Home   »   बीमा क्षेत्र में शासन को बढ़ावा...

बीमा क्षेत्र में शासन को बढ़ावा देने के लिए IRDAI ने ऑडिट कार्यकाल को कम करने के लिए निर्देश जारी किए

बीमा क्षेत्र में शासन को बढ़ावा देने के लिए IRDAI ने ऑडिट कार्यकाल को कम करने के लिए निर्देश जारी किए_3.1

बीमा उद्योग में कॉर्पोरेट प्रशासन को मजबूत करने के उद्देश्य से, भारतीय बीमा नियामक और विकास प्राधिकरण (IRDAI) ने नए दिशानिर्देश जारी किए हैं जो बीमा कंपनियों के साथ वैधानिक लेखा परीक्षकों की नियमित सम्पर्क की अवधि को 10 साल से घटाकर 4 साल कर देते हैं। यह रणनीतिक निर्णय ऑडिट फर्मों के नियमित रोटेशन और स्वतंत्रता को सुनिश्चित करने के लिए तैयार है, जिससे इस क्षेत्र में पारदर्शिता और जवाबदेही बढ़ेगी।

अपडेटेड दिशानिर्देशों का एक प्रमुख पहलू वर्तमान लेखा परीक्षकों और उनके सहयोगियों के लिए अनिवार्य तीन साल की कूलिंग-ऑफ अवधि की शुरूआत है। इस कूलिंग-ऑफ फेज के दौरान, बाहर निकलने वाली ऑडिट फर्मों और उनकी संबद्ध संस्थाओं को उस बीमाकर्ता के निवेश जोखिम प्रबंधन या समवर्ती ऑडिट करने से रोक दिया जाएगा, जिसका उन्होंने पहले ऑडिट किया था। इस उपाय का उद्देश्य लेखा परीक्षकों की निष्पक्षता को बनाए रखना और हितों के संभावित टकराव को कम करना है।

इसके अलावा, IRDAI ने निर्धारित किया है कि आने वाले ऑडिटरों में सेवानिवृत्त होने वाले ऑडिटर के किसी भी सहयोगी को शामिल नहीं करना चाहिए। यह सक्रिय कदम एक नए परिप्रेक्ष्य को सुनिश्चित करने और पिछले ऑडिट कार्यकाल से पूर्वाग्रहों या परिचितता के किसी भी संभावित कैरीओवर को रोकने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

ऑडिट एंगेजमेंट पीरियड को 10 साल से घटाकर 4 साल करना इंश्योरेंस सेक्टर में ऑडिट क्वालिटी बढ़ाने के लिए IRDAI द्वारा एक रणनीतिक कदम है। नियमित अंतराल पर नए लेखा परीक्षकों को पेश करके, नियामक का उद्देश्य हर 4 साल में वित्तीय विवरणों की कठोर समीक्षा को बढ़ावा देना है। इस सक्रिय दृष्टिकोण से वित्तीय रिपोर्टिंग के उच्च मानकों को बनाए रखने और उद्योग में अधिक विश्वास पैदा करने की उम्मीद है।

अंततः, बीमाकर्ताओं के साथ ऑडिट फर्मों की भागीदारी को सीमित करने का IRDAI का निर्णय इस क्षेत्र के भीतर पारदर्शिता और जवाबदेही को बढ़ावा देने के उद्देश्य से प्रेरित है। कम ऑडिट कार्यकाल को अनिवार्य करके और कूलिंग-ऑफ अवधि शुरू करके, नियामक अच्छे कॉर्पोरेट प्रशासन के सिद्धांतों को बनाए रखने और वित्तीय रिपोर्टिंग प्रक्रियाओं की अखंडता को बनाए रखने का प्रयास करता है।

हालांकि नए दिशानिर्देश बीमा कंपनियों और ऑडिट फर्मों के लिए समान रूप से परिचालन चुनौतियां पेश कर सकते हैं, उद्योग के हितधारकों ने बड़े पैमाने पर क्षेत्र की विश्वसनीयता को मजबूत करने की दिशा में एक सकारात्मक कदम के रूप में बदलाव को स्वीकार किया है। ऑडिट स्वतंत्रता और गुणवत्ता को प्राथमिकता देकर, IRDAI पॉलिसीधारकों के हितों की रक्षा करने और एक मजबूत और भरोसेमंद इंश्योरेंस इकोसिस्टम को बढ़ावा देने की अपनी प्रतिबद्धता की पुष्टि करता है।

चूंकि बीमा उद्योग इन नियामक परिवर्तनों को नेविगेट करता है, इसलिए बीमा कंपनियों और ऑडिट फर्मों दोनों पर तेजी से अनुकूलन करने और एक सहज संक्रमण सुनिश्चित करने के लिए जिम्मेदारी आती है। नए दिशानिर्देशों के प्रभावी कार्यान्वयन से न केवल शासन प्रथाओं में वृद्धि होगी बल्कि भारत में बीमा क्षेत्र के समग्र विकास और स्थिरता में भी योगदान मिलेगा।

स्टेटिक जीके:

  • IRDAI की स्थापना : 1999;
  • IRDAI मुख्यालय: हैदराबाद, तेलंगाना;
  • IRDAI अध्यक्ष: देबाशीष पांडा।

बीमा क्षेत्र में शासन को बढ़ावा देने के लिए IRDAI ने ऑडिट कार्यकाल को कम करने के लिए निर्देश जारी किए_4.1

FAQs

IRDAI के अध्यक्ष कौन हैं ?

IRDAI के अध्यक्ष देबाशीष पांडा हैं।

TOPICS: