Home   »   ब्रांड इंडिया में उत्कृष्ट योगदान के...

ब्रांड इंडिया में उत्कृष्ट योगदान के लिए इसरो और टीम चंद्रयान-3 को सम्मान

ब्रांड इंडिया में उत्कृष्ट योगदान के लिए इसरो और टीम चंद्रयान-3 को सम्मान |_30.1

इसरो और चंद्रयान-3 टीम को हाल ही में 2 दिसंबर को मुंबई में आयोजित 19वें इंडिया बिजनेस लीडर अवार्ड्स (आईबीएलए) में “ब्रांड इंडिया में उत्कृष्ट योगदान” पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

23 अगस्त को एक ऐतिहासिक क्षण में, भारत के चंद्रयान-3 ने उल्लेखनीय चंद्र लैंडिंग हासिल की, जिससे भारत चंद्र दक्षिणी ध्रुव पर पहुंचने वाला पहला देश बन गया। सफल मिशन, जो भारत की वैज्ञानिक क्षमता का प्रमाण है, ने अंतरिक्ष महाशक्ति के रूप में अपनी स्थिति को मजबूत किया है। विशेष रूप से, यह उपलब्धि न केवल वैज्ञानिक समुदाय में गूंजी, बल्कि व्यापार जगत में भी इसे मान्यता मिली। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) और चंद्रयान-3 टीम को हाल ही में 2 दिसंबर को मुंबई में आयोजित 19वें इंडिया बिजनेस लीडर अवार्ड्स (आईबीएलए) में “ब्रांड इंडिया में उत्कृष्ट योगदान” पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

बजट में वैज्ञानिक विजय

चंद्रयान-3 की सफलता न केवल भारत की वैज्ञानिक प्रतिभा का प्रतिबिंब है, बल्कि कुशल बजट प्रबंधन का भी प्रदर्शन है। 600 करोड़ रुपये की लागत से क्रियान्वित इस मिशन ने हॉलीवुड के अंतरिक्ष अन्वेषणों के विभिन्न चित्रण अक्सर लागत के एक अंश के साथ चित्रित करते हैं। इसके विपरीत, हाल ही में रूसी चंद्रमा मिशन, जो दुर्भाग्य से विफलता में समाप्त हुआ, की लागत लगभग 16,000 करोड़ रुपये थी। इस लागत-प्रभावशीलता ने वैश्विक ध्यान आकर्षित किया है, नासा ने चंद्रयान -3 में उपयोग की जाने वाली प्रौद्योगिकी और उपकरणों को प्राप्त करने में रुचि व्यक्त की है।

चुनौतियों पर काबू पाना

चंद्रयान-3 मिशन को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा, जिसमें अज्ञात चंद्र भूभाग पर नेविगेट करना और शून्य से 280 डिग्री सेल्सियस नीचे तापमान के साथ चरम चंद्र रातों को सहन करना शामिल था। इन बाधाओं के बावजूद, मिशन के विक्रम रोवर ने इसरो टीम के लचीलेपन और दृढ़ संकल्प को प्रदर्शित करते हुए, अपने उद्देश्यों को सफलतापूर्वक पूरा किया।

वैज्ञानिक खोज

एक लूनार दिवस या 14 पृथ्वी दिनों तक संचालित करने के लिए डिज़ाइन किया गया, सौर ऊर्जा से संचालित चंद्रयान-3 ने 2 सितंबर तक अपने कार्यों में अपेक्षाओं को पार कर लिया। अपने मिशन के दौरान, विक्रम रोवर ने महत्वपूर्ण खोजें कीं, जिसमें चंद्र सतह पर सल्फर की उपस्थिति की पुष्टि भी शामिल थी। इसके अतिरिक्त, इसने एल्यूमीनियम, कैल्शियम और सिलिकॉन जैसे अन्य तत्वों की पहचान की, जो चंद्रमा की संरचना की हमारी समझ में मूल्यवान डेटा का योगदान करते हैं।

वैश्विक सम्मान और पुरस्कार

इसरो और आईबीएलए में चंद्रयान-3 टीम को दिया गया “ब्रांड इंडिया में उत्कृष्ट योगदान” पुरस्कार अंतरिक्ष अन्वेषण में उनकी उल्लेखनीय उपलब्धियों की मान्यता है। यह स्वीकृति न केवल वैज्ञानिक सफलता का जश्न मनाती है बल्कि भारत की वैश्विक छवि पर सकारात्मक प्रभाव को भी रेखांकित करती है। कम लागत में अभूतपूर्व मिशन पूरा करने की क्षमता अंतरिक्ष अन्वेषण और नवाचार के प्रति भारत की प्रतिबद्धता को दर्शाती है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

Q1. चंद्रयान-3 ने चंद्रमा पर कब लैंडिंग की?

A. चंद्रयान-3 ने 23 अगस्त को चंद्र लैंडिंग की।

Q2. हाल ही में इसरो और चंद्रयान-3 टीम को कौन सा पुरस्कार मिला?

A. उन्हें 19वें इंडिया बिजनेस लीडर अवार्ड्स में “ब्रांड इंडिया में उत्कृष्ट योगदान” पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

Q3. चंद्रयान-3 मिशन की लागत कितनी थी?

A. चंद्रयान-3 मिशन को 600 करोड़ रुपये की लागत थी।

Q4. चंद्रयान-3 मिशन ने किन चुनौतियों पर काबू पाया?

A. मिशन ने अज्ञात चंद्र भूभाग की यात्रा की और चरम चंद्र रातों का सामना किया, जहां तापमान शून्य से 280 डिग्री सेल्सियस तक गिर गया था।

 

Find More Awards News Here

 

ब्रांड इंडिया में उत्कृष्ट योगदान के लिए इसरो और टीम चंद्रयान-3 को सम्मान |_40.1

FAQs

केंद्रीय शिक्षा और कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्री कौन हैं?

केंद्रीय शिक्षा और कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान जी हैं।