Home   »   चीन से मुकाबले के लिए 5...

चीन से मुकाबले के लिए 5 अरब डॉलर खर्च करेगा भारत, ऐसे बढ़ाएगा अपनी ताकत

चीन से मुकाबले के लिए 5 अरब डॉलर खर्च करेगा भारत, ऐसे बढ़ाएगा अपनी ताकत |_30.1

हिंद महासागर में चीन की नौसैनिक उपस्थिति का मुकाबला करने के लिए भारत एक नए विमानवाहक पोत में 5 अरब डॉलर का निवेश कर रहा है।

भारत 5 अरब डॉलर के विमानवाहक पोत के साथ अपनी नौसैनिक क्षमताओं को सुदृढ़ करने के लिए तैयार है, जो हिंद महासागर क्षेत्र में चीन के बढ़ते नौसैनिक प्रभाव के प्रति अपनी रणनीतिक प्रतिक्रिया का संकेत है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता वाली रक्षा अधिग्रहण परिषद भारत के दूसरे स्वदेशी विमानवाहक पोत के अधिग्रहण को मंजूरी देने के लिए तैयार है।

मुख्य विवरण

1. रणनीतिक निवेश

  • संभावना है कि रक्षा अधिग्रहण परिषद दूसरे स्वदेशी विमानवाहक पोत के अधिग्रहण को हरी झंडी दे देगी, जिसकी लागत लगभग 400 अरब रुपये (4.8 अरब डॉलर) होगी।
  • इस कदम का उद्देश्य भारत की नौसैनिक शक्ति को बढ़ाना और हिंद महासागर में चीन की बढ़ती नौसैनिक उपस्थिति का मुकाबला करना है।

2. तकनीकी विशिष्टताएँ

  • नए विमान वाहक को 45,000 टन के विस्थापन के साथ कम से कम 28 लड़ाकू जेट और हेलीकॉप्टरों के बेड़े को समायोजित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।
  • विशेष रूप से, वाहक फ्रांसीसी राफेल जेट से लैस होगा, जो उन्नत सैन्य प्रौद्योगिकी के प्रति भारत की प्रतिबद्धता को प्रदर्शित करेगा।

3. शक्ति प्रदर्शन

  • एक दूसरे विमानवाहक पोत के शामिल होने से तीन-वाहक युद्ध समूह के गठन में योगदान होता है, जो हिंद महासागर में भारतीय नौसेना की दुर्जेय उपस्थिति को प्रदर्शित करता है।
  • यह कदम रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण है क्योंकि चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी नेवी इस क्षेत्र में सक्रिय रूप से अपने पदचिह्न का विस्तार कर रही है।

4. भूराजनीतिक प्रभाव

  • एक बड़ा बेड़ा भारत को दूर-दराज के स्थानों में निरंतर उपस्थिति बनाए रखकर समुद्र में प्रभाव डालने में सक्षम बनाता है, जिससे उसकी भू-राजनीतिक स्थिति मजबूत होती है।
  • तीन-वाहक युद्ध समूह एक निवारक के रूप में कार्य करता है और अपने समुद्री हितों की सुरक्षा के लिए भारत की प्रतिबद्धता को मजबूत करता है।

5. हिन्द महासागर का सैन्यीकरण

  • अमेरिका, फ्रांस और जापान सहित विभिन्न देशों के लगभग 125 नौसैनिक जहाजों के साथ, हिंद महासागर में सैन्यीकरण बढ़ रहा है।
  • भारत का सक्रिय दृष्टिकोण 2030 तक 160 और 2035 तक 175 युद्धपोत बनाने के अपने लक्ष्य के अनुरूप है, जिसकी अनुमानित लागत 2 ट्रिलियन रुपये है।

6. रणनीतिक बुनियादी ढांचे का उन्नयन

  • भारत ने अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में रनवे सुविधाओं को उन्नत करने, रात्रि लैंडिंग की अनुमति देने और निगरानी क्षमताओं को बढ़ाने में निवेश किया है।
  • इस रणनीतिक कदम का उद्देश्य दक्षिणी हिंद महासागर में मलक्का, सुंडा और लोम्बोक जैसे प्रमुख जल जलडमरूमध्य की निगरानी करना है।

परीक्षा से सम्बंधित प्रश्न

प्रश्न: भारत एक नए विमानवाहक पोत में 5 अरब डॉलर का निवेश क्यों कर रहा है?

उत्तर: भारत अपनी नौसैनिक क्षमताओं को मजबूत करने और हिंद महासागर में चीन की बढ़ती उपस्थिति का मुकाबला करने के लिए एक नए विमान वाहक में निवेश कर रहा है। इस रणनीतिक कदम का उद्देश्य समुद्री सुरक्षा को बढ़ाना और उभरते भू-राजनीतिक परिदृश्य में भारत को एक महत्वपूर्ण खिलाड़ी के रूप में स्थापित करना है।

प्रश्न: नए विमानवाहक पोत की प्रमुख विशेषताएं क्या हैं?

उत्तर: नए विमान वाहक को पर्याप्त एयर विंग को समायोजित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है, जो कम से कम 28 लड़ाकू जेट और हेलीकॉप्टरों की मेजबानी करने में सक्षम है। 45,000 टन के विस्थापन के साथ, यह भारतीय नौसेना के आकार और क्षमताओं में एक महत्वपूर्ण विस्तार का प्रतिनिधित्व करता है।

प्रश्न: भारत नए वाहक के लिए फ्रांसीसी राफेल जेट का चयन क्यों कर रहा है?

उत्तर: नए वाहक को फ्रांसीसी राफेल जेट से लैस करने का भारत का निर्णय नौसेना संचालन के लिए उन्नत प्रौद्योगिकी का लाभ उठाने की अपनी प्रतिबद्धता को रेखांकित करता है। यह चयन फ्रांस के साथ रणनीतिक साझेदारी और उसके नौसैनिक बेड़े में अत्याधुनिक क्षमताओं को नियोजित करने पर ध्यान केंद्रित करने को दर्शाता है।

प्रश्न: नए वाहक का शामिल होना हिंद महासागर में भारत की नौसैनिक ताकत में किस प्रकार से योगदान देता है?

उत्तर: नया विमानवाहक पोत भारत को हिंद महासागर में ताकत दिखाते हुए एक दुर्जेय तीन-वाहक युद्ध समूह बनाने की स्थिति में रखता है। यह रणनीतिक कदम भारत को पूरे क्षेत्र में लगातार प्रभाव डालने की अनुमति देता है, विशेषकर जब हिंद महासागर में चीन की नौसैनिक उपस्थिति बढ़ती है।

प्रश्न: बढ़ती क्षेत्रीय प्रतिस्पर्धा के बीच भारत की दीर्घकालिक नौसैनिक रणनीति क्या है?

उत्तर: भारत एक मजबूत नौसैनिक बल की कल्पना करता है, जिसमें 2030 तक 160 और 2035 तक 175 युद्धपोत रखने की योजना है, जिसके लिए 2 ट्रिलियन रुपये के पर्याप्त निवेश की आवश्यकता होगी। यह दीर्घकालिक रणनीति अपनी नौसैनिक क्षमताओं को आधुनिक बनाने और क्षेत्र में बढ़ती समुद्री प्रतिस्पर्धा का जवाब देने की भारत की प्रतिबद्धता के अनुरूप है।

Find More Defence News Here

चीन से मुकाबले के लिए 5 अरब डॉलर खर्च करेगा भारत, ऐसे बढ़ाएगा अपनी ताकत |_40.1

FAQs

दिव्यांग बच्चों के लिए आंगनवाड़ी प्रोटोकॉल किसने लॉन्च किया?

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास तथा अल्पसंख्यक कार्य मंत्री श्रीमती स्मृति जुबिन ईरानी ने लॉन्च किया।

TOPICS: