Home   »   अंतर्राष्ट्रीय ऊँट महोत्सव का राजस्थान के...

अंतर्राष्ट्रीय ऊँट महोत्सव का राजस्थान के बीकानेर में शुभारंभ

अंतर्राष्ट्रीय ऊँट महोत्सव का राजस्थान के बीकानेर में शुभारंभ |_30.1

राजस्थान के सांस्कृतिक रूप से जीवंत जिले बीकानेर में तीन दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय ऊंट महोत्सव की उत्साहपूर्ण शुरुआत हुई।

राजस्थान के सांस्कृतिक रूप से समृद्ध जिले बीकानेर में तीन दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय ऊंट महोत्सव बड़े उत्साह के साथ शुरू हुआ। महोत्सव की शुरुआत एक आकर्षक हेरिटेज वॉक के साथ हुई, जिसने लोक संस्कृति के उत्सव का मंच तैयार किया, जिसने घरेलू और विदेशी दोनों पर्यटकों को मंत्रमुग्ध कर दिया।

परंपरा की एक टेपेस्ट्री:

त्योहार के उद्घाटन के दिन, सड़कें सजे-धजे ऊंटों, पारंपरिक परिधानों और रंग-बिरंगे परिधानों में सजी महिलाओं की जीवंत छटा से जीवंत हो उठीं। रामपुरिया हवेली से शुरू हुई हेरिटेज वॉक में लोक कलाकारों की उत्साहपूर्ण भागीदारी देखी गई, जिससे सांस्कृतिक उत्सव में प्रामाणिकता का स्पर्श जुड़ गया। स्थानीय लोक कलाकारों ने पारंपरिक गीतों, रम्मतों और मनमोहक नृत्यों से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया और समृद्ध स्थानीय संस्कृति की झलक पेश की।

गर्मजोशी से स्वागत और पुष्प वर्षा: शहरवासियों ने मनाया जश्न

हेरिटेज वॉक के शहर की मुख्य सड़कों से गुजरने पर, निवासियों ने प्रतिभागियों का गर्मजोशी से स्वागत किया। रास्ते को फूलों से सजाया गया और जगह-जगह रंगोलियाँ सजाई गईं, जिससे खुशी और उत्सव का माहौल बन गया। सिटी पार्क उत्सव का केंद्र बिंदु बन गया, जिसने बड़ी संख्या में पर्यटकों और स्थानीय लोगों को आकर्षित किया, जो सांस्कृतिक तमाशा देखने के लिए उत्सुकता से सुबह-सुबह एकत्र हुए।

रामपुरिया हवेली से राव बीकाजी की टेकरी तक: यात्रा की शुरुआत

हेरिटेज वॉक रामपुरिया हवेली से शुरू हुई, जो शहर की हलचल भरी मुख्य सड़कों से होकर गुजरी और राव बीकाजी की टेकरी पर समाप्त हुई। यात्रा ने न केवल उत्सव की भव्यता को प्रदर्शित किया, बल्कि प्रतिभागियों को बीकानेर की सांस्कृतिक छवि में डूबने का एक अनूठा अवसर भी प्रदान किया।

रचनात्मक प्रतियोगिताएँ: रंगोली, मेहंदी और ड्राइंग में कलात्मकता

पर्यटन विभाग द्वारा आयोजित प्रतियोगिताओं से बीकाजी की टेकरी रचनात्मकता का केंद्र बन गई। प्रतिभागियों ने उत्साहपूर्ण रंगोली, मेहंदी और ड्राइंग प्रतियोगिताओं में अपनी कलात्मक प्रतिभा का प्रदर्शन किया। पर्यटन विभाग ने स्वस्थ प्रतिस्पर्धा और कलात्मक अभिव्यक्ति की भावना को प्रोत्साहित करते हुए विजेताओं को स्मृति चिन्ह से पुरस्कृत करके उत्साह बढ़ाया।

परंपरा की एक टेपेस्ट्री का अनावरण

जैसे ही अंतर्राष्ट्रीय ऊँट महोत्सव का पहला दिन शुरू हुआ, इसने न केवल राजसी ऊँटों का जश्न मनाया, बल्कि बीकानेर की स्थायी सांस्कृतिक विरासत का एक प्रमाण भी बन गया। हेरिटेज वॉक ने पारंपरिक संगीत, जीवंत वेशभूषा और कलात्मक अभिव्यक्तियों के मिश्रण के साथ, उत्सव के आगामी दिनों के लिए माहौल तैयार किया और सभी उपस्थित लोगों के लिए एक अविस्मरणीय अनुभव का वादा किया।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

1. महोत्सव के पहले दिन हेरिटेज वॉक का समापन कहाँ हुआ?
A) बीकानेर सिटी पार्क
B) रामपुरिया हवेली
C) राव बीकाजी की टेकरी

2. बीकाजी की टेकरी पर कौन सी कलात्मक प्रतियोगिताएं आयोजित की गईं?
A) मूर्ति निर्माण
B) रंगोली, मेहंदी और ड्राइंग
C) स्ट्रीट ग्रैफ्टी

3. हेरिटेज वॉक ऊंटों का जश्न मनाने के अलावा किसका प्रतीक है?
A) फैशन शो
B) सांस्कृतिक विरासत शोकेस
C) ऊँट दौड़

कृपया अपनी प्रतिक्रियाएँ टिप्पणी अनुभाग में साझा करें।

 

अंतर्राष्ट्रीय ऊँट महोत्सव का राजस्थान के बीकानेर में शुभारंभ |_40.1

FAQs

किसने मरणोपरांत सविता कंसवाल को प्रतिष्ठित तेनजिंग नोर्गे राष्ट्रीय साहसिक पुरस्कार से सम्मानित किया?

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने मरणोपरांत सविता कंसवाल को प्रतिष्ठित तेनजिंग नोर्गे राष्ट्रीय साहसिक पुरस्कार से सम्मानित किया।

TOPICS: