Home   »   विश्व पैरा एथलेटिक्स चैंपियनशिप:दीप्ति जीवनजी विश्व...

विश्व पैरा एथलेटिक्स चैंपियनशिप:दीप्ति जीवनजी विश्व रिकॉर्ड के साथ जीता स्वर्ण

विश्व पैरा एथलेटिक्स चैंपियनशिप:दीप्ति जीवनजी विश्व रिकॉर्ड के साथ जीता स्वर्ण_3.1

भारतीय पैरा-एथलीट दीप्ति जीवनजी (Deepthi Lifeanji) ने विश्व पैरा एथलेटिक्स चैंपियनशिप 2024 में महिलाओं की T20 400 मीटर स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीतकर इतिहास में अपना नाम रिकॉर्ड  कराया। सोमवार को उनके शानदार प्रदर्शन ने न केवल प्रतिष्ठित आयोजन में भारत का पहला स्वर्ण पदक हासिल किया, बल्कि 55.07 सेकंड का नया विश्व रिकॉर्ड समय भी बनाया।

दीप्ति का गौरव का सफर

दीप्ति का पोडियम तक का सफर असाधारण से कम नहीं था। इससे पहले प्रतियोगिता में, उन्होंने 56.18 सेकंड के प्रभावशाली समय के साथ एक नया एशियाई रिकॉर्ड स्थापित करके फाइनल के लिए क्वालीफाई किया। इस उल्लेखनीय उपलब्धि ने उन्हें पेरिस 2024 पैरालिंपिक के लिए एक प्रतिष्ठित कोटा भी अर्जित किया।

रिकॉर्ड तोड़ना और छाप छोड़ना

फाइनल में दीप्ति के विश्व रिकॉर्ड तोड़ने वाले प्रदर्शन ने पेरिस में चैंपियनशिप के पिछले संस्करण के दौरान अमेरिकी एथलीट ब्रेना क्लार्क द्वारा बनाए गए 55.12 सेकंड के पिछले रिकॉर्ड को तोड़ दिया। 55.07 सेकंड के उनके अविश्वसनीय समय ने प्रतियोगिता को विस्मय में छोड़ दिया, उनके अटूट दृढ़ संकल्प और असाधारण प्रतिभा को उजागर किया।

पोडियम फिनिशर

टी20 400 मीटर स्पर्धा में टॉप पैरा एथलीटों के बीच कड़ी प्रतिस्पर्धा देखी गई। तुर्की की आयसेल ओंडेर ने चैंपियनशिप के चौथे दिन 55.19 सेकंड के समय के साथ रजत पदक हासिल किया, जबकि इक्वाडोर की लिजांशेला एंगुलो ने 56.68 सेकंड के समय के साथ कांस्य पदक का दावा किया।

डिस्टिंक्शन के साथ क्वालीफाइंग

दीप्ति का फाइनल तक का सफर उनके अटूट संकल्प से चिह्नित था। रविवार को, उसने 56.18 सेकंड के एशियाई रिकॉर्ड समय में अपनी हीट रेस जीतकर फाइनल के लिए क्वालीफाई किया, जिससे पैरा एथलेटिक्स की दुनिया में एक ताकत के रूप में उसकी स्थिति और मजबूत हो गई।

भारत के लिए प्रेरणा और गौरव

विश्व पैरा एथलेटिक्स चैंपियनशिप 2024 में दीप्ति जीवनजी की ऐतिहासिक उपलब्धि ने न केवल भारत को बहुत खुशी और गौरव दिलाया है, बल्कि देश भर के इच्छुक पैरा एथलीटों के लिए एक प्रेरणा के रूप में भी काम किया है। उनके समर्पण, दृढ़ता और अटूट भावना ने खेल भावना और लचीलेपन के सच्चे सार को प्रदर्शित किया है।

जैसा कि भारत इस उल्लेखनीय जीत का जश्न मनाता है, दीप्ति की जीत एक अनुस्मारक के रूप में कार्य करती है कि बाधाओं को तोड़ा जा सकता है, और सपनों को कड़ी मेहनत, दृढ़ संकल्प और उत्कृष्टता के लिए एक अटूट जुनून के माध्यम से महसूस किया जा सकता है।

विश्व पैरा एथलेटिक्स चैंपियनशिप:दीप्ति जीवनजी विश्व रिकॉर्ड के साथ जीता स्वर्ण_4.1

FAQs

यूनेस्को का मुख्यालय कहाँ है ?

पेरिस, फ्रांस

TOPICS: