Home   »   स्वदेशी एडीसी -151 का डीआरडीओ और...

स्वदेशी एडीसी -151 का डीआरडीओ और भारतीय नौसेना द्वारा किया गया पहला सफल परीक्षण

स्वदेशी एडीसी -151 का डीआरडीओ और भारतीय नौसेना द्वारा किया गया पहला सफल परीक्षण |_30.1

भारतीय नौसेना और रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) ने 27 अप्रैल, 2023 को गोवा के तट पर आईएल 38एसडी विमान से ‘एडीसी -150’ नामक स्थानीय रूप से निर्मित एयर ड्रॉपपेबल कंटेनर का पहला सफल परीक्षण करने के लिए सहयोग किया।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

एडीसी-151 का पहला सफल परीक्षण

● 150 किलोग्राम की पेलोड क्षमता के साथ, परीक्षण का उद्देश्य नौसेना परिचालन रसद क्षमताओं को बढ़ाना और तट से 2,000 किमी से अधिक दूर संकट में जहाजों की इंजीनियरिंग स्टोर की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए तत्काल प्रतिक्रिया प्रदान करना था।
● यह तकनीक स्पेयर पार्ट्स इकट्ठा करने के लिए जहाजों को तट के करीब पहुंचने की आवश्यकता को भी कम करती है।

एयर ड्रॉपपेबल कंटेनर, एडीसी -150 के बारे में

ADC-150 कंटेनर के विकास में तीन DRDO प्रयोगशालाओं – नेवल साइंस एंड टेक्नोलॉजिकल लैब (एनएसटीएल), विशाखापत्तनम; एयरियल डिलीवरी रिसर्च एंड डेवलपमेंट एस्टेब्लिशमेंट (एडीआरडीई), आगरा; और एयरोनॉटिकल डेवलपमेंट एस्टेब्लिशमेंट (एडीई), बेंगलुरु का संयुक्त योगदान था। परीक्षण के लिए महत्वपूर्ण उड़ान प्रमाणीकरण को कानपुर के क्षेत्रीय केंद्र फॉर मिलिट्री एअरवर्थिनेस (आरसीएमए), जिसे बेंगलुरु के सेंटर फॉर मिलिट्री एअरवर्थिनेस एंड सर्टिफिकेशन (सेमिलैक) द्वारा प्रबंधित किया जाता है, ने प्रदान किया था।

रक्षा अनुसंधान एवं विकास विभाग के सचिव और डीआरडीओ के अध्यक्ष ने एडीसी-150 के सफल परीक्षण की सराहना की और वैज्ञानिकों और भारतीय नौसेना के प्रयासों की भी सराहना की।

Find More Defence News Here

स्वदेशी एडीसी -151 का डीआरडीओ और भारतीय नौसेना द्वारा किया गया पहला सफल परीक्षण |_40.1

FAQs

डीआरडीओ का पूरा नाम क्या है ?

डीआरडीओ का पूरा नाम रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन है।