Home   »   भारतीय सेना को जल्द मिल सकता...

भारतीय सेना को जल्द मिल सकता है इग्ला-एस एयर डिफेंस सिस्टम

भारतीय सेना को जल्द मिल सकता है इग्ला-एस एयर डिफेंस सिस्टम_3.1

भारतीय सेना रूसी इग्ला-एस वेरी शॉर्ट रेंज एयर डिफेंस (वीएसएचओआरएडी) सिस्टम की आसन्न डिलीवरी के साथ अपनी वायु रक्षा क्षमताओं को बढ़ाने के लिए तैयार है। अदानी डिफेंस सिस्टम्स एंड टेक्नोलॉजीज लिमिटेड (एडीएसटीएल) और रूस के रोसोबोरोनेक्सपोर्ट के बीच एक प्रौद्योगिकी हस्तांतरण समझौते की विशेषता वाला यह अधिग्रहण, भारत की रक्षा तैयारियों में एक महत्वपूर्ण प्रगति का प्रतिनिधित्व करता है।

इग्ला-एस मिसाइल प्रणाली

इग्ला-एस, एक कंधे से दागी जाने वाली मिसाइल प्रणाली है, जिसे विमान, हेलीकॉप्टर और ड्रोन जैसे कम ऊंचाई पर उड़ने वाले हवाई खतरों को नजदीक से बेअसर करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यह सेना के शस्त्रागार में एक महत्वपूर्ण वृद्धि है, जो वायु रक्षा नेटवर्क में एक महत्वपूर्ण अंतर को खत्म कर देगा। यह कदम न केवल भारत की रक्षा स्थिति को मजबूत करेगा, बल्कि रक्षा उत्पादन में अधिक आत्मनिर्भरता की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।

खरीद पैकेज में 48 लॉन्चर, 100 मिसाइलें और नाइट विजन गियर और एक परीक्षण सुविधा जैसे पूरक उपकरण शामिल हैं। भारतीय सेना के शस्त्रागार में इसका एकीकरण देश की वायु रक्षा ग्रिड में महत्वपूर्ण कमियों को दूर करता है।

रक्षा विनिर्माण में आत्मनिर्भरता की दिशा में प्रगति

इस अधिग्रहण का एक उल्लेखनीय पहलू भारत में इग्ला-एस सिस्टम की आंशिक असेंबली है, जो रक्षा विनिर्माण में बढ़ी हुई आत्मनिर्भरता की दिशा में एक महत्वपूर्ण प्रगति को रेखांकित करता है। जबकि मिसाइलें रूस से ली गई हैं, विशिष्ट घटकों की स्थानीय असेंबली स्वदेशी उत्पादन क्षमताओं की दिशा में प्रगति का प्रतीक है, जो मेक इन इंडिया पहल के लिए सरकार के दृष्टिकोण के अनुरूप है।

भुगतान विवाद का समाधान और सुव्यवस्थित सहयोग

मई के अंत में इग्ला-एस सिस्टम की प्रत्याशित डिलीवरी भारत और रूस के बीच लंबे समय से चले आ रहे भुगतान विवाद के समाधान के बाद हुई है, जिसने पहले कई रक्षा समझौतों में बाधा उत्पन्न की थी। राष्ट्रीय मुद्राओं के उपयोग के माध्यम से सुगम इस सफलता से दोनों देशों के बीच भविष्य के सहयोग को सुव्यवस्थित करने और द्विपक्षीय रक्षा सहयोग को बढ़ाने की उम्मीद है।

रक्षा क्षमताओं में अतिरिक्त प्रगति

इग्ला-एस अधिग्रहण के अलावा, भारतीय सेना आगामी महीने में दो इजरायली हर्मीस-900 मीडियम एल्टीट्यूड लॉन्ग एंड्योरेंस मानवरहित हवाई वाहनों (यूएवी) में से एक की प्रारंभिक डिलीवरी प्राप्त करने के लिए तैयारी कर रही है। ये प्रगति, घरेलू रक्षा प्रणालियों को विकसित करने के चल रहे प्रयासों के साथ मिलकर, अपने सशस्त्र बलों की क्षमताओं को मजबूत करने और गतिशील भू-राजनीतिक बदलावों के बीच अपनी सुरक्षा की रक्षा करने के लिए भारत की प्रतिबद्धता को रेखांकित करती है।

FAQs

भारतीय थल सेना का मुख्‍यालय कहाँ है?

भारतीय थल सेना का मुख्‍यालय नई दिल्‍ली में स्थित है.

TOPICS: