Home   »   भारत-पनामा ने राजनयिकों के प्रशिक्षण में...

भारत-पनामा ने राजनयिकों के प्रशिक्षण में सहयोग बढ़ाने हेतु समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए

भारत-पनामा ने राजनयिकों के प्रशिक्षण में सहयोग बढ़ाने हेतु समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए_3.1

विदेश मंत्री डॉ. सुब्रह्मण्यम जयशंकर ने इंदौर में पनामा की विदेश मंत्री जनैना तेवने मेंकोमो के साथ हुई द्विपक्षीय बैठक के दौरान राजनयिकों के प्रशिक्षण में सहयोग बढ़ाने के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं। यह समझौता 17वें प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन में भाग लेने के लिए आयी पनामा के विदेश मंत्री की यात्रा के दौरान हुआ। विदेश मंत्री डॉ. सुब्रह्मण्यम जयशंकर ने कल इंदौर में कहा कि पनामा की विदेश मंत्री जनैना तेवने मेंकोमो के साथ हुई द्विपक्षीय बैठक में उन्होंने बेहतर आर्थिक, स्वास्थ्य, वित्त और लोगों के बीच संबंधों के अवसरों पर भी चर्चा की।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

पनामा के विदेश मंत्री की भारत यात्रा 23 नवंबर, 2022 को पनामा सिटी में दोनों पक्षों द्वारा दूसरी विदेश कार्यालय परामर्श (एफओसी) आयोजित करने के एक महीने से अधिक समय बाद हो रही है। परामर्श के दौरान, दोनों पक्षों ने व्यापार और निवेश, फार्मास्यूटिकल्स, क्षमता निर्माण, अंतरिक्ष सहयोग और कांसुलर जैसे मुद्दों को कवर करते हुए अपने द्विपक्षीय संबंधों की व्यापक समीक्षा की। दोनों पक्षों ने बहुपक्षीय मंचों में सहयोग पर भी चर्चा की। दोनों पक्ष नई दिल्ली में पारस्परिक रूप से सुविधाजनक तिथि पर परामर्श के अगले दौर को आयोजित करने पर सहमत हुए।

 

पनामा के बारे में

 

पनामा मध्य अमेरिका का सबसे दक्षिणतम राष्ट्र है। यह देश पनामा नहर के लिए जाना जाता है, जो एक मानव निर्मित जलमार्ग है, जिसे 1914 में खोला गया था। यह नहर देश के बीच से गुजरती है, जो कैरेबियन सागर (अटलांटिक) को प्रशांत महासागर से जोड़ती है।

Find More News Related to AgreementsAirbnb Signs MoU with Goa Govt to Promote Inclusive Tourism_80.1

FAQs

विश्व की सबसे लंबी नहर का नाम क्या है?

विश्व की सबसे बड़ी नहर स्वेज नहर है जो मिस्र में है.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *