Home   »   सैटेलाइट इंटरनेट सेवाओं के लिए जियो...

सैटेलाइट इंटरनेट सेवाओं के लिए जियो और वनवेब को इंटरनेट सेवा प्रदाता का लाइसेंस

सैटेलाइट इंटरनेट सेवाओं के लिए जियो और वनवेब को इंटरनेट सेवा प्रदाता का लाइसेंस |_30.1

 

दूरसंचार विभाग (डॉट) ने जियो सैटेलाइट कम्युनिकेशंस और वनवेब को इंटरनेट सेवा प्रदाता (आईएसपी) लाइसेंस प्रदान किया है।

परिचय

भारत में दूरसंचार परिदृश्य में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि प्राप्त करते हुए, दूरसंचार विभाग (डॉट) ने जियो सैटेलाइट कम्युनिकेशंस और वनवेब को इंटरनेट सेवा प्रदाता (आईएसपी) लाइसेंस प्रदान किया है। यह विकास दोनों कंपनियों द्वारा उपग्रह संचार सेवाएं प्रदान करने के लिए परमिट प्राप्त करने के एक वर्ष पश्चात हुआ है, जो इंटरनेट कनेक्टिविटी में क्रांति लाने के उनके प्रयासों में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है।

आईएसपी लाइसेंस और कनेक्टिविटी समाधान

नए प्राप्त आईएसपी लाइसेंस जियो सैटेलाइट कम्युनिकेशंस और वनवेब को स्थलीय नेटवर्क के साथ सैटेलाइट क्षमताओं को सहजता से एकीकृत करके इंटरनेट सेवाएं प्रदान करने में सशक्त बनाते हैं। इसके अतिरिक्त, वे अंतिम उपभोक्ताओं के साथ सीधा संबंध स्थापित करने के लिए वेरी स्मॉल एपर्चर टर्मिनल (वीएसएटी) तकनीक का उपयोग कर सकते हैं। यह कदम डिजिटल विभाजन को पाटने और पहले से वंचित क्षेत्रों तक इंटरनेट पहुंच का विस्तार करने की प्रतिबद्धता को दर्शाता है।

स्पेक्ट्रम पहुंच और लंबित चुनौतियाँ

आईएसपी लाइसेंस एक महत्वपूर्ण कदम होने पर भी, उपभोक्ता टर्मिनलों तक सेवाएं पहुंचाने के लिए स्पेक्ट्रम पहुंच का महत्वपूर्ण पहलू अभी भी लंबित है। उपग्रह-आधारित इंटरनेट सेवाओं के कुशल और विश्वसनीय प्रावधानों को सुनिश्चित करने के लिए स्पेक्ट्रम आवश्यक है। इस पहलू को संबोधित करना जियो सैटेलाइट कम्युनिकेशंस और वनवेब के लिए व्यापक कनेक्टिविटी के अपने दृष्टिकोण को पूरी तरह से साकार करने के लिए महत्वपूर्ण होगा।

वनवेब की रणनीतिक स्थिति

भारती समूह द्वारा समर्थित, वनवेब ने रणनीतिक रूप से भूस्थैतिक (जीईओ) और निम्न पृथ्वी कक्षा (एलईओ) दोनों में उपग्रहों के अपने समूह को तैनात किया है। यह अनूठी स्थिति एक मजबूत और विश्वसनीय उपग्रह संचार सेवा का वादा करते हुए, अनुकूलित कवरेज और बेहतर विलंबता की अनुमति देती है। भारती एयरटेल के चेयरमैन सुनील भारती मित्तल ने इंडिया मोबाइल कांग्रेस में घोषणा की कि वनवेब की सेवाएं देश के प्रत्येक कोने को जोड़ने के लिए तैयार हैं, जिसका कार्यान्वयन अगले माह शुरू होने की उम्मीद है।

जियो की साझेदारी और प्रदर्शन

इसके विपरीत, जियो सैटेलाइट कम्युनिकेशंस ने जीईओ और मध्यम पृथ्वी कक्षा (एमईओ) उपग्रहों के संयोजन का लाभ उठाते हुए, लक्ज़मबर्ग एसईएस सैटेलाइट्स के साथ साझेदारी की है। यह सहयोग व्यापक कवरेज और हाई-स्पीड ब्रॉडबैंड सेवाएं प्रदान करने की कंपनी की क्षमता को बढ़ाता है। इंडिया मोबाइल कांग्रेस में, रिलायंस जियो ने अपनी सैटेलाइट-आधारित गीगा-फाइबर सेवाओं का प्रदर्शन किया, जो ऐतिहासिक रूप से वंचित क्षेत्रों में हाई-स्पीड ब्रॉडबैंड सेवाएं देने की अपनी प्रतिबद्धता का संकेत देता है।

भविष्य की संभावनाएँ और उद्योग प्रभाव

जियो सैटेलाइट कम्युनिकेशंस और वनवेब के विकास विशाल और दूरदराज के क्षेत्रों में कनेक्टिविटी के विस्तार में सैटेलाइट-आधारित इंटरनेट सेवाओं के बढ़ते महत्व को उजागर करते हैं। जैसे-जैसे ये कंपनियां लंबित चुनौतियों से निपटती हैं और स्पेक्ट्रम पहुंच सुरक्षित करती हैं, उद्योग भारत में इंटरनेट पहुंच पर परिवर्तनकारी प्रभाव की उम्मीद करता है। मूल्य निर्धारण में सामर्थ्य और प्रतिस्पर्धात्मकता पर जोर उच्च गति वाली ब्रॉडबैंड सेवाओं को व्यापक आबादी के लिए सुलभ बनाने की प्रतिबद्धता को इंगित करता है।

Find More Business News Here

 

सैटेलाइट इंटरनेट सेवाओं के लिए जियो और वनवेब को इंटरनेट सेवा प्रदाता का लाइसेंस |_40.1

FAQs

सेफोरा ने भारत के बढ़ते सौंदर्य बाजार में विस्तार करने के लिए किसके साथ साझेदारी की है?

सेफोरा ने भारत के बढ़ते सौंदर्य बाजार में विस्तार करने के लिए आरआरवीएल के साथ साझेदारी की है।

TOPICS: