Home   »   ग्लोबल टेररिज्म इंडेक्स 2020: भारत रहा...

ग्लोबल टेररिज्म इंडेक्स 2020: भारत रहा आतंकवाद से सबसे अधिक प्रभावित 8वां देश

 

ग्लोबल टेररिज्म इंडेक्स 2020: भारत रहा आतंकवाद से सबसे अधिक प्रभावित 8वां देश |_50.1

ग्लोबल टेररिज्म इंडेक्स (GTI) 2020 में भारत को 2019 में आतंकवाद से सबसे अधिक प्रभावित देशों की सूची में वैश्विक स्तर पर 8 वें स्थान पर रखा गया है। भारत का GTI स्कोर 10.7 में से 7.353 रहा। भारत में 2019 में आतंकवाद के कारण 277 हत्याए, 439 घायल और 558  घटनाएं दर्ज की गईं। इस सूचकांक में दक्षिण एशिया 2019 में आतंकवाद से सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्र रहा, जहां किसी भी अन्य क्षेत्र की तुलना में सबसे अधिक हत्याएं दर्ज की गईं। इसके अलावा, विश्व स्तर पर आतंकवाद के कारण होने वाली मौतों में 2018 की तुलना में 2019 में 15 प्रतिशत की गिरावट के साथ 13,286 दर्ज की गईं।

WARRIOR 4.0 | Banking Awareness Batch for SBI, RRB, RBI and IBPS Exams | Bilingual | Live Class

भारत के बारे में:

  • जम्मू और कश्मीर आतंकवाद से सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्र रहा, जहां 165 हमलों और 103 मौतों की सूचना प्राप्त हुई। कश्मीर के तीन सबसे सक्रिय समूह जैश-ए-मोहम्मद (JeM), हिजबुल मुजाहिदीन और लश्कर-ए-तैयबा (LeT) हैं।
  • छत्तीसगढ़ भारत में 85 हमलों और माओवादी चरमपंथियों से 53 मौतों के साथ दूसरा सबसे प्रभावित क्षेत्र था।
आतंकवाद से सबसे अधिक प्रभावित देश:
  • अफगानिस्तान 163 देशों में 9.592 के स्कोर के साथ सबसे अधिक आतंकी प्रभावित वाले देश के रूप में सूचकांक में सबसे ऊपर है।
  • इसके बाद क्रमशः दूसरे और तीसरे स्थान पर इराक (8.682) और नाइजीरिया (8.314) हैं।

आतंकवाद से सबसे कम प्रभावित देश:

  • सूचकांक में कतर (0.014) ने 133 वीं रैंक और उसके बाद उज़्बेकिस्तान (0.010) ने 134 वीं रैंक और करीब 29 देशों (0.000 के स्कोर) ने 135 वीं रैंक हासिल की, जिसका मतलब है कि यह आतंकवाद से सबसे कम प्रभावित देश हैं।
ग्लोबल टेररिज्म इंडेक्स (GTI) के बारे में:

आतंकवाद से प्रभावित देशों का आंकलन करने के लिए इंस्टीट्यूट फॉर इकोनॉमिक्स एंड पीस (IEP) द्वारा वार्षिक रूप से ग्लोबल टेररिज्म इंडेक्स प्रकाशित किया जाता है, इसका मुख्यालय ऑस्ट्रेलिया के सिडनी में है।

Find More Ranks and Reports Here

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *