Home   »   भारत की महिला रोबोट “व्योममित्र” अंतरिक्ष...

भारत की महिला रोबोट “व्योममित्र” अंतरिक्ष में भरेगी उड़ान

भारत की महिला रोबोट "व्योममित्र" अंतरिक्ष में भरेगी उड़ान |_30.1

भारत का इसरो 2024 की तीसरी तिमाही में मानव रहित व्योममित्र मिशन की तैयारी कर रहा है, जो देश को 2025 में विशाल गगनयान मिशन की ओर प्रेरित करेगा।

भारत के अंतरिक्ष प्रयासों के लिए एक अग्रणी छलांग में, भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) द्वारा विकसित महिला रोबोट अंतरिक्ष यात्री व्योममित्र इस वर्ष की तीसरी तिमाही में एक मानवरहित मिशन पर निकलेगा। मिशन, जिसका नाम संस्कृत शब्दों “व्योम” (अंतरिक्ष) और “मित्र” (मित्र) के नाम पर रखा गया है, 2025 के लिए निर्धारित देश की पहली मानवयुक्त अंतरिक्ष उड़ान, महत्वाकांक्षी गगनयान मिशन की दिशा में एक महत्वपूर्ण प्रगति का प्रतीक है।

व्योममित्र: द हाफ ह्यूमनॉइड स्पेस कंपेनियन

उन्नत क्षमताओं से सुसज्जित व्योममित्र को मॉड्यूल मापदंडों की निगरानी करने, अलर्ट जारी करने और जीवन समर्थन संचालन निष्पादित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यह महिला रोबोट अंतरिक्ष यात्री जीवन समर्थन प्रणाली के साथ निर्बाध रूप से बातचीत करते हुए, अंतरिक्ष वातावरण में मानवीय कार्यों का अनुकरण करती है। इसके कार्यों में छह पैनलों का संचालन करना और प्रश्नों का उत्तर देना, अंतरिक्ष अन्वेषण के लिए इसकी बहुमुखी प्रतिभा को प्रदर्शित करना शामिल है।

गगनयान के लिए प्रमुख विकास और तैयारी

गगनयान मिशन से पहले, 21 अक्टूबर को फ्लाइट टीवी डी1 के सफल परीक्षण के साथ एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर हासिल किया गया था, जिसका उद्देश्य चालक दल के भागने और पैराशूट सिस्टम को योग्य बनाना था। प्रक्षेपण यान की मानव रेटिंग पूरी हो गई है, और सभी प्रणोदन चरण योग्य हैं। गगनयान का उद्देश्य अंतरिक्ष यात्रियों को 400 किलोमीटर की कक्षा में लॉन्च करके मानव अंतरिक्ष क्षमताओं का प्रदर्शन करना है, जिससे भारत के समुद्री जल में उतरकर उनकी सुरक्षित वापसी सुनिश्चित हो सके।

समयरेखा: मानवरहित व्योममित्र मिशन और गगनयान लॉन्च

मानवरहित व्योममित्र मिशन इस वर्ष की तीसरी तिमाही के लिए निर्धारित है, जो गगनयान की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। 2025 के लिए निर्धारित गगनयान मिशन में अंतरिक्ष यात्रियों के एक दल को कक्षा में लॉन्च करने और उन्हें सुरक्षित रूप से पृथ्वी पर वापस लाने की परिकल्पना की गई है, जो अंतरिक्ष अन्वेषण में भारत की शक्ति को प्रदर्शित करता है।

भारत की महिला रोबोट "व्योममित्र" अंतरिक्ष में भरेगी उड़ान |_40.1

FAQs

उत्तराखंड की पहली महिला मुख्य सचिव नियुक्त हुई?

उत्तराखंड की पहली महिला मुख्य सचिव: राधा रतूड़ी।

TOPICS: