Home   »   इसरो आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से...

इसरो आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से करेगा INSAT-3DS उपग्रह लॉन्च

इसरो आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से करेगा INSAT-3DS उपग्रह लॉन्च |_30.1

इसरो मौसम पूर्वानुमान और आपदा प्रबंधन में सुधार के लिए मौसम संबंधी उपग्रह INSAT-3DS लॉन्च करने की तैयारी कर रहा है, जो भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम के लिए एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) अपने नवीनतम मौसम उपग्रह, INSAT-3DS को लॉन्च करने के लिए तैयार है, जो भारत की अंतरिक्ष क्षमताओं में एक महत्वपूर्ण प्रगति है। मौसम पूर्वानुमान और आपदा प्रबंधन को बढ़ाने के लिए डिज़ाइन किया गया यह उपग्रह, इसरो और विभिन्न हितधारकों के बीच कठोर परीक्षण और सहयोग की परिणति का प्रतिनिधित्व करता है।

लॉन्च-पूर्व तैयारी की शुरुआत

INSAT-3DS के प्रक्षेपण की प्रक्रिया इसरो द्वारा उपग्रह के विस्तृत परीक्षण और समीक्षा पूरी करने के साथ शुरू हुई। 25 जनवरी को, इसरो ने आधिकारिक तौर पर उपग्रह को श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र में लॉन्च पोर्ट के लिए रवाना किया, जो प्री-लॉन्च गतिविधियों की शुरुआत का संकेत था।

डिज़ाइन और क्षमताएँ

INSAT-3DS को अपने पूर्ववर्तियों, INSAT-3D (2013 में लॉन्च) और INSAT-3DR (2016) को सेवाओं की निरंतरता प्रदान करने के लिए इंजीनियर किया गया है, जबकि INSAT प्लेटफ़ॉर्म की क्षमताओं को भी बढ़ाया गया है। इसका डिज़ाइन, इसरो के सुप्रमाणित I-2k बस प्लेटफ़ॉर्म पर आधारित है, जो 2,275 किलोग्राम के लिफ्ट-ऑफ द्रव्यमान का दावा करता है, जो इसे भारत के उपग्रह बेड़े में एक मजबूत अतिरिक्त बनाता है।

संयोजन और परीक्षण

INSAT-3DS का संयोजन, एकीकरण और परीक्षण बेंगलुरु के यू आर राव सैटेलाइट सेंटर में सावधानीपूर्वक किया गया, जो सटीक इंजीनियरिंग और गुणवत्ता आश्वासन के प्रति इसरो की प्रतिबद्धता को दर्शाता है। इस चरण में आगे के कठिन कार्य के लिए उपग्रह की तैयारी सुनिश्चित करने के लिए कठोर मूल्यांकन शामिल था।

उद्योग सहयोग

इसरो ने INSAT-3DS के विकास में भारतीय उद्योगों के महत्वपूर्ण योगदान को रेखांकित किया, भारत के अंतरिक्ष प्रयासों को संचालित करने वाली सहयोगात्मक भावना पर जोर दिया। यह साझेदारी अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी और नवाचार को आगे बढ़ाने में सरकारी एजेंसियों और निजी क्षेत्र के बीच तालमेल को उजागर करती है।

उन्नत मौसम संबंधी अवलोकन

INSAT-3DS मौसम संबंधी टिप्पणियों के लिए उन्नत क्षमताओं से सुसज्जित है, जो अधिक सटीक मौसम पूर्वानुमान और आपदा प्रबंधन को सक्षम बनाता है। इसके परिष्कृत उपकरण भूमि और समुद्री सतहों की निगरानी करने में सक्षम हैं, जो प्राकृतिक आपदाओं के प्रभाव की भविष्यवाणी करने और उन्हें कम करने के लिए महत्वपूर्ण हैं।

प्रमुख विशेषताऐं

अपने पूर्ववर्तियों के समान, INSAT-3DS में एक डेटा रिले ट्रांसपोंडर (DRT) और एक खोज और बचाव ट्रांसपोंडर की सुविधा है। डीआरटी स्वचालित संग्रह प्लेटफार्मों से मौसम संबंधी और पर्यावरण संबंधी डेटा प्राप्त करने की सुविधा प्रदान करता है, जिससे उपग्रह की पूर्वानुमान क्षमताओं को बढ़ावा मिलता है। इसके अतिरिक्त, खोज और बचाव ट्रांसपोंडर वैश्विक कवरेज सुनिश्चित करते हुए त्वरित खोज और बचाव कार्यों के लिए संकट संकेतों को प्रसारित करने में सहायता करता है।

INSAT-3DS प्रक्षेपण: भारत के अंतरिक्ष अभियान में एक महत्वपूर्ण कदम

INSAT-3DS का आसन्न प्रक्षेपण भारत की अंतरिक्ष यात्रा में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि को दर्शाता है, जो सामाजिक लाभ के लिए अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी का उपयोग करने की इसरो की प्रतिबद्धता को रेखांकित करता है। अपनी उन्नत क्षमताओं और सहयोगात्मक विकास दृष्टिकोण के साथ, INSAT-3DS मौसम विज्ञान, आपदा प्रबंधन और उससे आगे में भारत की क्षमताओं को बढ़ाने के लिए तैयार है, जो अंतरिक्ष अन्वेषण और नवाचार में देश की शक्ति की पुष्टि करता है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

1. INSAT-3DS का प्राथमिक उद्देश्य क्या है?

2. INSAT-3DS के लिए अस्थायी प्रक्षेपण यान क्या है?

कृपया अपनी प्रतिक्रियाएँ टिप्पणी अनुभाग में साझा करें!!

इसरो आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से करेगा INSAT-3DS उपग्रह लॉन्च |_40.1

FAQs

दुनिया का सबसे बड़ा क्रिकेट स्टेडियम किस देश में है?

भारत

TOPICS: