gdfgerwgt34t24tfdv
Home   »   चीन के साथ बढ़ते तनाव के...

चीन के साथ बढ़ते तनाव के बीच भारत ‘क्वाड’ सहयोगियों के साथ मालाबार युद्ध के लिए तैयार

चीन के साथ बढ़ते तनाव के बीच भारत 'क्वाड' सहयोगियों के साथ मालाबार युद्ध के लिए तैयार |_3.1

भारत इस अक्टूबर में बंगाल की खाड़ी में संयुक्त राज्य अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया के साथ प्रतिष्ठित मालाबार नौसैनिक अभ्यास की मेजबानी करने के लिए तैयार है। यह अभ्यास दक्षिण चीन सागर में चीन की आक्रामक कार्रवाइयों और हिंद महासागर क्षेत्र (आईओआर) में उसके बढ़ते प्रभाव के कारण बढ़ते क्षेत्रीय तनाव के बीच हो रहा है। अभ्यास का 28वां संस्करण उन्नत पनडुब्बी रोधी युद्ध पर केंद्रित होगा और इसका उद्देश्य चार देशों के बीच सैन्य अंतर-संचालन को बढ़ाना है।

सैन्य समन्वय और क्षमता में वृद्धि

भारत के पूर्वी समुद्री तट पर आयोजित होने वाले मालाबार अभ्यास में उन्नत पनडुब्बी रोधी युद्ध और व्यापक नौसैनिक युद्धाभ्यास को प्राथमिकता दी जाएगी। रक्षा सूत्रों ने चार भाग लेने वाले देशों के बीच सैन्य अंतर-संचालन को बढ़ावा देने में इसकी महत्वपूर्ण भूमिका पर प्रकाश डाला है।

जटिल सामरिक परिदृश्य और रणनीतिक उद्देश्य

इस अभ्यास में सतही युद्ध, विमान-रोधी अभियान और पनडुब्बी-रोधी युद्ध में जटिल अभ्यास शामिल होंगे। इन गतिविधियों का उद्देश्य युद्ध कौशल को निखारना और हिंद-प्रशांत क्षेत्र में समुद्री सुरक्षा के लिए महत्वपूर्ण संयुक्त परिचालन रणनीति को मजबूत करना है।

ऐतिहासिक विकास और क्षेत्रीय महत्व

1992 में भारत और अमेरिका के बीच द्विपक्षीय पहल के रूप में शुरू हुआ मालाबार अभ्यास जापान और ऑस्ट्रेलिया के नियमित प्रतिभागियों के साथ एक बहुराष्ट्रीय प्रयास के रूप में विकसित हुआ है। हाल के संस्करण सिडनी और योकोसुका के तटों पर आयोजित किए गए हैं, जो क्षेत्रीय स्थिरता सुनिश्चित करने और समुद्री व्यापार मार्गों की सुरक्षा में इसके बढ़ते रणनीतिक महत्व को रेखांकित करते हैं।

तरंग शक्ति और बहु-राष्ट्र वायु युद्ध तत्परता

मालाबार अभ्यास के अलावा, भारत अगस्त-सितंबर में अपने पहले तरंग शक्ति वायु युद्ध अभ्यास की मेज़बानी करेगा। इस अभ्यास में न केवल क्वाड सदस्य बल्कि यूके, फ्रांस, जर्मनी, यूएई और सिंगापुर जैसे देशों की वायु सेनाएँ भी शामिल होंगी, जो वायु युद्ध क्षमताओं को बढ़ाने में व्यापक अंतर्राष्ट्रीय सहयोग का संकेत देती हैं।

चीन की रणनीतिक महत्वाकांक्षाओं पर बढ़ती चिंताएँ

इन सैन्य अभ्यासों की पृष्ठभूमि में दक्षिण चीन सागर में चीन के आक्रामक युद्धाभ्यास और हिंद महासागर में उसके बढ़ते रणनीतिक हितों पर गहरी चिंताएँ शामिल हैं। भारत की भूमि सीमाओं और पूर्वी अफ्रीका में विकास में भी इसी तरह की रणनीति देखी जा रही है।

 

FAQs

चीन की राजधानी क्या है?

चीन की राजधानी बीजिंग है.