Home   »   ‘मेमोरी ऑफ द वर्ल्ड सूची’ में...

‘मेमोरी ऑफ द वर्ल्ड सूची’ में शामिल की गईं रामचरितमानस सहित तीन पांडुलिपियां

'मेमोरी ऑफ द वर्ल्ड सूची' में शामिल की गईं रामचरितमानस सहित तीन पांडुलिपियां |_3.1

रामचरितमानस, पंचतंत्र और सहृदयलोक-लोकन को “यूनेस्को की मेमोरी ऑफ द वर्ल्ड एशिया-पैसिफिक रीजनल रजिस्टर” में शामिल किया गया है। यह भारत के लिए गौरव का क्षण है, ये प्रतिष्ठित सम्मान भारत की समृद्ध साहित्यिक विरासत और सांस्कृतिक विरासत का जश्न मनाता है, जो कालातीत ज्ञान और कलात्मक अभिव्यक्तियों की पुष्टि करता है जिन्होंने राष्ट्र की पहचान को आकार दिया है।

भविष्य की पीढ़ियों के लिए कालातीत ज्ञान का संरक्षण

रजिस्टर में इन उत्कृष्ट कृतियों को शामिल करना वैश्विक सांस्कृतिक संरक्षण प्रयासों में एक महत्वपूर्ण कदम है। यह सुनिश्चित करता है कि इन कार्यों के भीतर सन्निहित गहन शिक्षाएं और आख्यान समय और स्थान की सीमाओं को पार करते हुए आने वाली पीढ़ियों को प्रेरित और प्रबुद्ध करते रहें।

साहित्यिक किंवदंतियों की रचनात्मक प्रतिभा का सम्मान

प्रसिद्ध गोस्वामी तुलसीदास द्वारा रचित रामचरितमानस, पंडित विष्णु शर्मा द्वारा रचित पंचतंत्र और आचार्य आनंदवर्धन द्वारा लिखित सहदयालोक-लोकन ने भारतीय साहित्य और संस्कृति को गहराई से प्रभावित किया है। इन साहित्यिक रत्नों ने पाठकों और कलाकारों पर समान रूप से एक अमिट छाप छोड़ी है, जो देश के नैतिक ताने-बाने और कलात्मक अभिव्यक्तियों को आकार देती है।

वैश्विक मान्यता हासिल करने में आईजीएनसीए की महत्वपूर्ण भूमिका

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र (आईजीएनसीए) ने मेमोरी ऑफ द वर्ल्ड कमेटी फॉर एशिया एंड द पैसिफिक (एमओडब्ल्यूसीएपी) की 10वीं बैठक के दौरान इस ऐतिहासिक उपलब्धि को हासिल करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। आईजीएनसीए का प्रतिनिधित्व करने वाले प्रोफेसर रमेश चंद्र गौर ने सफलतापूर्वक नामांकन प्रस्तुत किए और उनके सांस्कृतिक महत्व पर प्रकाश डाला। मंगोलिया की राजधानी उलानबटार में ये बैठक आयोजित हुई थी, जिसमें संयुक्त राष्ट्र से 38 प्रतिनिधि और 40 पर्यवेक्षक तथा नामांकित एकत्र हुए थे।

सांस्कृतिक संरक्षण और संवर्धन में एक मील का पत्थर

यह उपलब्धि न केवल भारत के साहित्यिक रत्नों का जश्न मनाती है, बल्कि वैश्विक मंच पर राष्ट्र की सांस्कृतिक विरासत को संरक्षित करने और बढ़ावा देने के लिए आईजीएनसीए के अटूट समर्पण को भी रेखांकित करती है। यह भारत की साहित्यिक विरासत को आगे बढ़ाने और दुनिया भर में सांस्कृतिक संरक्षण के सामूहिक प्रयासों में योगदान देने के लिए संगठन की प्रतिबद्धता की पुष्टि करता है।

रामचरितमानस, पंचतंत्र और सहर्दयालोक-लोकन के अब प्रतिष्ठित रजिस्टर पर अंकित होने के साथ, भारत के साहित्यिक खजाने ने दुनिया की सबसे महत्वपूर्ण सांस्कृतिक संपत्तियों के बीच अपना सही स्थान हासिल कर लिया है, जिससे आने वाली पीढ़ियों के लिए उनका स्थायी प्रभाव सुनिश्चित हो गया है।

एशिया-प्रशांत के लिए 2024 MOWCAP क्षेत्रीय रजिस्टर

Serial Number  Inscribed Item  Country 
1 Funafuti: The Edgeworth David 1897 Expedition Documents Australia and Tuvalu
2 Sultana’s Dream- by Rokeya S. Hossain Bangladesh
3 Archives Relating to the Chengdu Traditional Teahouses China
4 Huizhou Genealogy Archives China
5 Printing Blocks Housed at the Derge Printing House China
6 The Illustrated Manuscripts of Rāmacaritamānasa of Tulasīdāsa India
7 The Manuscript of the Sahṛdayāloka-Locana: Seminal Text of Indian Poetics India
8 The 15th Century Manuscript of the Pañcatantra Fables India
9 Indarung I, The First Cement Plant in Southeast Asia (1910-1972) Indonesia
10 Indonesian Sugar Research Institute’s Archives 1887-1986: The Role of ISRI’s Research Activities to the World Sugar Industry Indonesia
11 The Tambo Tuanku Imam Bonjol Manuscript Indonesia
12 Al-Tarikh Salasilah Negeri Kedah: Genealogical History of Kedah State Malaysia
13 The Royal Correspondence of Baginda Omar (Surat Persendirian Baginda Omar) Malaysia
14 Family Chart of Hereditary Lords of the Khalkha Mongols, the House of Genghis Khan Mongolia
15 Mongolia’s First Postage Stamps ‘Eldev Ochir’ Mongolia
16 Doctrina Christiana en Lengua Española y Tagala (Christian Doctrine in Spanish and Tagalog), Manila, 1593 Philippines
17 Hinilawod Epic Chant Recordings Philippines
18 Images of Khorezm Oasis by Khudaibergan Devanov (1879-1937) Uzbekistan
19 Turkestan Album” 1871-1872 Uzbekistan
20 Bas-reliefs on the Nine Bronze Urns in Huế Imperial Palace Vietnam

List of Cricket Stadiums in Andhra Pradesh_70.1

FAQs

मंगोलिया की राजधानी का क्या नाम है ?

मंगोलिया की राजधानी उलानबटार है।

TOPICS: