Home   »   इंडियन इम्यूनोलॉजिकल्स ने बच्चों के लिए...

इंडियन इम्यूनोलॉजिकल्स ने बच्चों के लिए खसरा और रूबेला वैक्सीन का अनावरण किया

इंडियन इम्यूनोलॉजिकल्स ने बच्चों के लिए खसरा और रूबेला वैक्सीन का अनावरण किया |_30.1

भारतीय प्रतिरक्षा विज्ञानियों ने खसरा और रूबेला से बच्चों के बचाव के लिए वैक्सीन ‘माबेला’ जारी कर दिया। वियतनाम के पॉलीवैक इंस्टीट्यूट के साथ साझेदारी में विकसित इस वैक्सीन को आईआईएल डिवीजन ह्यूमन बायोलॉजिकल इंस्टीट्यूट के 25वें समारोह के हिस्से के रूप में तमिलनाडु के ऊटी में जारी किया गया। आईआईएल ने बताया कि व्यापक मानव नैदानिक परीक्षणों के माध्यम से यह वैक्‍सीन सुरक्षित और प्रभावी सिद्ध हुआ है। घातक खसरा और रूबेला पर नियंत्रण के लिए इस वैक्‍सीन को जारी करने की तत्काल आवश्यकता थी।

 

सिद्ध सुरक्षा और प्रभावकारिता

माबेला का परिचय कठोर मानव नैदानिक ​​परीक्षणों के बाद आया है, जिससे इसकी सुरक्षा और प्रभावकारिता स्थापित हुई है। वैक्सीन का लॉन्च इन संक्रामक रोगों को नियंत्रित करने की तत्काल आवश्यकता को संबोधित करता है, जो दुनिया भर में लगभग एक लाख बच्चों की जान ले लेता है। माबेला का महत्व सार्वजनिक स्वास्थ्य पर इसके तत्काल प्रभाव से कहीं अधिक है, जो रोकथाम योग्य बीमारियों से निपटने के निरंतर प्रयासों में एक महत्वपूर्ण प्रगति है।

 

वैक्सीन विकास में आईआईएल की विरासत

1998 में स्थापित, HBI भारत में वैक्सीन विकास में सबसे आगे रहा है। उसी वर्ष, संस्थान ने अभयरब नामक देश के “पहले सुरक्षित वेरो-सेल रेबीज वैक्सीन” के स्वदेशी विकास के साथ एक बड़ा मील का पत्थर हासिल किया। इस उपलब्धि ने भारत में रेबीज के लिए दर्दनाक तंत्रिका ऊतक वैक्सीन के उपयोग को चरणबद्ध तरीके से समाप्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। आज, अभयरब विश्व स्तर पर सबसे अधिक बिकने वाली एंटी-रेबीज वैक्सीन के रूप में खड़ा है, जो नवाचार और सार्वजनिक स्वास्थ्य के प्रति संस्थान की प्रतिबद्धता को दर्शाता है।

 

बाल स्वास्थ्य के लिए विविध पोर्टफोलियो

अभयरब की सफलता के आधार पर, एचबीआई ने बच्चों को लक्षित टीकों की एक श्रृंखला पेश की है। इनमें डीपीटी, पेंटावेलेंट वैक्सीन, टीटी (टेटनस टॉक्सॉयड), हेपेटाइटिस-बी, एमआर (खसरा और रूबेला), और टीडी (टेटनस और डिप्थीरिया) शामिल हैं। यह विविध पोर्टफोलियो बच्चों के सामने आने वाली विभिन्न स्वास्थ्य चुनौतियों से निपटने के लिए संस्थान के समर्पण पर जोर देता है और राष्ट्रीय टीकाकरण प्रयासों में महत्वपूर्ण योगदान देता है।

 

खसरा और रूबेला उन्मूलन के लिए वैश्विक स्वास्थ्य में एक मील का पत्थर

माबेला वैक्सीन की शुरूआत खसरा और रूबेला के खिलाफ वैश्विक लड़ाई में एक सराहनीय कदम का प्रतिनिधित्व करती है। चूंकि माबेला रोकथाम योग्य बीमारियों के खिलाफ शस्त्रागार में अपनी जगह लेती है, यह दुनिया भर में स्वस्थ और सुरक्षित समुदायों के लिए आशा की किरण के रूप में कार्य करती है।

 

Find More Miscellaneous News Here

इंडियन इम्यूनोलॉजिकल्स ने बच्चों के लिए खसरा और रूबेला वैक्सीन का अनावरण किया |_40.1

FAQs

खसरा रोग का कारक क्या है?

यह मीजल्स वायरस नामक वायरस के कारण होता है। खसरे के टीके की शुरुआत से पहले खसरा बचपन का एक सामान्य संक्रमण था। प्रभावित व्यक्ति शुरू में बुखार, खांसी, नाक बहने, लाल आँखें और मुंह के अंदर सफेद धब्बे के साथ दिखेंगे।