Home   »   भारत ने नई दिल्ली में पहली...

भारत ने नई दिल्ली में पहली बार भौतिक शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) स्टार्टअप फोरम की मेजबानी की

भारत ने नई दिल्ली में पहली बार भौतिक शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) स्टार्टअप फोरम की मेजबानी की_3.1

स्टार्टअप इंडिया, उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग, वाणिज्य मंत्रालय ने हाल ही में नई दिल्ली में पहली बार शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) स्टार्टअप फोरम के तीसरे संस्करण का आयोजन किया। इससे पहले वर्चुअल रूप से दो संस्करण सफलतापूर्वक आयोजित किये जा चुके हैं। इसका उद्देश्य शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के सदस्य देशों के बीच स्टार्टअप के बारे में बातचीत को बढ़ाना, अधिक रोजगार सृजन और युवाओं को नवाचार समाधान बनाने के लिए प्रोत्साहित करना है।

 

केन्द्रीय वाणिज्य एवं उद्योग राज्य मंत्री सोम प्रकाश का मुख्य भाषण:

 

इस फोरम में सरकारी अधिकारियों, निजी उद्योगों के प्रमुखों और स्टार्टअप्स और इनक्युबेटर्स सहित एससीओ सदस्य देशों के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया। केन्द्रीय वाणिज्य एवं उद्योग राज्य मंत्री सोम प्रकाश ने राष्ट्र की अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने में स्टार्टअप इकोसिस्टम की भूमिका पर मुख्य भाषण दिया। वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग की संयुक्त सचिव श्रीमती मनमीत कौर नंदा ने भारत के स्टार्टअप यात्रा और भारत सरकार द्वारा स्टार्टअप को बढ़ावा देने के लिए की जा रही पहल पर विस्तार से बताया।

 

एससीओ स्टार्टअप फोरम में सहयोग और उद्यमिता:

 

एससीओ सदस्य देशों के साथ विचार-विमर्श का यह अवसर सहयोग और उद्यमिता की भावना पर केंद्रित था। इसका उद्देश्य नवाचार विकास को बढ़ावा देना, विशेष रूप से सामान्य प्लेटफार्मों के निर्माण और एससीओ सदस्य देशों के बीच विचारों का आदान-प्रदान था। इस एजेंडे को बढ़ावा देने और प्राप्त करने के लिए विभिन्न स्टार्टअप्स के बीच द्विपक्षीय बैठकें आयोजित की गईं।

 

स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र के विकास में द्विपक्षीय और बहुपक्षीय अनुबंधों की भूमिका पर कार्यशाला:

 

इसके अतिरिक्त, प्रतिनिधियों ने स्टार्टअप इंडिया द्वारा ‘स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र के विकास में द्विपक्षीय और बहुपक्षीय जुड़ाव की भूमिका’ पर आयोजित एक कार्यशाला में भी भाग लिया। कार्यशाला में सदस्य देशों के बीच घनिष्ठ संबंधों को सुदृढ़ बनाने, स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न माध्यमों को समझने के लिए विचार-विमर्श का एक सत्र भी आयोजित किया गया था।

 

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT), दिल्ली में फाउंडेशन फॉर इनोवेशन एंड टेक्नोलॉजी ट्रांसफर (FITT) का दौरा:

 

प्रतिनिधिमंडल ने भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी), दिल्ली में फाउंडेशन फॉर इनोवेशन एंड टेक्नोलॉजी ट्रांसफर (एफआईटीटी) का दौरा किया। यहां एक स्टार्टअप प्रदर्शनी का आयोजन किया गया था। इस दौरान प्रतिभागियों ने भारत में उद्यमिता के विभिन्न पक्षों को जाना और भारत में अपने व्यावसायों के विस्तार के अवसरों की जानकारी हासिल की। इनक्यूबेटर यात्रा के दौरान भारत में स्केलिंग चरण पर स्टार्टअप का समर्थन करने के लिए वित्त पोषण, मेंटरशिप और अवसरों की बारीकियों को उजागर करने पर भी ध्यान केंद्रित किया गया इस तरह के कार्यक्रमों का नेतृत्व करके, भारत ने नवाचार पहल का विस्तार करने, पूरे पारिस्थितिकी तंत्र को एकजुट करने और अन्य एससीओ सदस्य देशों को इसी तरह के कार्यक्रमों में शामिल होने के लिए प्रेरित किया। इससे पहले, स्टार्टअप इंडिया ने एससीओ सदस्य देशों के लिए विभिन्न पहलों का आयोजन किया था.

 

स्टार्टअप इंडिया द्वारा एससीओ सदस्य देशों के लिए पिछली पहलें:

 

  • एससीओ स्टार्टअप फोरम 2020 : एससीओ स्टार्टअप फोरम ने एससीओ सदस्य देशों के बीच स्टार्टअप के लिए बहुपक्षीय सहयोग और जुड़ाव की नींव रखी।
  • एससीओ स्टार्टअप फोरम 2021: दो दिवसीय फोरम भारतीय संस्कृति का प्रतिनिधित्व करने वाले एक अनुकूलित मंच के माध्यम से वर्चुअल रूप से आयोजित किया गया था। इस दौरान एससीओ स्टार्टअप हब, एससीओ स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र के लिए संपर्क सूत्र लॉन्च किया गया था।
  • फोकस्ड मेंटरशिप प्रोग्राम: एससीओ स्टार्टअप संस्थापकों के बीच क्षमता निर्माण के लिए नामांकित स्टार्टअप के लिए 3 महीने की वर्चुअल मेंटरशिप सीरीज ‘स्टार्टिंग-अप’ का आयोजन किया गया था।

Find More News related to Summits and Conferences

Dehradun to host 3-day "Akash for Life" Space Conference in November_80.1

FAQs

SCO में कुल कितने देश हैं?

एससीओ एक स्थाई अंतर्राष्ट्रीय संगठन है जिसमें आठ सदस्य देश- रूस, चीन, भारत, पाकिस्तान और चार केंद्रीय एशियाई देश (कजाकिस्तान, किर्गिज़स्तान, तजाकिस्तान और उज्बेकिस्तान) शामिल है।