Home   »   डेटा सेंटर के लिए इन्फोसिस का...

डेटा सेंटर के लिए इन्फोसिस का शेल के साथ समझौता

डेटा सेंटर के लिए इन्फोसिस का शेल के साथ समझौता |_30.1

भारतीय आईटी सेवाओं की दिग्गज कंपनी इंफोसिस ने हाल ही में डेटा केंद्रों में इमर्शन कूलिंग सेवाओं को अपनाने के लिए ऊर्जा कंपनी शेल के साथ एक रणनीतिक साझेदारी की घोषणा की है।

भारतीय आईटी सेवाओं की दिग्गज कंपनी इंफोसिस ने हाल ही में डेटा केंद्रों में इमर्शन कूलिंग सेवाओं को अपनाने के लिए ऊर्जा कंपनी शेल के साथ एक रणनीतिक साझेदारी की घोषणा की है। इस सहयोग का उद्देश्य पर्यावरण के अनुकूल डेटा केंद्रों के लिए एक एकीकृत समाधान तैयार करने के लिए, भागीदारों के नेटवर्क द्वारा समर्थित, डिजिटल और ऊर्जा डोमेन में दोनों संगठनों की ताकत का उपयोग करना है।

स्थिरता के लिए संयुक्त दृष्टिकोण

इंफोसिस के ईवीपी और स्थिरता, सेवाओं, उपयोगिताओं, संसाधनों और ऊर्जा के वैश्विक प्रमुख, आशीष कुमार दास, अधिक टिकाऊ भविष्य बनाने के साझा लक्ष्य पर जोर देते हैं। सहयोग का उद्देश्य अनुकूलित हार्डवेयर के माध्यम से उच्च कंप्यूटिंग भार को कुशलतापूर्वक प्रबंधित करने में सक्षम पर्यावरण के लिए जिम्मेदार डेटा केंद्र स्थापित करने के लिए एआई-आधारित डिजिटल समाधानों का लाभ उठाना है।

डेटा केंद्रों का पर्यावरणीय प्रभाव

हाल के उद्योग अनुमानों के अनुसार, डेटा सेंटर वर्तमान में वैश्विक बिजली खपत का लगभग 1.5% और वैश्विक CO2 उत्सर्जन का 1% योगदान करते हैं। एआई कार्यकर्ताओं में अनुमानित वृद्धि के साथ, डेटा केंद्रों से ऊर्जा खपत और CO2 उत्सर्जन में उल्लेखनीय वृद्धि होने की उम्मीद है।

शेल की विसर्जन शीतलन प्रौद्योगिकी

शेल लुब्रिकेंट्स में न्यू बिजनेस डेवलपमेंट और ग्लोबल की अकाउंट्स डाउनस्ट्रीम एंड रिन्यूएबल्स के उपाध्यक्ष आयसुन अकीक ने डेटा सेंटर ऊर्जा के उपयोग को कम करने और व्यवसायों को उनकी स्थिरता प्रतिबद्धताओं को पूरा करने में मदद करने में शेल की इमर्शन कूलिंग तकनीक की क्षमता पर प्रकाश डाला। शेल की गैस-टू-लिक्विड (जीटीएल) प्रक्रिया पर आधारित प्रौद्योगिकी, लागत में कटौती, प्रदर्शन को बढ़ाने और डेटा सेंटर संचालन के पर्यावरणीय पदचिह्न को कम करने के लिए डिज़ाइन की गई है।

स्थिरता के प्रति इंफोसिस की प्रतिबद्धता

इंफोसिस ने स्थिरता के प्रति अपनी प्रतिबद्धता पर जोर देते हुए खुलासा किया कि उसने 2020 में पेरिस समझौते की समयसीमा को 30 साल पार करते हुए कार्बन तटस्थता हासिल की। यह प्रतिबद्धता अपने संचालन में हरित प्रथाओं और प्रौद्योगिकियों को शामिल करने के लिए कंपनी के समर्पण के अनुरूप है।

विसर्जन शीतलन प्रौद्योगिकी का परीक्षण

विसर्जन शीतलन तकनीक से CO2 उत्सर्जन में 30% की कमी और ऊर्जा पदचिह्न उत्पादन में 48% की कमी प्रदर्शित होने का अनुमान है। शेल और इंफोसिस ने शेल के इमर्शन कूलिंग और इंफोसिस के डिजिटल समाधान दोनों का उपयोग करके परीक्षण करने की योजना बनाई है। वैश्विक स्तर पर अन्य ग्राहकों तक पेशकश का विस्तार करने से पहले पायलट चरण दोनों कंपनियों के डेटा केंद्रों में होगा।

वैश्विक आउटरीच और भविष्य की संभावनाएँ

सफल पायलट के बाद, इंफोसिस और शेल दुनिया भर के ग्राहकों के लिए अपने स्थायी डेटा सेंटर की पेशकश का विस्तार करने का इरादा रखते हैं। सहयोगात्मक प्रयास का उद्देश्य व्यापक डेटा सेंटर ऑप्टिमाइज़ेशन टूलकिट प्रदान करना है, जिसमें शेल की इमर्शन कूलिंग तकनीक को इन्फोसिस के डिजिटल समाधानों के साथ जोड़कर संगठनों को अपने संचालन को डीकार्बोनाइज करने में मदद करना है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

Q1. इंफोसिस और शेल के बीच साझेदारी का उद्देश्य क्या है?

A. साझेदारी का उद्देश्य पर्यावरण के अनुकूल और टिकाऊ समाधान बनाने के लिए डेटा केंद्रों में इमर्शन कूलिंग सेवाओं को अपनाने को बढ़ावा देना है।

Q2. डेटा सेंटर वैश्विक बिजली खपत और CO2 उत्सर्जन में कितना योगदान देते हैं?

A. डेटा सेंटर वैश्विक बिजली खपत में लगभग 1.5% और वैश्विक CO2 उत्सर्जन में 1% का योगदान देते हैं।

Q3. डेटा सेंटर ऊर्जा उपयोग को कम करने के लिए शेल किस तकनीक को सहयोग में लाता है?

A. शेल ने लागत में कटौती करने और डेटा सेंटर संचालन के पर्यावरणीय प्रभाव को कम करने के लिए अपनी गैस-टू-लिक्विड (जीटीएल) प्रक्रिया के आधार पर इमर्शन कूलिंग तकनीक पेश की है।

Find More Business News Here

 

डेटा सेंटर के लिए इन्फोसिस का शेल के साथ समझौता |_40.1

 

FAQs

अडानी पावर के प्रोजेक्ट को किस देश के न्यू एनर्जी एंड इंडस्ट्रियल टेक्नोलॉजी डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (NEDO) से मान्यता और समर्थन मिला है?

अडानी पावर के प्रोजेक्ट को जापान के न्यू एनर्जी एंड इंडस्ट्रियल टेक्नोलॉजी डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (NEDO) से मान्यता और समर्थन मिला है।

TOPICS: