Home   »   कोऑपरेटिव सेक्टर में विश्व का सबसे...

कोऑपरेटिव सेक्टर में विश्व का सबसे बड़ा खाद्यान्न संग्रह कार्यक्रम: भारत सरकार की महत्वपूर्ण पहल

कोऑपरेटिव सेक्टर में विश्व का सबसे बड़ा खाद्यान्न संग्रह कार्यक्रम: भारत सरकार की महत्वपूर्ण पहल |_30.1

भारत सरकार ने हाल ही में सहकारी क्षेत्र में खाद्यान्न भंडारण क्षमता का विस्तार करने के उद्देश्य से 1 लाख करोड़ रुपये की एक ग्राउंडब्रेकिंग योजना को मंजूरी दी है। लगभग 1,450 लाख टन की वर्तमान अनाज भंडारण क्षमता के साथ, यह पहल अगले पांच वर्षों में 700 लाख टन भंडारण जोड़ना चाहती है, अंततः 2,150 लाख टन की कुल क्षमता तक पहुंच जाएगी। सूचना और प्रसारण मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने इस योजना को सहकारी क्षेत्र में “दुनिया का सबसे बड़ा खाद्यान्न भंडारण कार्यक्रम” बताया है।

इस योजना के प्राथमिक लक्ष्यों में से एक अपर्याप्त भंडारण सुविधाओं से जुड़ी चुनौतियों का समाधान करना है, जो अक्सर किसानों द्वारा खाद्यान्न की खराब और संकट की बिक्री का कारण बनता है। देश भर के हर ब्लॉक में 2,000 टन की क्षमता वाले गोदामों का निर्माण करके, सरकार का उद्देश्य उचित भंडारण बुनियादी ढांचे की कमी के कारण खाद्यान्न को होने वाले नुकसान को कम करना है।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

योजना के प्रभावी कार्यान्वयन को सुनिश्चित करने के लिए, एक अंतर-मंत्रालयी समिति की स्थापना की जाएगी। यह समिति कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय, उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय और खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय सहित विभिन्न मंत्रालयों के बीच समन्वय की सुविधा प्रदान करेगी। इन मंत्रालयों के प्रयासों को मिलाकर, सरकार का उद्देश्य सहकारी क्षेत्र में भंडारण योजना को अनुकूलित करना है।

भारत दुनिया के सबसे बड़े खाद्यान्न उत्पादकों में से एक है, जिसका वार्षिक उत्पादन लगभग 3,100 लाख टन है। हालांकि, मौजूदा भंडारण बुनियादी ढांचा कुल उपज का लगभग 47 प्रतिशत ही समायोजित कर सकता है। इससे फसल कटाई के बाद नुकसान होता है और इष्टतम बफर स्टॉक बनाए रखने के प्रयासों में बाधा आती है। नई योजना का उद्देश्य भंडारण क्षमता में उल्लेखनीय वृद्धि करके और अपव्यय को कम करके इस उत्पादन और भंडारण अंतर को पाटना है।

Find More News Related to Schemes & Committees

 

कोऑपरेटिव सेक्टर में विश्व का सबसे बड़ा खाद्यान्न संग्रह कार्यक्रम: भारत सरकार की महत्वपूर्ण पहल |_40.1

FAQs

सूचना और प्रसारण मंत्री कौन हैं ?

सूचना और प्रसारण मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर हैं।