Home   »   भारत स्पेसएक्स के फाल्कन-9 रॉकेट के...

भारत स्पेसएक्स के फाल्कन-9 रॉकेट के जरिए लॉन्च करेगा अपना सैटेलाइट

भारत स्पेसएक्स के फाल्कन-9 रॉकेट के जरिए लॉन्च करेगा अपना सैटेलाइट |_30.1

इसरो की वाणिज्यिक शाखा, न्यूस्पेस इंडिया लिमिटेड (एनएसआईएल) ने पहली बार ऐतिहासिक सहयोग में संचार उपग्रह जीएसएटी-20 लॉन्च करते हुए स्पेसएक्स के साथ साझेदारी की है।

एक अभूतपूर्व कदम में, भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) की वाणिज्यिक शाखा, न्यूस्पेस इंडिया लिमिटेड (NSIL) ने संचार उपग्रह GSAT-20 लॉन्च करने के लिए अरबपति एलन मस्क के स्वामित्व वाली SpaceX के साथ अपने सहयोग की घोषणा की है। यह स्पेसएक्स के साथ भारत की पहली साझेदारी है, जो अंतरिक्ष अन्वेषण और उपग्रह तैनाती में महत्वपूर्ण प्रगति को दर्शाती है।

GSAT-20 का अनावरण: एक Ka-बैंड एचटीएस सैटेलाइट

GSAT-20, जिसे अब GSAT-N2 नाम दिया गया है, एक उच्च थ्रूपुट Ka-बैंड उपग्रह है जिसे भारत की बढ़ती ब्रॉडबैंड संचार आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। GSAT-20 जैसे Ka-बैंड उपग्रह उच्च गति ब्रॉडबैंड इंटरनेट कनेक्टिविटी प्रदान करते हैं, साथ ही डिजिटल वीडियो और ऑडियो ट्रांसमिशन की सुविधा भी प्रदान करते हैं। उपग्रह 32 बीम के साथ एक प्रभावशाली Ka-बैंड एचटीएस क्षमता का दावा करता है, जो अंडमान और निकोबार और लक्षद्वीप द्वीप समूह जैसे दूरदराज के क्षेत्रों सहित पूरे भारत में कवरेज प्रदान करता है।

4,700 किलोग्राम वजन के साथ, GSAT-20 लगभग 48 जीबीपीएस की पर्याप्त एचटीएस क्षमता प्रदान करता है, जिसे विशेष रूप से देश में दूरदराज और असंबद्ध क्षेत्रों की सेवा आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए तैयार किया गया है।

स्पेसएक्स का फाल्कन-9 रॉकेट: लॉन्च व्हीकल

GSAT-20 के प्रक्षेपण को स्पेसएक्स के फाल्कन-9 रॉकेट द्वारा सुगम बनाया जाएगा, जो एक पुन: प्रयोज्य, दो चरण वाला प्रक्षेपण यान है जो पृथ्वी की कक्षा और उससे आगे पेलोड को ले जाने में अपनी विश्वसनीयता और सुरक्षा के लिए जाना जाता है। फाल्कन 9 को दुनिया का पहला कक्षीय श्रेणी का पुन: प्रयोज्य रॉकेट होने का गौरव प्राप्त है, जो अपने घटकों की पुन: प्रयोज्यता के माध्यम से अंतरिक्ष पहुंच में लागत में कमी लाने में योगदान देता है।

साझेदारी और एलोन मस्क का दृष्टिकोण

एनएसआईएल और स्पेसएक्स के बीच यह सहयोग अंतरिक्ष अन्वेषण के एक नए युग में भारत के प्रवेश का प्रतीक है, क्योंकि यह एयरोस्पेस उद्योग में सबसे नवीन और अग्रणी कंपनियों में से एक के साथ हाथ मिलाता है। स्पेसएक्स और टेस्ला के सीईओ एलन मस्क न केवल GSAT-20 के लॉन्च की सुविधा प्रदान कर रहे हैं, बल्कि अपने सैटेलाइट ब्रॉडबैंड प्रोजेक्ट, स्टारलिंक को भारत में विस्तारित करने में भी रुचि व्यक्त कर रहे हैं। यह दोहरी पहल देश के विभिन्न हिस्सों में उन्नत उपग्रह प्रौद्योगिकी और हाई-स्पीड इंटरनेट कनेक्टिविटी लाने के लिए तैयार है।

‘मांग प्रेरित उपग्रह मिशन’ और जीसैट-20

जून 2020 में भारत सरकार द्वारा घोषित अंतरिक्ष क्षेत्र सुधारों के हिस्से के रूप में, एनएसआईएल को उपयोगकर्ताओं की विशिष्ट सेवा आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए “मांग संचालित उपग्रह मिशन” शुरू करने का आदेश दिया गया है। GSAT-20, जिसे 2024 की दूसरी तिमाही में लॉन्च किया जाना है, इस श्रेणी में आता है, जो मुख्य रूप से ब्रॉडबैंड, इन-फ़्लाइट और मैरीटाइम कनेक्टिविटी (IFMC), और सेलुलर बैकहॉल सेवा आवश्यकताओं के लिए लागत प्रभावी Ka-Ka बैंड HTS क्षमता प्रदान करता है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

1. GSAT-20, जिसे अब GSAT-N2 के नाम से जाना जाता है, का प्राथमिक उद्देश्य क्या है?

a) मौसम की निगरानी
b) कृषि अनुसंधान
c) ब्रॉडबैंड संचार

2. उच्च थ्रूपुट Ka-बैंड उपग्रह GSAT-20 का वजन कितना है?
a) 2,500 किग्रा
b) 4,700 किग्रा
c) 6,000 किग्रा

3. कौन सा रॉकेट GSAT-20 उपग्रह को कक्षा में प्रक्षेपित करेगा?
a) एटलस V
b) डेल्टा IV
c) फाल्कन-9

4. फाल्कन-9 को अंतरिक्ष अन्वेषण की दुनिया में क्या अद्वितीय बनाता है?
a) पहला पुन: प्रयोज्य कक्षीय रॉकेट
b) सबसे बड़ी पेलोड क्षमता
c) सबसे तेज प्रक्षेपण गति

कृपया अपनी प्रतिक्रियाएँ टिप्पणी अनुभाग में साझा करें।

भारत स्पेसएक्स के फाल्कन-9 रॉकेट के जरिए लॉन्च करेगा अपना सैटेलाइट |_40.1

 

 

FAQs

एयर इंडिया ने किसे कॉरपोरेट मामलों का ग्रुप प्रमुख नियुक्त किया है?

एयर इंडिया ने पी बालाजी को कॉरपोरेट मामलों का ग्रुप प्रमुख नियुक्त किया है।