Home   »   आईआईटी मद्रास और मंडी के शोधकर्ताओं...

आईआईटी मद्रास और मंडी के शोधकर्ताओं को जैव प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि

आईआईटी मद्रास और मंडी के शोधकर्ताओं को जैव प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि |_30.1

प्रतिष्ठित भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) मद्रास और मंडी के शोधकर्ताओं ने जैव प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल की है।

प्रतिष्ठित भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) मद्रास और मंडी के शोधकर्ताओं ने जैव प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल की है। उन्होंने कैंसर रोधी दवा कैंप्टोथेसिन (सीपीटी) के उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए पौधों की कोशिकाओं को सफलतापूर्वक चयापचय रूप से इंजीनियर किया है।

लुप्तप्राय पौधों के संरक्षण की चुनौती को संबोधित करना

सीपीटी, पारंपरिक रूप से लुप्तप्राय पौधे नाथापोडाइट्स निमोनियाना से निकाला जाता है, जो पौधे की घटती आबादी के कारण चिंता का विषय रहा है। इंटरनेशनल यूनियन फॉर कंजर्वेशन ऑफ नेचर ने पिछले दशक में इसकी आबादी में 20% की कमी को ध्यान में रखते हुए इस प्रजाति को रेड लिस्ट में डाल दिया है। आईआईटी शोधकर्ताओं द्वारा किया गया यह विकास औषधीय उत्पादन और पौधों के संरक्षण दोनों के लिए एक महत्वपूर्ण समाधान के रूप में सामने आया है।

सतत उत्पादन के लिए नवीन अनुसंधान

2021 में प्रकाशित एक अभूतपूर्व शोध पत्र में, आईआईटी मद्रास के शोधकर्ताओं ने सीपीटी उत्पादन के लिए एक टिकाऊ और उच्च उपज वाले सूक्ष्म जीव विकल्प की पहचान की। आईआईटी मद्रास में प्लांट सेल टेक्नोलॉजी लैब ने कम्प्यूटेशनल टूल का उपयोग करके एन. निमोनियाना प्लांट कोशिकाओं के लिए एक जीनोम-स्केल मेटाबोलिक मॉडल विकसित किया।

नवप्रवर्तन के लिए टीम

यह उल्लेखनीय उपलब्धि विशेषज्ञों की एक टीम के सहयोगात्मक प्रयासों का परिणाम थी। आईआईटी मद्रास में बायोटेक्नोलॉजी विभाग के प्रोफेसर कार्तिक रमन और स्मिता श्रीवास्तव, कम्प्यूटेशनल सिस्टम्स बायोलॉजी लैब के सरयू मुरली और माज़िया इब्राहिम और आईआईटी मंडी में मेटाबोलिक सिस्टम्स बायोलॉजी लैब के श्याम के. मसाकापल्ली और शगुन सैनी के साथ मिलकर इस शोध का नेतृत्व किया।

फंडिंग और मान्यता

विज्ञान और इंजीनियरिंग बोर्ड (एसईआरबी) और विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग ने इस शोध के लिए आवश्यक धन मुहैया कराया, जिसे प्रतिष्ठित सहकर्मी-समीक्षा पत्रिका, फ्रंटियर्स ऑफ प्लांट साइंस में प्रकाशित किया गया था।

उन्नत एवं टिकाऊ औषधि उत्पादन

प्रमुख अन्वेषक स्मिता श्रीवास्तव ने उन्नत और टिकाऊ दवा उत्पादन सुनिश्चित करने के लिए चयापचय और बायोप्रोसेस इंजीनियरिंग सिद्धांतों के एकीकरण पर जोर दिया। यह दृष्टिकोण न केवल नवोन्मेषी है बल्कि बढ़ती बाजार मांग को भी कुशलतापूर्वक पूरा करता है।

वाणिज्यिक व्यवहार्यता का भविष्य

अनुसंधान सीपीटी उत्पादन को बढ़ाने के लिए संयंत्र में कुछ जीनों को अत्यधिक व्यक्त करने पर केंद्रित है, जो कि अधिक यातायात प्रवाह की अनुमति देने के लिए सड़कों को चौड़ा करने के अनुरूप है। लक्ष्य इस प्रक्रिया को तीन से पांच वर्षों के भीतर व्यावसायिक रूप से व्यवहार्य बनाना है, जिससे इस महत्वपूर्ण कैंसर दवा के निर्माण के तरीके में क्रांतिकारी परिवर्तन आएगा।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

Q1. आईआईटी मद्रास और मंडी के शोधकर्ताओं ने क्या महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल की?
(A) एक नए कैंसर उपचार का विकास
(B) सीपीटी उत्पादन बढ़ाने के लिए पादप कोशिकाओं की मेटाबोलिक इंजीनियरिंग
(C) एक नई पौधों की प्रजाति की खोज
(D) सीपीटी के लिए एक सिंथेटिक विकल्प का निर्माण

Q2. सीपीटी के निष्कर्षण के लिए पारंपरिक रूप से किस लुप्तप्राय पौधे का उपयोग किया जाता है?
(A) एज़ाडिराक्टा इंडिका
(B) नाथापोडाइट्स निमोनियाना
(C) ओसीमम सैंक्टम
(D) विथानिया सोम्नीफेरा

Q3. सीपीटी उत्पादन के लिए 2021 में आईआईटी मद्रास के शोधकर्ताओं द्वारा प्रकाशित प्रमुख खोज क्या थी?
(A) एक नई रासायनिक संश्लेषण विधि
(B) एक टिकाऊ और उच्च उपज देने वाला सूक्ष्म जीव विकल्प
(C) एक नया पौधा संकर
(D) एक उन्नत निष्कर्षण तकनीक

Q4. आईआईटी मद्रास से इस परियोजना में शामिल प्रमुख शोधकर्ता कौन थे?
(A) कार्तिक रमन और स्मिता श्रीवास्तव
(B) रघुराम राजन और अमर्त्य सेन
(C) वेंकटरमन रामकृष्णन और सी. वी. रमन
(D) अनिल काकोडकर और ए. पी. जे. अब्दुल कलाम

Q5. इस शोध के लिए किस विभाग ने धन उपलब्ध कराया?
(A) भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद
(B) विज्ञान और इंजीनियरिंग बोर्ड (एसईआरबी) और विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग
(C) स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय
(D) फार्मास्यूटिकल्स विभाग

Q6. प्रमुख अन्वेषक स्मिता श्रीवास्तव ने उन्नत और टिकाऊ दवा उत्पादन की कुंजी के रूप में किस सिद्धांत पर जोर दिया?
(A) आनुवंशिक संशोधन
(B) चयापचय और बायोप्रोसेस इंजीनियरिंग सिद्धांतों का एकीकरण
(C) दवा संश्लेषण में कृत्रिम बुद्धि का उपयोग
(D) नैनो टेक्नोलॉजी का कार्यान्वयन

Q7. सीपीटी उत्पादन के संदर्भ में इस शोध का प्राथमिक लक्ष्य क्या है?
(A) पारंपरिक निष्कर्षण विधियों को पूरी तरह से प्रतिस्थापित करना
(B) कुछ जीनों को अत्यधिक अभिव्यक्त करके उत्पादन बढ़ाना
(C) सीपीटी का सिंथेटिक संस्करण बनाना
(D) विश्व स्तर पर सीपीटी निर्यात करना

कृपया अपनी प्रतिक्रियाएँ टिप्पणी अनुभाग में साझा करें।

 

 

आईआईटी मद्रास और मंडी के शोधकर्ताओं को जैव प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि |_40.1

FAQs

केंद्रीय युवा मामले और खेल मंत्री कौन हैं?

केंद्रीय युवा मामले और खेल मंत्री अनुराग ठाकुर जी हैं।