Home   »   भारत वाहन परीक्षण के लिए विशेष...

भारत वाहन परीक्षण के लिए विशेष ईंधन का उत्पादन करने वाले चुनिंदा देशों में शामिल

भारत वाहन परीक्षण के लिए विशेष ईंधन का उत्पादन करने वाले चुनिंदा देशों में शामिल |_30.1

पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री श्री हरदीप सिंह पुरी ने भारत में पहली बार इंडियन ऑयल द्वारा उत्पादित ‘रेफरेंस गैसोलीन और डीजल ईंधन’ का शुभारंभ किया।

भारत ने ‘रेफरेंस’ पेट्रोल और डीजल के उत्पादन की शुरुआत करके ऑटोमोटिव क्षेत्र में आत्मनिर्भरता की अपनी खोज में मील का एक महत्वपूर्ण पत्थर चिह्नित किया। यह विकास भारत को उन चुनिंदा देशों के समूह में रखता है जो इन अत्यधिक विशिष्ट ईंधनों का उत्पादन करने में सक्षम हैं, जो वाहनों को कैलिब्रेट करने और परीक्षण करने के लिए महत्वपूर्ण हैं।

‘रेफरेंस’ ईंधन का महत्व

ये ‘रेफरेंस’ ईंधन नियमित और प्रीमियम पेट्रोल और डीजल से अलग हैं, क्योंकि इनमें उच्च विशिष्टताएं होती हैं, जो उन्हें इंटरनेशनल सेंटर फॉर ऑटोमोटिव टेक्नोलॉजी (आईसीएटी) और ऑटोमोटिव रिसर्च एसोसिएशन ऑफ इंडिया जैसी निर्माताओं और एजेंसियों द्वारा वाहनों को कैलिब्रेट करने और परीक्षण करने के लिए महत्वपूर्ण बनाती हैं। दशकों से, भारत इन विशेष ईंधनों की मांग को पूरा करने के लिए आयात पर बहुत अधिक निर्भर रहा है, जिससे विदेशी आपूर्तिकर्ताओं पर निर्भरता पैदा हुई है।

इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (आईओसी) की भूमिका

इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (आईओसी) ने आयात के स्थान पर स्वदेशी उत्पाद विकसित करके इस उपलब्धि में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। यह न केवल ‘रेफरेंस’ ईंधन की विश्वसनीय आपूर्ति सुनिश्चित करता है बल्कि वाहन निर्माताओं और परीक्षण एजेंसियों के लिए लागत को भी काफी हद तक कम करता है। ओडिशा में आईओसी की पारादीप रिफाइनरी ‘रेफरेंस’ ग्रेड पेट्रोल का उत्पादन करेगी, जबकि हरियाणा में इसकी पानीपत इकाई उच्च गुणवत्ता वाले डीजल का उत्पादन करेगी।

भारत वाहन परीक्षण के लिए विशेष ईंधन का उत्पादन करने वाले चुनिंदा देशों में शामिल |_40.1

‘रेफरेंस’ ईंधन को समझना

‘रेफरेंस’ ईंधन और रेगुलर या प्रीमियम ईंधन के बीच प्राथमिक अंतर ऑक्टेन संख्या में निहित है। जबकि रेगुलर ईंधन में आमतौर पर ऑक्टेन संख्या 87 होती है, प्रीमियम ईंधन में ऑक्टेन संख्या 91 होती है। ‘रेफरेंस’ ग्रेड ईंधन की ऑक्टेन संख्या 97 होती है।

ऑक्टेन संख्या

ऑक्टेन संख्या एक इकाई है जिसका उपयोग पेट्रोल या डीजल की ज्वलन गुणवत्ता को मापने के लिए किया जाता है। जब वाहन परीक्षण की बात आती है, तो ईंधन को उच्च-श्रेणी के विनिर्देशों को पूरा करना चाहिए, जिसमें सीटेन संख्या, फ़्लैश बिंदु, श्यानता, सल्फर और पानी की मात्रा, हाइड्रोजन शुद्धता और एसिड संख्या जैसे कारक शामिल हैं। इन ईंधनों को ‘रेफरेंस’ पेट्रोल और डीजल के रूप में वर्गीकृत किया गया है, और इन्हें मुख्य रूप से स्पार्क इग्निशन इंजन से लैस वाहनों में उत्सर्जन परीक्षण के लिए प्रयुक्त किया जाता है।

आर्थिक लाभ

घरेलू स्तर पर ‘रेफरेंस’ ईंधन का उत्पादन एक महत्वपूर्ण आर्थिक लाभ प्रदान करता है। जबकि आयातित ‘रेफरेंस’ ईंधन की लागत 800-850 रुपये प्रति लीटर के बीच है, इसके घरेलू उत्पादन से लागत लगभग 450 रुपये प्रति लीटर कम होने की उम्मीद है।

निर्यात क्षमता

घरेलू आवश्यकताओं की पूर्ति के बाद, आईओसी ने ‘रेफरेंस’ ईंधन के लिए निर्यात बाजार में प्रवेश करने की योजना बनाई है, जिससे वैश्विक बाजार में एक विश्वसनीय आपूर्तिकर्ता के रूप में भारत की स्थिति और मजबूत होगी।

अन्य घोषणाएँ

1.1 सरकार की ऊर्जा सुरक्षा रणनीति

तेल मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने 2047 तक भारत को ‘ऊर्जा-स्वतंत्र’ बनाने के उद्देश्य से सरकार की चार-आयामी ऊर्जा सुरक्षा रणनीति की घोषणा की। इन रणनीतियों में ऊर्जा आपूर्ति का विविधीकरण, अन्वेषण और उत्पादन क्षमताओं का विस्तार, वैकल्पिक ऊर्जा स्रोतों की खोज, और गैस आधारित अर्थव्यवस्था, हरित हाइड्रोजन और इलेक्ट्रिक वाहनों की ओर परिवर्तन शामिल है।

1.2 उत्सर्जन कम करना

उत्सर्जन कम करने की सरकार की प्रतिबद्धता के अनुरूप, पुरी ने 20 प्रतिशत इथेनॉल मिश्रित पेट्रोल के रोलआउट में तेजी लाने की घोषणा की, जिससे समय सीमा 2030 के पिछले लक्ष्य से बढ़कर 2025 हो गई। उत्सर्जन को कम करने की सरकार की प्रतिबद्धता के अनुरूप, पुरी ने 20 प्रतिशत इथेनॉल के साथ मिश्रित पेट्रोल के रोलआउट में तेजी लाने की घोषणा की, समय सीमा को 2030 के पिछले लक्ष्य से हटाकर 2025 कर दिया। इस माह 12 प्रतिशत इथेनॉल मिश्रण की उपलब्धि 2025 कैलेंडर वर्ष के अंत तक 20 प्रतिशत लक्ष्य तक पहुंचने के भारत के दृढ़ संकल्प को इंगित करती है। पहले से ही 5,000 पेट्रोल पंप 20 प्रतिशत इथेनॉल-मिश्रित पेट्रोल बेच रहे हैं।

Find More National News Here

भारत वाहन परीक्षण के लिए विशेष ईंधन का उत्पादन करने वाले चुनिंदा देशों में शामिल |_50.1

 

 

 

FAQs

पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री कौन हैं?

पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री श्री हरदीप सिंह पुरी जि हैं।

TOPICS: