Home   »   भारत के परम सिद्धि को विश्व...

भारत के परम सिद्धि को विश्व के सबसे शक्तिशाली सुपर कंप्यूटरों में मिला 63 वां स्थान

 

भारत के परम सिद्धि को विश्व के सबसे शक्तिशाली सुपर कंप्यूटरों में मिला 63 वां स्थान |_50.1

विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) के अनुसार भारतीय सुपर कंप्यूटर परम सिद्धि ने दुनिया के 500 सबसे शक्तिशाली सुपर कंप्यूटरों की सूची में 63 वां रैंक हासिल किया है। परम सिद्धी C-DAC में नेशनल सुपरकंप्यूटिंग मिशन (NSM) के तहत स्थापित हाई-पर्फोमिंग कंप्यूटिंग-आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (HPC-AI) सुपरकंप्यूटर है। दुनिया के शीर्ष 500 नॉन-डिस्ट्रीब्यूटेड कंप्यूटर सिस्टम को रैंक करने वाली शीर्ष 500 परियोजना को वर्ष में दो बार प्रकाशित किया जाता है।

इनमें से पहला अपडेट हमेशा जून में अंतर्राष्ट्रीय सुपरकंप्यूटिंग सम्मेलन में जारी किया है, और दूसरा नवंबर में ACM / IEEE सुपरकंप्यूटिंग सम्मेलन में प्रस्तुत किया जाता है।

WARRIOR 4.0 | Banking Awareness Batch for SBI, RRB, RBI and IBPS Exams | Bilingual | Live Class

परम सिद्धि एआई प्रणाली के बारे में:

  • AI सिस्टम एडवांस मेटेरिअल, कम्प्यूटेशनल रसायन विज्ञान और खगोल भौतिकी जैसे क्षेत्रों में पैकेज, और ड्रग डिजाइन और निवारक स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली के लिए प्लेटफॉर्म पर मिशन के तहत विकसित किए जा रहे कई पैकेज बाढ़-प्रभावित मेट्रो शहरों जैसे मुंबई, दिल्ली, चेन्नई, पटना और गुवाहाटी के लिए बाढ़ पूर्वानुमान पैकेज के एप्लीकेशन विकास को मजबूत बनाएगा
  • सुपरकंप्यूटर तेजी से सिमुलेशन, चिकित्सा इमेजिंग, जीनोम अनुक्रमण और पूर्वानुमान के माध्यम से COVID19 के खिलाफ लड़ाई में अनुसंधान और विकास को गति देने में भी मदद करेगा और भारतीय जनता के लिए और विशेष रूप से स्टार्ट-अप और एमएसएमई के लिए एक वरदान साबित है।
  • 5.267 पेटाफ्लॉप्स और 4.6 पेटाफ्लॉप्समैक्स (सस्टेन्ड) के Rpeak के साथ सुपर कंप्यूटर की कल्पना C-DAC द्वारा की गई थी और इसे NSM के तहत इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (MeitY) के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (DST) के सहयोग से संयुक्त रूप से विकसित किया गया था।

    Find More Ranks and Reports Here

    Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

    Leave a comment

    Your email address will not be published. Required fields are marked *