Home   »   भारत ने विदेशी बंदरगाह परिचालन का...

भारत ने विदेशी बंदरगाह परिचालन का विस्तार किया

भारत ने विदेशी बंदरगाह परिचालन का विस्तार किया_3.1

क्षेत्र में चीन के बढ़ते प्रभाव का मुकाबला करने के लिए एक रणनीतिक कदम के रूप में, भारत ने बांग्लादेश में मोंगला बंदरगाह के प्रबंधन पर अपनी नज़रें गड़ा दी हैं। ईरान में चाबहार और म्यांमार में सित्तवे की सफलताओं के बाद, भारत अपने विदेशी बंदरगाह परिचालन का विस्तार करके अपने वाणिज्यिक और सुरक्षा हितों को और मज़बूत करना चाहता है।

चीन की रणनीतिक उपस्थिति का मुकाबला

चाबहार और सित्तवे में अपने प्रयासों के साथ-साथ मोंगला बंदरगाह को संचालित करने में भारत की रुचि, क्षेत्र में चीन की रणनीतिक उपस्थिति को संतुलित करने के लिए एक जानबूझकर किया गया प्रयास है। चीन भी बंदरगाह के संचालन पर नज़र रख रहा है, इसलिए भारत का यह कदम महत्वपूर्ण समुद्री मार्गों को सुरक्षित करने में उसके सक्रिय रुख को दर्शाता है।

रणनीतिक चर्चाएँ आगे: मोदी-हसीना की बैठक और संभावित वार्ताएँ

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी आगामी बैठकों के दौरान बांग्लादेशी प्रधानमंत्री शेख हसीना के साथ मोंगला बंदरगाह के प्रबंधन में भारत की रुचि पर चर्चा करेंगे। यह चर्चा द्विपक्षीय संबंधों और क्षेत्रीय भू-राजनीति में बंदरगाह के प्रबंधन के महत्व को रेखांकित करती है।

परिचालन विस्तार

इंडिया पोर्ट्स ग्लोबल लिमिटेड (आईपीजीएल) भारत के अंतर्राष्ट्रीय बंदरगाह संचालन के लिए पसंदीदा इकाई के रूप में उभरी है, जिसकी मोंगला पोर्ट को प्रबंधित करने की योजना है। बातचीत चल रही है, और आईपीजीएल ने पहले ही बंदरगाह पर मूल्यांकन कर लिया है। मोंगला पोर्ट अथॉरिटी इस प्रस्ताव का मूल्यांकन करेगी, जिसमें इसकी लाभप्रदता और दोनों देशों के लिए संभावित लाभों पर विचार किया जाएगा।

भारत ने विदेशी बंदरगाह परिचालन का विस्तार किया_4.1

FAQs

बांग्लादेश की राजधानी क्या है?

ढ़ाका, बांग्लादेश का सबसे बड़ा शहर व राजधानी है।