Home   »   इंद्र मणि पांडेय ने बिम्सटेक के...

इंद्र मणि पांडेय ने बिम्सटेक के महासचिव का कार्यभार संभाला

इंद्र मणि पांडेय ने बिम्सटेक के महासचिव का कार्यभार संभाला_3.1

अनुभवी भारतीय राजनयिक इंद्र मणि पांडेय ने सात सदस्यीय बिम्सटेक के नए महासचिव के रूप में कार्यभार संभाल लिया। भारतीय विदेश सेवा (आईएफएस) के 1990 बैच के अधिकारी पांडे जिनेवा में संयुक्त राष्ट्र और अन्य अंतरराष्ट्रीय संगठनों में भारत के स्थायी प्रतिनिधि के तौर पर काम कर रहे थे।

बिम्सटेक (BIMSTEC) में भारत के अलावा श्रीलंका, बांग्लादेश, म्यांमार, थाईलैंड, नेपाल और भूटान शामिल हैं। पांडेय ने ढाका में बिम्सटेक के सचिवालय में इसके चौथे महासचिव के रूप में कार्यभार संभाला। उन्होंने भूटान के तेनजिन लेकफेल की जगह ली। इस प्रतिष्ठित पद पर उनका कार्यकाल तीन साल का होगा।

 

क्षेत्रीय सहयोग की दिशा में एक जीवंत मंच

भारत बिम्सटेक को क्षेत्रीय सहयोग की दिशा में एक जीवंत मंच बनाने के लिए ठोस प्रयास कर रहा है क्योंकि सार्क (दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन) के तहत यह पहल कई कारणों से आगे नहीं बढ़ रही थी।

 

इंद्र मणि पांडेय: एक नजर में

अपने तीन दशक से अधिक लंबे राजनयिक करियर में, इंद्र मणि पांडेय ने विदेश मंत्रालय (एमईए) में निरस्त्रीकरण और अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा प्रभाग के प्रभारी अतिरिक्त सचिव के रूप में भी कार्य किया। वे ओमान सल्तनत में भारत के राजदूत, फ्रांस में भारत के उप राजदूत, चीन के गुआंगझौ में भारत के महावाणिज्य दूत भी रहे हैं। पांडेय ने काहिरा, दमिश्क, इस्लामाबाद और काबुल में भारतीय मिशनों में विभिन्न पदों पर भी काम किया है।

 

इंद्र मणि पांडेय ने बिम्सटेक के महासचिव का कार्यभार संभाला_4.1

FAQs

बिम्सटेक में कुल कितने देश हैं?

बिम्‍सटेक के सदस्य देशों में भारत, बांग्लादेश, भूटान, नेपाल, म्यांमार, थाईलैंड और श्रीलंका शामिल हैं।