के रूप में नियुक्त किया गया था।

Q. भारत के वानिकी परिदृश्य में आईसीएफआरई की क्या भूमिका है?

A. आईसीएफआरई, पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के तहत एक स्वायत्त संगठन के रूप में, वानिकी अनुसंधान करने, विकसित प्रौद्योगिकियों को स्थानांतरित करने और वानिकी शिक्षा प्रदान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

Q. भारतीय वानिकी अनुसंधान और शिक्षा परिषद (आईसीएफआरई) की स्थापना कब हुई थी और यह किस मंत्रालय के तहत काम करती है?

A: आईसीएफआरई की स्थापना 1986 में केंद्रीय पर्यावरण और वन मंत्रालय के तहत की गई थी, और यह भारत सरकार के पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के तहत कार्य करती है।

Find More Appointments Here

कंचन देवी आईसीएफआरई की पहली महिला महानिदेशक बनीं |_40.1

FAQs

भारतीय रेलवे ने हाथियों की वजह से होने वाले रेल हादसों को रोकने के लिए एक नई प्रणाली पेश की है, उसका क्या नाम है?

भारतीय रेलवे ने हाथियों की वजह से होने वाले रेल हादसों को रोकने के लिए एक नई प्रणाली, गजराज सुरक्षा कवच, पेश की है।