gdfgerwgt34t24tfdv
Home   »   अंतर्राष्ट्रीय उष्णकटिबंधीय दिवस 2024: तारीख, इतिहास...

अंतर्राष्ट्रीय उष्णकटिबंधीय दिवस 2024: तारीख, इतिहास और महत्व

अंतर्राष्ट्रीय उष्णकटिबंधीय दिवस, जो प्रतिवर्ष 29 जून को मनाया जाता है, दुनिया के उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों की अविश्वसनीय विविधता और महत्व को पहचानने के लिए समर्पित एक दिन है। इस विशेष दिन का उद्देश्य उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों के अनूठी चुनौतियों और अवसरों के बारे में वैश्विक जागरूकता बढ़ाना है, साथ ही हमारे ग्रह के पारिस्थितिकी तंत्र और मानव समाज में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका को उजागर करना है।

उष्ण कटिबंध पृथ्वी का एक भौगोलिक क्षेत्र है जो लगभग उत्तर में कर्क रेखा और दक्षिण में मकर रेखा के बीच है। इस क्षेत्र की विशेषता है:

  • साल भर गर्म तापमान
  • दिन-प्रतिदिन के तापमान में थोड़ा मौसमी बदलाव
  • वर्षा, विशेष रूप से भूमध्य रेखा के पास
  • विविध और प्रचुर मात्रा में पौधे और पशु जीवन

उष्णकटिबंधीय क्षेत्र दुनिया के सबसे जैव विविध पारिस्थितिक तंत्रों का घर हैं, जिनमें वर्षावन, प्रवाल भित्तियाँ और मैंग्रोव दलदल शामिल हैं। ये क्षेत्र पृथ्वी की जलवायु को नियंत्रित करने और अनगिनत प्रजातियों को समर्थन देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं

उष्णकटिबंधीय के अंतर्राष्ट्रीय दिवस का इतिहास

संयुक्त राष्ट्र महासभा ने संकल्प A/RES/70/267 के माध्यम से 14 जून, 2016 को अंतर्राष्ट्रीय उष्णकटिबंधीय दिवस की स्थापना की। 29 जून की तारीख को म्यांमार के नोबेल पुरस्कार विजेता, आंग सान सू की द्वारा 2014 में शुरू की गई पहली “स्टेट ऑफ द ट्रॉपिक्स रिपोर्ट” की वर्षगांठ मनाने के लिए चुना गया था।

यह ज़बरदस्त रिपोर्ट बारह प्रमुख उष्णकटिबंधीय अनुसंधान संस्थानों के बीच सहयोग का परिणाम था। इसने हमारे ग्रह के तेजी से बदलते उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों पर एक अनूठा और व्यापक दृष्टिकोण प्रदान किया।

उष्ण कटिबंध का महत्व

पृथ्वी के उष्णकटिबंधीय क्षेत्र कई कारणों से महत्वपूर्ण हैं:

  1. जैव विविधता: उष्णकटिबंधीय दुनिया की अनुमानित 80% स्थलीय प्रजातियों और दुनिया की प्रवाल प्रजातियों के 95-99% का घर हैं।
  2. जलवायु विनियमन: उष्णकटिबंधीय वन और महासागर वैश्विक जलवायु पैटर्न को विनियमित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।
  3. प्राकृतिक संसाधन: उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में लकड़ी, खनिज और औषधीय पौधों सहित कई महत्वपूर्ण प्राकृतिक संसाधन पाए जाते हैं।
  4. सांस्कृतिक विविधता: उष्णकटिबंधीय समृद्ध परंपराओं और ज्ञान के साथ कई स्वदेशी संस्कृतियों का घर हैं।
  5. आर्थिक महत्त्व: उष्णकटिबंधीय क्षेत्र वैश्विक कृषि, पर्यटन और अन्य आर्थिक क्षेत्रों में महत्त्वपूर्ण योगदान देते हैं।

उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों के सामने आने वाली चुनौतियाँ

उनके महत्व के बावजूद, उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ता है:

  • जलवायु परिवर्तन: बढ़ते तापमान और वर्षा के बदलते पैटर्न से उष्णकटिबंधीय पारिस्थितिक तंत्र को खतरा है।
  • वनों की कटाई: बड़े पैमाने पर कटाई और भूमि रूपांतरण खतरनाक दर से उष्णकटिबंधीय जंगलों को नष्ट कर रहे हैं।
  • शहरीकरण: तेजी से शहरी विकास उष्णकटिबंधीय वातावरण और जीवन के पारंपरिक तरीकों पर दबाव डाल रहा है।
  • जैव विविधता का नुकसान: निवास स्थान के नुकसान और अन्य मानवीय गतिविधियों के कारण कई उष्णकटिबंधीय प्रजातियों के विलुप्त होने का खतरा है।
  • जनसांख्यिकीय परिवर्तन: जनसंख्या वृद्धि और बदलाव उष्णकटिबंधीय संसाधनों और समाजों पर नए दबाव पैदा कर रहे हैं।

अंतर्राष्ट्रीय उष्णकटिबंधीय दिवस का उद्देश्य

उष्णकटिबंधीय का अंतर्राष्ट्रीय दिवस कई महत्वपूर्ण उद्देश्यों को पूरा करता है:

  1. जागरूकता बढ़ाना: यह दुनिया भर के लोगों को उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों के महत्व और उनके सामने आने वाली चुनौतियों के बारे में शिक्षित करता है।
  2. सतत विकास को बढ़ावा देना: यह दिन वैश्विक स्थिरता लक्ष्यों को प्राप्त करने में उष्णकटिबंधीय देशों की महत्वपूर्ण भूमिका पर प्रकाश डालता है।
  3. ज्ञान साझा करना: यह उष्णकटिबंधीय कहानियों, विशेषज्ञता और सर्वोत्तम प्रथाओं को साझा करने के लिए एक मंच प्रदान करता है।
  4. प्रगति को पहचानना: यह दिन उष्णकटिबंधीय मुद्दों को संबोधित करने और सफलताओं का जश्न मनाने में प्रगति के मूल्यांकन की अनुमति देता है।
  5. सहयोग को बढ़ावा देना: यह उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में अनुसंधान, संरक्षण और सतत विकास के प्रयासों में अंतर्राष्ट्रीय सहयोग को प्रोत्साहित करता है।

अंतर्राष्ट्रीय उष्णकटिबंधीय दिवस 2024: तारीख, इतिहास और महत्व |_3.1

FAQs

अंतर्राष्ट्रीय उष्णकटिबंधीय दिवस की स्थापना कब और किसके द्वारा हुई।

संयुक्त राष्ट्र महासभा ने संकल्प A/RES/70/267 के माध्यम से 14 जून, 2016 को अंतर्राष्ट्रीय उष्णकटिबंधीय दिवस की स्थापना की।