Home   »   INS Sandhayak: भारत की नौसेना मानचित्रण...

INS Sandhayak: भारत की नौसेना मानचित्रण और निगरानी में एक नया अध्याय

INS Sandhayak: भारत की नौसेना मानचित्रण और निगरानी में एक नया अध्याय_3.1

3 फरवरी को, विशाखापत्तनम का नौसेना डॉकयार्ड एक महत्वपूर्ण अवसर का गवाह बनेगा क्योंकि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह आईएनएस संधायक के कमीशनिंग समारोह की अध्यक्षता करेंगे। यह आयोजन भारतीय नौसेना की क्षमताओं में एक महत्वपूर्ण वृद्धि का प्रतीक है, जो हिंद महासागर क्षेत्र में इसकी उपस्थिति को मजबूत करता है। इस मील के पत्थर का जश्न मनाने के लिए नौसेना प्रमुख एडमिरल आर. हरि कुमार और नौसेना और गार्डन रीच शिपबिल्डर्स एंड इंजीनियर्स (जीआरएसई) के वरिष्ठ अधिकारियों सहित विशिष्ट अतिथि उपस्थित रहेंगे।

 

आईएनएस संध्याक: डिजाइन और क्षमताएं

कोलकाता में जीआरएसई द्वारा निर्मित, 110 मीटर लंबा आईएनएस संध्याक लगभग 3,800 टन वजन उठाता है और इसमें प्रभावशाली 80 प्रतिशत स्वदेशी सामग्री है। यह “मेक इन इंडिया” पहल के अनुरूप, आत्मनिर्भर रक्षा विनिर्माण में भारत की बढ़ती दक्षता को दर्शाता है। जहाज को दो मजबूत डीजल इंजनों द्वारा संचालित किया जाता है, जिससे यह सुनिश्चित होता है कि वह 18 नॉट से अधिक की गति तक पहुंच सकता है। 25 दिनों से अधिक की सहनशक्ति के साथ, आईएनएस संध्याक विस्तारित मिशनों के लिए अच्छी तरह से सुसज्जित है।

 

उन्नत सुविधाओं के साथ एक पुनर्जन्म

नया आईएनएस संधायक इस नाम को धारण करने वाला पहला जहाज नहीं है; यह अपने पूर्ववर्ती के अनुरूप है, जिसे 4 जून, 2021 को सेवामुक्त कर दिया गया था। हालाँकि, यह पुनर्जन्म अपने साथ उन्नत सुविधाएँ और क्षमताएँ लाता है, जो इसे भारतीय नौसेना के लिए एक दुर्जेय संपत्ति बनाता है। हाइड्रोग्राफिक सर्वेक्षण और समुद्र विज्ञान अध्ययन में जहाज की प्राथमिक भूमिका जल मानचित्रण, नेविगेशन सुरक्षा में सहायता और भारत की समुद्री सुरक्षा और संप्रभुता में योगदान देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।

 

हिंद महासागर क्षेत्र में सामरिक महत्व

वैश्विक समुद्री मार्गों में हिंद महासागर क्षेत्र के रणनीतिक महत्व को देखते हुए, आईएनएस संधायक की कमीशनिंग समय पर हुई है। जहाज की उन्नत मानचित्रण और निगरानी क्षमताएं इस महत्वपूर्ण समुद्री क्षेत्र पर सतर्क नजर बनाए रखने के भारत के प्रयासों को बढ़ावा देंगी। यह मानवीय सहायता और आपदा राहत कार्यों के लिए भारत की क्षमता को बढ़ाता है, जिससे समुद्री सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध एक जिम्मेदार क्षेत्रीय शक्ति के रूप में इसकी भूमिका स्थापित होती है।

FAQs

भारतीय नौसेना में कितने आईएनएस हैं?

वर्तमान में, भारतीय नौसेना के बेड़े में दो विमान वाहक (आईएनएस विक्रमादित्य और आईएनएस विक्रांत) और 130 से अधिक युद्धपोत हैं।