Home   »   भारत अगले वर्ष विश्व दूरसंचार मानकीकरण...

भारत अगले वर्ष विश्व दूरसंचार मानकीकरण सभा की मेजबानी करेगा

भारत अगले वर्ष विश्व दूरसंचार मानकीकरण सभा की मेजबानी करेगा |_30.1

भारत 2024 में प्रतिष्ठित विश्व दूरसंचार मानकीकरण असेंबली (डब्ल्यूटीएसए) की मेजबानी करने के लिए तैयार है, जो 5जी और 6जी नेटवर्क की प्रगति की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। केंद्रीय संचार एवं आईटी मंत्री अश्विनी वैष्णव ने वैश्विक प्रौद्योगिकी परिदृश्य में देश के बढ़ते महत्व पर जोर देते हुए इंडिया मोबाइल कांग्रेस 2023 में यह घोषणा की।

 

विश्व दूरसंचार मानकीकरण सभा का महत्व

विश्व दूरसंचार मानकीकरण सभा (डब्ल्यूटीएसए) एक चतुष्कोणीय आयोजन है और आईटीयू मानकीकरण क्षेत्र (आईटीयू-टी) के शासी सम्मेलन के रूप में कार्य करता है। यह संयुक्त राष्ट्र प्रणाली की एक इकाई, अंतर्राष्ट्रीय दूरसंचार संघ द्वारा आयोजित तीन विश्व सम्मेलनों में से एक है। यह आयोजन वैश्विक दूरसंचार मानकों को स्थापित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, जिससे भारत की डब्ल्यूटीएसए की मेजबानी एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर बन जाती है।

 

भारत की तकनीकी प्रगति

मंत्री वैष्णव ने प्रौद्योगिकी अपनाने में भारत की महत्वपूर्ण भूमिका को रेखांकित किया। दुनिया भारत की तकनीकी प्रगति को करीब से देख रही है और डब्ल्यूटीएसए की मेजबानी वैश्विक तकनीकी परिदृश्य में देश के बढ़ते महत्व का प्रमाण है। जैसे-जैसे भारत विभिन्न प्रौद्योगिकी क्षेत्रों में नवाचार और प्रगति कर रहा है, यह वैश्विक तकनीकी पारिस्थितिकी तंत्र में एक प्रमुख खिलाड़ी बन रहा है।

 

कनेक्टिविटी चुनौतियों का समाधान

भारत, कई देशों की तरह, कनेक्टिविटी चुनौतियों का सामना करता है, खासकर दूरदराज और कम सेवा वाले क्षेत्रों में। मंत्री वैष्णव ने इसे संबोधित करने के लिए सरकार की प्रतिबद्धता पर जोर देते हुए इस मुद्दे को स्वीकार किया। डब्ल्यूटीएसए की मेजबानी इन चुनौतियों का समाधान करने और पूरे देश में प्रौद्योगिकी तक व्यापक पहुंच को बढ़ावा देने की दिशा में एक कदम है।

 

दूरसंचार क्षेत्र में भारत का परिवर्तन

मंत्री ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत के दूरसंचार क्षेत्र में बदलाव को रेखांकित किया। उन्होंने उल्लेख किया कि एक दशक पहले, भारत अपने लगभग 98% मोबाइल फोन आयात करता था, लेकिन पिछले वर्ष में, देश ने 90,000 करोड़ रुपये के मोबाइल उपकरणों का निर्यात किया। यह बदलाव विनिर्माण और प्रौद्योगिकी में भारत की बढ़ती ताकत को दर्शाता है, जिससे यह शुद्ध निर्यातक बन गया है।

इसके अलावा, यह नोट किया गया कि दूरसंचार क्षेत्र 2जी स्पेक्ट्रम घोटाले से काफी आगे निकल चुका है, जिसने एक दशक पहले इसकी प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाया था। भारत अब किफायती इंटरनेट डेटा और प्रौद्योगिकी नेतृत्व के लिए एक प्रकाशस्तंभ के रूप में उभरा है।

 

Find More National News Here

 

भारत अगले वर्ष विश्व दूरसंचार मानकीकरण सभा की मेजबानी करेगा |_40.1

FAQs

विश्व दूरसंचार दिवस कब मनाया जाता है?

हर साल 17 मई को विश्व दूरसंचार दिवस मनाया जाता है।