Home   »   भारतीय सेना ने लागू की नई...

भारतीय सेना ने लागू की नई फिटनेस नीति

भारतीय सेना ने लागू की नई फिटनेस नीति |_30.1

भारतीय सेना गिरते शारीरिक मानकों और जीवनशैली से जुड़ी बीमारियों में वृद्धि को संबोधित करते हुए एक व्यापक नई नीति लागू कर रही है।

भारतीय सेना में गिरते शारीरिक मानकों और जीवनशैली से जुड़ी बीमारियों के बढ़ते प्रसार पर चिंताओं के जवाब में, एक व्यापक नई नीति लागू की गई है। इस नीति का उद्देश्य शारीरिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देना और पूरे बल में मूल्यांकन में एकरूपता सुनिश्चित करना है।

कड़े उपायों का परिचय

नई नीति कर्मियों, विशेषकर अधिक वजन वाले व्यक्तियों के बीच शारीरिक स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं को दूर करने के लिए कड़े उपाय पेश करती है। यदि 30 दिनों के भीतर कोई सुधार नहीं देखा जाता है तो यह त्वरित कार्रवाई का आदेश देता है। इसके अतिरिक्त, यह आर्मी फिजिकल फिटनेस असेसमेंट कार्ड (एपीएसी) पेश करता है, जो शारीरिक फिटनेस स्तरों की निगरानी और रखरखाव के लिए एक मानकीकृत उपकरण है।

भारतीय सेना में वर्तमान शारीरिक स्वास्थ्य मूल्यांकन मानक

वर्तमान मानकों में त्रैमासिक बीपीईटी और पीपीटी मूल्यांकन शामिल हैं, जिसमें विविध शारीरिक कार्य शामिल हैं। बीपीईटी में 5 किमी की दौड़, 60 मीटर की दौड़, क्षैतिज और ऊर्ध्वाधर रस्सी पर चढ़ना और आयु-आधारित समय सीमा के भीतर 9 फीट की खाई को पार करना शामिल है। इसी तरह, फिजिकल प्रोफिशिएंसी टेस्ट में 2.4 किमी दौड़, 5 मीटर शटल, पुश-अप्स, चिन-अप्स, सिट-अप्स और 100 मीटर स्प्रिंट शामिल है। तैराकी का मूल्यांकन वहां किया जाता है जहां सुविधाएं अनुमति देती हैं।

भारतीय सेना ने लागू की नई फिटनेस नीति |_40.1

वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा निरीक्षण

कार्यान्वयन प्रक्रिया में एक महत्वपूर्ण परिवर्तन वरिष्ठ अधिकारियों, मुख्य रूप से ब्रिगेडियर अधिकारियों की भागीदारी है, जो अब मूल्यांकन की देखरेख करते हैं। इस परिवर्तन का उद्देश्य प्रक्रियाओं को सुव्यवस्थित करना और सुसंगत मूल्यांकन मानकों को सुनिश्चित करना है।

शारीरिक स्वास्थ्य पर केंद्रण

इस नीति का प्राथमिक उद्देश्य भारतीय सेना के भीतर शारीरिक स्वास्थ्य से संबंधित चिंताओं को दूर करना है। यह पाठ्यक्रमों, विदेशी पोस्टिंग के दौरान और जीवनशैली से जुड़ी बीमारियों से निपटने में शारीरिक मानकों को बनाए रखने के महत्व पर जोर देता है।

कठोर मूल्यांकन मानदंड

नीति कठोर मूल्यांकन मानदंडों की रूपरेखा तैयार करती है, जिसमें बैटल फिजिकल एफिशिएंसी टेस्ट (बीपीईटी) और फिजिकल प्रोफिशिएंसी टेस्ट (पीपीटी) शामिल हैं। ये परीक्षण कर्मियों के बीच इष्टतम तत्परता सुनिश्चित करने के लिए विभिन्न शारीरिक क्षमताओं, जैसे सहनशक्ति, ताकत और चपलता का मूल्यांकन करते हैं।

आकलन में नए परिवर्धन

मूल्यांकन मानकों को और बढ़ाने के लिए, तैराकी दक्षता परीक्षा, 10 किमी स्पीड मार्च और 32 किमी रूट मार्च जैसे नए परीक्षण शुरू किए गए हैं। ये परीक्षण मौजूदा त्रैमासिक मूल्यांकन के पूरक हैं, जो शारीरिक फिटनेस का व्यापक मूल्यांकन प्रदान करते हैं।

प्रदर्शन मूल्यांकन के साथ एकीकरण

इन मूल्यांकनों के परिणामों को अधिकारियों की वार्षिक गोपनीय रिपोर्ट (एसीआर) में एकीकृत किया जाएगा, जिससे यह सुनिश्चित होगा कि शारीरिक स्वास्थ्य को समग्र प्रदर्शन मूल्यांकन का एक प्रमुख घटक माना जाता है।

जवाबदेही और अनुपालन

प्रत्येक अधिकारी के पास आर्मी फिजिकल फिटनेस असेसमेंट कार्ड होना और 24 घंटे के भीतर परीक्षण परिणाम जमा करना आवश्यक है। वजन मानकों का अनुपालन न करने पर वजन घटाने के लिए लिखित परामर्श और निर्देश दिए जाएंगे, जिसमें सुधार के लिए 30 दिनों की छूट अवधि प्रदान की जाएगी।

शारीरिक मानक बढ़ाना: भारतीय सेना की प्रतिबद्धता

इस नई नीति का कार्यान्वयन भारतीय सेना की अपने कर्मियों के बीच शारीरिक मानकों को अनुकूलित करने और समग्र स्वास्थ्य को बढ़ावा देने की प्रतिबद्धता को रेखांकित करता है। मानकीकृत मूल्यांकन और कड़े उपाय शुरू करके, सेना का लक्ष्य अपने सभी रैंकों में शारीरिक फिटनेस और तत्परता की संस्कृति को बढ़ावा देना है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

1. भारतीय सेना में लागू की गई नई नीति का प्राथमिक उद्देश्य क्या है?

2. यदि अधिक वजन वाले कर्मियों में कोई प्रगति नहीं देखी जाती है तो सुधार के लिए क्या समय सीमा दी गई है?

3. कौन सा परीक्षण नई नीति द्वारा शुरू की गई त्रैमासिक शारीरिक गतिविधि परीक्षण का हिस्सा है?

कृपया अपनी प्रतिक्रियाएँ टिप्पणी अनुभाग में साझा करें!!

भारतीय सेना ने लागू की नई फिटनेस नीति |_50.1

FAQs

भारत का पहला राष्ट्रीय गान कहां पर गाया गया था? (a) मुंबई (b) कोलकाता

भारत का पहला राष्ट्रीय गान कोलकाता में गाया गया था।